एडवांस्ड सर्च

फायर डिपार्टमेंट में भ्रष्टाचार का खुलासा, FSO और फायर वेंडर गिरफ्तार

पिछले डेढ़ साल से एनओसी के एवज में अवैध वसूली के लिए सात अलग-अलग संगठित गिरोह काम कर रहे हैं. गिरोह ने अपने और अपने सहयोगियों के नाम पर विभिन्न भवनों, विद्यालयों, अस्पतालों, उद्योगों के फायर डिपार्टमेंट से धोखाधड़ी कर 450 से अधिक एनओसी प्राप्त की हैं.

Advertisement
aajtak.in
पुनीत शर्मा मेरठ, 23 September 2019
फायर डिपार्टमेंट में भ्रष्टाचार का खुलासा, FSO और फायर वेंडर गिरफ्तार गिरफ्तार फायर वेंडर

  • सात संगठित गिरोह के खिलाफ एफआईआर दर्ज
  • गिरोह ने डेढ़ साल में ली 450 फर्जी एनओसी

उत्तर प्रदेश के शो-विंडो नोएडा में पुलिस ने फायर एनओसी के लिए काम कर रहे संगठित गिरोह का सनसनीखेज खुलासा किया है. इस मामले में रविवार को फायर स्टेशन फेज-वन के एफएसओ कुलदीप कुमार और एक फायर वेंडर को गिरफ्तार किया गया है.

अब तक की जांच में कुल सात संगठित गिरोह का नाम सामने आया है. इस गिरोह के लोगों ने फर्जीवाड़ा कर अब तक 450 से अधिक एनओसी प्राप्त किए हैं. इनके खिलाफ भी एफआईआर दर्ज की गई है. शीघ्र ही कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती हैं.

सेक्टर-14 ए स्थित पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस में बताया कि सोशल मीडिया पर दो व्यक्तियों के बीच एनओसी के लिए पैसे के लेनदेन की बात हो रही थी. इस पर सीएफओ के अनुरोध पर इस मामले की जांच सीओ प्रथम श्वेताभ पांडेय से कराई गई. 21 सितंबर को अपनी जांच रिपोर्ट में सीओ प्रथम ने कहा कि पूछताछ में एफएसओ कुलदीप कुमार और अरविंद गुप्ता ने स्वीकार किया कि ऑडियो में उनकी ही आवाज है.

पूछताछ में अरविंद गुप्ता ने बताया कि ऑडियो क्लिप में सेक्टर-48 स्थित मदरहुड हॉस्पिटल की बिल्डिंग को फायर सेफ्टी एनओसी देने के लिए एफएसओ को 80 हजार रुपये देने की बात हो रही है. यह भी कहा गया कि कुलदीप कुमार ने मदरहुड हॉस्पिटल का भ्रमण किया था और उसमें कुछ कमियां पाई गई थी. उसी के एवज में उन्होंने पैसे की मांग की थी.

यह हॉस्पिटल आरएचईए हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड से संबंधित है. उसमें पैसे के लेनदेन की जो बातचीत हो रही है. एसएसपी ने बताया कि जांच में कुलदीप कुमार और अरविंद गुप्ता पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोप शुरुआती जांच में सही पाए गए. सीओ विमल कुमार ने एफएसओ कुलदीप कुमार और फायर वेंडर अरविंद गुप्ता के खिलाफ थाना सेक्टर-20 में एफआईआर दर्ज कराई. उसके बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया.

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि सीएफओ अरुण कुमार सिंह ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि पिछले डेढ़ साल से एनओसी के एवज में अवैध वसूली के लिए सात अलग-अलग संगठित गिरोह काम कर रहे हैं. गिरोह ने अपने और अपने सहयोगियों के नाम पर विभिन्न भवनों, विद्यालयों, अस्पतालों, उद्योगों के फायर डिपार्टमेंट से धोखाधड़ी कर 450 से अधिक एनओसी प्राप्त की हैं.

इस बाबत थाना सेक्टर-20 में सात एफआईआर दर्ज कराई गई है. इनमें अनिल शर्मा, मनिराम डांडरियाल, देविका, देविका देसाई, जितेंद्र मोनी, जितेंद्र कुमार गौड़, एमएसपीएल, अरविंद कुमार गुप्ता, अरविंद गुप्ता, विशाल ढिंगरा, मुकेश गुप्ता, इंद्र कुमार मनी और गुरप्रीत के नाम शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay