एडवांस्ड सर्च

राजस्थानः गुर्जरों को मिला 5 फ़ीसदी आरक्षण, आंदोलन खत्म

राजस्थान गुर्जरों को 5 फ़ीसदी आरक्षण देने के फ़ैसले पर राज्यपाल ने मुहर लगा दी है. साथ ही ग़रीब सवर्णों को भी 14 फ़ीसदी आरक्षण दिया गया है.

Advertisement
aajtak.in
शरत कुमारजयपुर, 31 July 2009
राजस्थानः गुर्जरों को मिला 5 फ़ीसदी आरक्षण, आंदोलन खत्म

राजस्थान गुर्जरों को 5 फ़ीसदी आरक्षण देने के फ़ैसले पर राज्यपाल ने मुहर लगा दी है. साथ ही ग़रीब सवर्णों को भी 14 फ़ीसदी आरक्षण का झुनझुना थमाया गया है. राजस्थान पहला राज्य है जहां आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू होगा. इसी के साथ गुर्जरों ने अपना आंदोलन ख़त्म करने का ऐलान भी कर दिया.

गौरतलब है कि सौ से ज़्यादा लोगों की मौत और क़रीब एक हज़ार करोड़ की संपत्ति के नुकसान की क़ीमत के बाद ये फैसला आया है. गुर्जरों को 5 फ़ीसदी आरक्षण मिला, तो अगड़ी जातियों को भी आर्थिक आधार पर 14 फ़ीसदी आरक्षण का रास्ता साफ़ हो गया है.

राजस्थान की गहलोत सरकार ने गुर्जरों को ख़ुश करने के साथ-साथ अगड़ों की नाराज़गी से बचने का जुगाड़ भी कर लिया. हालांकि ये वही फार्मुला है जो वसुंधरा सरकार ने दिया था. लेकिन गहलोत कहते हैं कि आर्थिक आधार पर आरक्षण देने तो उनका सपना था. राजस्थान में अब आरक्षण का कोटा 68 फ़ीसदी हो चुका है. लेकिन बड़ा सवाल ये है कि जब यही होना था, तो सात साल लंबे हिंसक आंदोलन के बाद ये फ़ैसला क्यों लिया गया. 

गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने राजस्थान के राज्यपाल एस.के. सिंह द्वारा आरक्षण विधेयक को मंजूरी देने पर खुशी जाहिर की है. कर्नल बैंसला ने कहा कि "मैं गुर्जर और सर्वसमाज की ओर से राज्यपाल एस.के. सिंह और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आरक्षण विधेयक बिल को मंजूर होने पर धन्यवाद देता हूं." उन्होंने कहा कि करौली के पेंचला गांव में पांच दिनों से जारी महापड़ाव शुक्रवार को विजय उत्सव में बदल जायेगा.

गुर्जर आरक्षण विधेयक को लेकर सरकार से बातचीत करने वाले गुर्जर प्रतिनिधि मंडल में शामिल डा. रुपसिंह ने आरक्षण विधेयक को मंजूरी मिलने पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुये कहा कि हमारा आन्दोलन सफल रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay