एडवांस्ड सर्च

दिल्ली: परिवार का कार से पीछा कर फायरिंग, महिला की मौत

बुधवार सुबह दिल्ली के शालीमार बाग थाना इलाके में कुछ अज्ञात लोगों ने एक महिला को गोली मार दी. महिला अपने परिवार के साथ नानक प्याऊ गुरुद्वारे से घर वापस आ रही थी. बदमाशों ने गाड़ी को ओवरटेक कर गोलियां चलाई.

Advertisement
aajtak.in
अंकुर कुमार / चिराग गोठी / पंकज जैन नई दिल्ली , 25 October 2017
दिल्ली: परिवार का कार से पीछा कर फायरिंग, महिला की मौत मृतक प्रिया मेहरा और उनके पति पंकज मेहरा

दिल्ली दिन ब दिन और ज्यादा अनसेफ होती जा रही है. बुधवार सुबह गुरुद्वारे से लौट रहे परिवार की कार पर बदमाशों ने फायरिंग की. हमलावरों ने एक परिवार का कार से पीछा कर एक महिला को गोली मार दी. गोली लगने से महिला की मौत हो गई. पुलिस को आशंका है यह वारदात लेनदारी में हुए मतभेद के कारण हुई है.

बुधवार सुबह दिल्ली के शालीमार बाग थाना इलाके में कुछ अज्ञात लोगों ने एक महिला को गोली मार दी. महिला अपने परिवार के साथ नानक प्याऊ गुरुद्वारे से घर वापस आ रही थी. बदमाशों ने गाड़ी को ओवरटेक कर गोलियां चलाई.

वारदात के बाद महिला को तुरंत रोहि‍णी के सरोज हॉस्पिटल ले जाया गया. अस्पताल में उनकी मौत हो गई. महिला रोहिणी सेक्टर 15 की रहने वाली थी. शालीमार बाग थाना पुलिस मामले की जांच कर रही है. पुलिस ने बताया कि पहली नजर में वारदाता की वजह पैसे की लेनदेन नजर आ रही है.

आपको बता दें कि कार में पति पत्नी और दो साल का मासूम बच्चा था. गोली महिला की गर्दन में लगी और मौत हो गई. मृतक महिला का नाम प्रिया मेहरा है और उम्र करीब तीस साल है. महिला के पति पकंज मेहरा का आरोप है कि उनके ऊपर कर्ज लौटाने का काफी दबाव था.पंकज मेहरा पहाड़गंज में बिजनेस करते हैं और पहाड़गंज में किंग बार के मालिक हैं. प्रिया मेहरा हाउस वाइफ थीं. उनका एक बेटा नैश है.

महिला के पति ने पांच लाख रुपये सोनीपत के एक व्यक्ति से उधार लिए थे. उसके बाद ब्याज दर बढ़ाकर चालीस लाख रुपये बना दिये गए. पुलिस को शक है कि उसी मामले में हत्या हुई है. पंकज ने बताया कि महिला को गोली मारने के बाद बदमाशों की रिवाल्वर में गोली फंस गई. ऐसे में पंकज मेहरा बाल बाल बच गए. पंकज के अनुसार बदमाशों का इरादा पूरे परिवार को खत्म करने का नजर आ रहा था.

परिवार पुलिस और अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगा रहा है. परिवार के मुताबिक गोली लगने की हालत में महिला को अस्पताल लाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसका इलाज करने से मना कर दिया. परिवार के मुताबिक डॉक्टरों ने कहा कि जब तक पुलिस नहीं आती है तब तक इलाज नहीं होगा. वहीं दूसरी तरफ पुलिस को सूचना देने पर पुलिस इस पूरे मामले में एक थाने से दूसरे थाने का मामला बताकर कार्रवाई करने में देरी करती रही.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay