एडवांस्ड सर्च

अवैध हथियारों का हब बनी दिल्ली, 2018 में 35 फीसदी ज्यादा असलाह बरामद

Delhi police annual data 2018 में अवैध हथियारों से जुडे कुल 1540 मामले दर्ज हुए. जिनमें 1901 लोग गिरफ्तार हुए. साथ ही 1905 फायर आर्म्स बरामद किए गए.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर/ चिराग गोठी नई दिल्ली, 10 January 2019
अवैध हथियारों का हब बनी दिल्ली, 2018 में 35 फीसदी ज्यादा असलाह बरामद दिल्ली पुलिस का दावा है कि साल 2018 में घटनाओं के दौरान हथियारों का इस्तेमाल कम हुआ

दिल्ली में अवैध हथियारों का कारोबार और तस्करी धड़ल्ले से हो रही है. पुलिस इसे पूरी तरह से रोक पाने में नाकाम साबित हो रही है. यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि खुद इस बात की गवाही दे रहे हैं दिल्ली पुलिस के आंकड़े. जिनके मुताबिक साल 2018 में 1905 हथियार पुलिस ने जब्त किए हैं. जो वर्ष 2017 के मुकाबले करीब 35 फीसदी ज्यादा है.

दरअसल, साल 2018 में अवैध हथियारों से जुडे कुल 1540 मामले दर्ज हुए. जिनमें 1901 लोग गिरफ्तार हुए. साथ ही 1905 फायर आर्म्स बरामद किए गए. ये आंकड़े यह दर्शाने के लिए काफी हैं कि दिल्ली में बड़ी मात्रा में हथियार पकड़े जा रहे हैं, मामले भी दर्ज हो रहे हैं और आरोपी भी गिरफ्तार हो रहे हैं. लेकिन फिर भी बड़े पैमाने पर इन हथियारों सप्लाई हो रही है. हथियार आखिर में बदमाशों तक पहुंच रहे हैं, जिससे वे वारदातों को अंजाम दे रहे हैं.

यह भी साफ है कि ज्यादातर बरादम किए गए हथियार बिहार के मुंगेर और मध्य प्रदेश के धार और खरगोन से लाए गए हैं. साफ है कि कहीं ना कहीं पुलिस पूरी तरह से इनके नेटवर्क को ख़त्म करने में नाकाम साबित हो रही है. हालांकि पुलिस ये भी दावा कर रही है कि आपराधिक घटनाओं में हथियारों का इस्तेमाल साल 2017 के मुकाबले 2018 में कम हुआ.

पुलिस के मुताबिक साल 2017 में ऐसे 848 मामले सामने आए थे, जिनमें हथियारों का इस्तेमाल हुआ. जबकि साल 2018 में 752 मामले सामने आए हैं. लेकिन कहीं ना कहीं अगर बात की जाए हथियारों की बरामदगी की, तो साल 2018 में 35 फ़ीसदी ज्यादा हथियार बरामद किए गए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay