एडवांस्ड सर्च

हिंदू विरोधी लेख पर दलित लेखक को उंगुलियां काटने की धमकी

बढ़ती असहिष्णुता के मुद्दे पर लेखकों की ओर से किए जा रहे देशव्यापी प्रदर्शन के बीच कर्नाटक के दवाणगेरे में हिंदू विरोधी लेखन करने पर एक युवा दलित लेखक पर कुछ लोगों द्वारा हमला किए जाने का मामला सामने आया है. इस हमले में दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं का हाथ हो सकता है.

Advertisement
aajtak.in
BHASHA बेंगलुरू, 24 October 2015
हिंदू विरोधी लेख पर दलित लेखक को उंगुलियां काटने की धमकी कर्नाटक में युवा दलित लेखक हुचंगी प्रसाद पर हमला (इनसेट में)

बढ़ती असहिष्णुता के मुद्दे पर लेखकों की ओर से किए जा रहे देशव्यापी प्रदर्शन के बीच कर्नाटक के दवाणगेरे में हिंदू विरोधी लेखन करने पर एक दलित लेखक पर कुछ लोगों द्वारा हमला किए जाने का मामला सामने आया है. इस हमले में दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं का हाथ हो सकता है.

जाति व्यवस्था के खिलाफ ओडाला किच्चु नाम की किताब लिखने वाले 23 साल के लेखक हुचंगी प्रसाद ने आरोप लगाया कि उन पर बुधवार को हमला किया गया. उन्हें धमकी दी गई कि हिंदुत्व के खिलाफ लिखने पर उनकी अंगुलियां काट दी जाएंगी.

उन्होंने बताया, '21 अक्टूबर की देर रात लोगों का एक समूह मेरे छात्रावास में घुस आया. उन्होंने मुझसे कहा कि मेरी मां बीमार है. इस पर मैं चिंतित हो गया और उनके साथ चल पड़ा. वे मुझे एक जगह लेकर गए और हिंदुत्व एवं जाति व्यवस्था के खिलाफ लिखने पर धमकी देने लगे.'

पत्रकारिता के छात्र प्रसाद ने आरोप लगाया कि उन लोगों ने उनके चेहरे पर कुमकुम मल दिया. उनके लेखन के लिए अंगुलियां काट डालने की धमकी दी. उनके हमले में उन्हें मामूली चोटें आई हैं. हमलावरों ने उनसे कहा कि पिछले जन्म में किए गए पापों के कारण वह दलित पैदा हुए हैं.

आरएमसी यार्ड थाने में इस बाबत अज्ञात लोगों के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया है. पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है. यह घटना ऐसे समय में हुई है जब देश भर के कम से कम 35 लेखकों ने बढ़ती असहिष्णुता और कलबुर्गी की हत्या के विरोध में अपने पुरस्कार लौटा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay