एडवांस्ड सर्च

5 मर्डर, अलग-अलग जगह डेड बॉडी, मर्डर की वजह जान चौंक जाएंगे आप

पुलिस के मुताबिक चाचिया और राकेश ने इन हत्याओं को अंजाम देने के बाद शवों को चार जगहों पर फेंक दिया. बड़वानी पुलिस को 11 अगस्त को सुबह दो क्षत-विक्षत शव गोई नदी से मिले. उसी शाम पुलिस को बकरोटा से एक महिला का भी क्षत-विक्षत शव मिला.

Advertisement
aajtak.in
हेमेंद्र शर्मा भोपाल, 21 August 2019
5 मर्डर, अलग-अलग जगह डेड बॉडी, मर्डर की वजह जान चौंक जाएंगे आप घटना की जानकारी देते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक वरुण कपूर

  • मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में एक ही परिवार के पांच सदस्यों की हत्या
  • इन हत्याओं को अंजाम देने के बाद शवों को चार जगहों पर फेंक दिया था
  • बड़े भाई की हत्या की शक में चाचा के परिवार को मौत के घाट उतार दिया

मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले में पुलिस ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है. पिछले दिनों 11 अगस्त को पाटी थाना क्षेत्र में बहने वाली गोई नदी में दो अज्ञात बच्चों और एक महिला का शव मिला. पुलिस इसे नदी में डूबने के मामला मानकर शव की शिनाख्त करने की कोशिश कर रही थी. इसी बीच, उसे कामयाबी मिली और शव की शिनाख्त हो गई.

पुलिस का माथा ठनका

पुलिस का दावा है कि तीनों शव एक ही परिवार के हैं जिनकी हत्या को अंजाम भी परिवार के ही अन्य सदस्यों ने दिया था. मध्य प्रदेश के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक वरुण कपूर ने बताया कि किरमाबाई, उसके बेटे देव सिंह और सेव सिंह के रूप में इनकी शिनाख्त की गई है. तीनों शव एक ही परिवार के होने पर पुलिस का माथा ठनका. अब तक अलग-अलग लोगों के डूबने का मामला मानकर जांच कर रही पुलिस ने एंगल बदल दिया.

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक वरुण कपूर के मुताबिक 45 साल के राया सिंह, उनकी पत्नी किरमाबाई, उनके दो बेटों सेवा सिंह और देव सिंह, दो साल की बेटी बाया को राया सिंह के भतीजे चाचिया-राकेश ने मौत के घाट उतार दिया था. चाचिया-राकेश ने इन पांच शवों को तीन अलग-अलग जगहों पर फेंक दिया था.

पड़ताल में पता चला कि किरमाबाई, देव सिंह, सेव सिंह के साथ ही उसकी दो साल की बेटी बाया और पति राया सिंह (45) भी 9 अगस्त से लापता हैं. जांच में पता चला कि राया सिंह का समीप ही रहने वाले उसके भतीजे चाचिया और राकेश से 9 अगस्त को झगड़ा हुआ था. इस दौरान चाचिया ने राय सिंह को जान से मारने की धमकी दी थी. पुलिस ने चाचिया और राकेश को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की तो मामला समझ में आया.

पुलिस के मुताबिक चाचिया और राकेश ने इन हत्याओं को अंजाम देने के बाद शवों को चार जगहों पर फेंक दिया. बड़वानी पुलिस को 11 अगस्त को सुबह दो क्षत-विक्षत शव गोई नदी से मिले. उसी शाम पुलिस को बकरोटा से एक महिला का भी क्षत-विक्षत शव मिला.

पुलिस ने बताया, 'तीनों शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी और जांच-पड़ताल जारी रही. बाद में पता चला कि तीनों लोगों की हत्या की गई है.' पुलिस को उस समय सुराग मिला जब उसे पता चला कि जिले के बकरोटा गांव का एक पूरा परिवार लापता है. पुलिस धार जिले के कुक्षी में काम करने वाले राया सिंह के बड़े बेटे को बड़वानी लाई जिसने अपने परिवार के सदस्यों की शिनाख्त की.

पुलिस की कड़ी पूछताछ में चाचिया सिंह टूट गया और हत्या की बात कबूल कर ली. पुलिस के मुताबिक चाचिया सिंह ने बताया कि उसने ही अपने चाचा, चाची और चचेरी भाई-बहन की हत्या की है और अपने भाई राकेश की मदद से इन शवों को ठिकाना लगाने की कोशिश की.

हत्या को क्यों दिया अंजाम

असल में, बड़े भाई की पहाड़ी से गिरकर एक साल पहले मौत हो गई थी. दो छोटे भाइयों चाचिया और राकेश ने हत्या के शक में अपने चाचा-चाची और उनके तीन मासूम बच्चों को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया. नफरत और बदले की भावना ऐसी कि उन्होंने दो किमी दूर ले जाकर चार शवों को वहीं से उफनते नाले में फेंका, जहां से उनके बड़े भाई की जान गई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay