एडवांस्ड सर्च

देवरिया जेल में छापा, बाहुबली अतीक अहमद की बैरक से मिले सिम-पैन ड्राइव

उत्तर प्रदेश की देवरिया जिला जेल में जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने मिलकर छापेमारी की. इस दौरान बाहुबली नेता और पूर्व सांसद अतीक अहमद की बैरक से दो सिमकार्ड और चार पैन ड्राइव बरामद की गई हैं.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर देवरिया, 19 July 2018
देवरिया जेल में छापा, बाहुबली अतीक अहमद की बैरक से मिले सिम-पैन ड्राइव डीएम-एसपी ने 300 पुलिसकर्मियों को साथ लेकर जेल में छापेमारी की

उत्तर प्रदेश की देवरिया जिला जेल में जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने मिलकर छापेमारी की. इस दौरान बाहुबली नेता और पूर्व सांसद अतीक अहमद की बैरक से दो सिमकार्ड और चार पैन ड्राइव बरामद की गई हैं. इसके अलावा अन्य कैदियों की बैरक से एक मोबाइल फोन, 2 सिम कार्ड और हैंडमेड चाकू बरामद हुआ है.

देवरिया के डीएम और एसपी ने तीन सौ सिपाहियों, दर्जनों दरोगाओं के साथ जिला जेल में छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम दिया. एसपी ने बताया कि 300 सिपाहियों के साथ छापेमारी की गई है. पूर्व सांसद अतीक अहमद की बैरक से दो सिम, चार पेनड्राइव बरामद की गई हैं. उनकी जांच की जा रही है.

डीएम ने बताया कि काफी दिनों से जेल में मोबाइल होने की सूचना मिल रही थी. जिसके बाद छापे की कार्रवाई की गई है. इस दौरान जेल से एक मोबाइल मिला है. दो अन्य सिम कार्ड और हैंडमेड चाकू भी बरामद किया गया है.

गौरतलब है कि अतीक अहमद को चुनाव के वक्त नैनी जेल से देवरिया की जिला जेल में शिफ्ट किया गया था. इससे पहले वो जमानत पर बाहर था. लेकिन बाद में उसे गिरफ्तार कर लिया गया था.

कौन है अतीक अहमद

अतीक अहमद का जन्म 10 अगस्त 1962 को हुआ था. मूलत वह उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जनपद के रहने वाले है. पढ़ाई लिखाई में उनकी कोई खास रूचि नहीं थी. इसलिये उन्होंने हाई स्कूल में फेल हो जाने के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. कई माफियाओं की तरह ही अतीक अहमद ने भी जुर्म की दुनिया से सियासत की दुनिया का रुख किया था. पूर्वांचल और इलाहाबाद में सरकारी ठेकेदारी, खनन और उगाही के कई मामलों में उनका नाम आया.

17 साल की उम्र में पहला मुकदमा

जवानी की दहलीज पर कदम रखते ही अतीक अहमद के खिलाफ पहला मामला दर्ज हुआ था. और वो मुकदमा था हत्या का. बात 1979 की है जब 17 साल की उम्र में अतीक अहमद पर कत्ल का इल्जाम लगा था. उसके बाद अतीक ने पीछे मुड़कर नहीं देखा. साल दर साल वो जुर्म की किताब के पन्ने भरते जा रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay