एडवांस्ड सर्च

मोतीनगर हत्याकांडः मुस्लिमों ने हमलावरों से लड़कर बचाया था पिता-पुत्र को

दिल्ली के मोती नगर में हमले के दौरान एक मुस्लिम परिवार ने दिलेरी दिखाकर बिजनसमैन त्यागी को बचाने की कोशिश की थी. रियाज अहमद और उनके पिता मोहम्मद मुर्तजा ने हमलावरों से लड़कर खून से लथपथ 51 वर्षीय बिजनसमैन और उनके बेटे को बचाया था. रियाज ने ही दोनों पीड़ितों को अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां बिजनसमैन ने सोमवार की सुबह दम तोड़ दिया था.

Advertisement
अनुज मिश्रा [Edited by: शिवेंद्र राय]नई दिल्ली, 15 May 2019
मोतीनगर हत्याकांडः मुस्लिमों ने हमलावरों से लड़कर बचाया था पिता-पुत्र को गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलने पहुंचा पीड़ित परिवार

पिछले दिनों राजधानी दिल्ली में एक जघन्य आपराधिक घटना घटी. दिल्ली के मोती नगर में बेटी से छेडख़ानी का विरोध करने पर पिता ध्रुव त्यागी की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी. इस घटना के बाद  सियासत तेज हो गई और आरोपियों के धर्म के आधार पर घटना को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिशें हुईं. लेकिन इन सबके बीच एक ऐसा सच भी सामने आया है, जो इस माहौल में राहत देने वाला है.

दरअसल, हमले के दौरान एक मुस्लिम परिवार ने दिलेरी दिखाकर बिजनसमैन को बचाने की कोशिश की थी. रियाज अहमद और उनके पिता मोहम्मद मुर्तजा ने हमलावरों से लड़कर खून से लथपथ 51 वर्षीय बिजनसमैन और उनके बेटे को बचाया था. रियाज ने ही दोनों पीड़ितों को अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां बिजनसमैन ने सोमवार की सुबह दम तोड़ दिया था.

इस वारदात में बेटा अनमोल घायल हुआ था जिसका इलाज फिलहाल अस्पताल चल रहा है. इस घटना के बाद से पूरा इलाका वारदात से सन्न है. इलाके में पुलिस की एक टीम तैनात कर दी गई है. हालांकि सियासत अब भी जारी है. अब ध्रुव त्यागी के घर नेताओं का आना जाना शुरू हो गया है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलने पहुंचा पीड़ित परिवार.

 इसी बीच  पीड़ित परिवार आज गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलने पहुचा. परिवार के साथ जेडीयू नेता के सी त्यागी भी मौजूद थे. साथ ही साथ इसी मामले में गृहमंत्री से मिलने के लिए बीजेपी नेता विजय गोयल और दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा भी पहुँचे. परिवार का कहना है कि वो पुलिस की कार्यवाई से सन्तुष्ट हैं लेकिन मृतक ध्रुव त्यागी ही परिवार में इकलौता कमाने वाले सदस्य थे. ऐसे में उनकी मौत के बाद अब परिवार पर आर्थिक तंगी का संकट मंडरा रहा है.  लिहाजा परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा और नौकरी दी जाये. जेडीयू नेता के सी त्यागी का भी कहना है कि परिवार में मृतक अकेले कमानें वाले थे.  बेटा अस्पताल में है. ऐसे में उन्होंने ने न सिर्फ ये मांग गृहमंत्री से की है बल्कि उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री से भी ये अपील की है कि वो पीड़ित परिवार की मदद करे. ताकि परिवार इस संकट की घड़ी से उबर सके.

 साथ ही साथ बेजेपी नेता विजय गोयल ने भी गृहमंत्री राजनाथ सिंह से ये गुज़ारिश की है कि सरेराह जिस तरह से इस वारदात को अंजाम दिया गया, उसके लिए अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले. पुलिस ने मामले में 2 नाबालिगों समेत 4 लोगों को पकड़ा है. उनकी पहचान मोहम्मद आलम और जहांगीर खान के तौर पर हुई है.इस मामले में पुलिस ने जहांगीर की बीवी और उसकी बेटी को भी गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक, ध्रुव राज त्यागी परिवार के साथ बसई दारापुर इलाके में रहते थे. शनिवार रात वह बेटी और बेटे के साथ जा रहे थे.  तभी  गली में खड़े लोगों से रास्ता मांगने के कारण उनका झगड़ा हो गया.  जिसके बाद आरोपियों ने इस वारदात को आजाम दिया.

ध्रुव त्यागी की हत्या से नाराज लोगों ने इंडिया गेट पर प्रोटेस्ट किया. इस प्रोटेस्ट में ना सिर्फ बसई दारापुर इलाके से बल्कि आसपास के तमाम इलाकों से लोग इकट्ठा हुए.  इनके हाथ में तख्तियां थी. इस दौरान कपिल मिश्रा समेत बीजेपी के सीनियर नेता जय भगवान गोयल भी इस प्रोटेस्ट में शामिल थे.  इस प्रोटेस्ट में ध्रुव त्यागी के पिता वीपी त्यागी भी शामिल थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay