एडवांस्ड सर्च

माकपा कार्यकर्ता की हत्या में RSS के पांच स्वयंसेवकों को उम्रकैद

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आरएल बीजू ने हत्या, दंगा और अन्य मामलों में दोषी पाए गए 48 वर्षीय शंकरन मास्टर, 38 वर्षीय विजेश, 48 वर्षीय प्रकाशन और 40 वर्षीय काव्येश पर 50000-50000 रुपये का जुर्माना भी लगाया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 23 May 2019
माकपा कार्यकर्ता की हत्या में RSS के पांच स्वयंसेवकों को उम्रकैद Murder

भाजपा और कम्युनिस्ट पार्टियों के समर्थकों के बीच हिंसक झड़पों के लिए चर्चा में रहने वाले केरल से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए बुरी खबर है. माकपा के एक कार्यकर्ता की हत्या के मामले में एक स्थानीय अदालत ने बुधवार को संघ के 5 स्वयंसेवकों को दोषी करार देते हुए कठोर आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

हत्या का यह मामला 13 जून 2006 का है. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश आरएल बीजू ने हत्या, दंगा और अन्य मामलों में दोषी पाए गए 48 वर्षीय शंकरन मास्टर, 38 वर्षीय विजेश, 48 वर्षीय प्रकाशन और 40 वर्षीय काव्येश पर 50000-50000 रुपये का जुर्माना भी लगाया.

वल्सान समेत 11 रिहा

अदालत ने इसी मामले में आरोपी स्वयंसेवक वल्सान थिलेनकेरी समेत 11 अन्य को रिहा कर दिया. इन सभी पर माकपा कार्यकर्ता केके याकूब पर बम से हमला करने का आरोप था. लगभग 13 वर्ष लंबी चली मामले की सुनवाई के दौरान अभियोजन और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद 5 आरोपियों को दोषी ठहराया और अन्य को दोषमुक्त कर दिया.

बता दें कि वाम दलों के गढ़ केरल में भाजपा वर्षों से पांव जमाने की कोशिश कर रही है. इस प्रयास में दोनों दलों के समर्थकों के बीच कई दफे खूनी संघर्ष हो चुका है. 2007 में ऐसी ही एक घटना में सीपीएम के एक अन्य कार्यकर्ता की हत्या हुई थी जिसमें पिछले हफ्ते ही आरएसएस और बीजेपी के 7 कार्यकर्ताओं को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay