एडवांस्ड सर्च

दाभोलकर और पनसारे को मारने में एक ही बाइक और हथियार का किया गया इस्तेमाल

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड मामले में हिंदू जनजागृति समिति के गिरफ्तार सदस्य वीरेंद्र सिंह तावड़े की 6 साल से अलग रह रही पत्नी निधि तावड़े से पूछताछ की.

Advertisement
मुनीष पांडेय [Edited By: केशव कुमार]मुंबई, 22 June 2016
दाभोलकर और पनसारे को मारने में एक ही बाइक और हथियार का किया गया इस्तेमाल अंधविश्वास विरोधी सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सामाजिक कार्यकर्ता नरेंद्र दाभोलकर हत्याकांड मामले में हिंदू जनजागृति समिति के गिरफ्तार सदस्य वीरेंद्र सिंह तावड़े की 6 साल से अलग रह रही पत्नी निधि तावड़े से पूछताछ की. सीबीआई ने निधि के घर की तलाशी के दौरान 17 दस्तावेज जब्त किए. इनमें वीरेंद्र सिंह तावड़े का पासपोर्ट और कुछ सीडी भी शामिल हैं.

हत्याकांड में आरोपी नहीं हैं निधि
इस मामले में निधि आरोपी नहीं हैं, लेकिन उनसे दाभोलकर को खत्म करने की कथित साजिश के बारे में पूछताछ की गई. सीबीआई के मुताबिक कुछ घटनाओं में निधि गवाह हो सकती हैं. हत्या में इस्तेमाल वीरेंद्र की बाइक के बारे में भी वह बता सकती हैं. सीबीआई जल्द ही उनके बयान को रिकॉर्ड करेगी.

निधि भी हैं सनातन संस्था की सदस्य
निधि सनातन संस्था की एक सक्रिय सदस्य रही हैं. यह संस्था जांच के दायरे में है. सीबीआई ने मुंबई के बाहरी इलाके में उनकी संपत्तियों की तलाशी भी ली. निधि ने बताया कि वह अपना ज्यादातर वक्त अपने घर या संस्था के काम में ही व्यस्त रहती हैं.

एक ही हथियार से मारे गए दाभोलकर और पनसारे
निधि के बयानों से भी संकेत मिले हैं कि दाभोलकर और पनसारे की हत्या में एक ही हथियार और बाइक का इस्तेमाल किया गया है. तावड़े ने यह बाइक पुणे के स्क्रैप डीलर से खरीदी थी.

सायबर और फॉरेंसिक सबूतों पर पूछताछ
पूछताछ में जांच एजेंसी ने उनसे ई-मेल, तावड़े के लैपटॉप से अन्य संदिग्ध सारंग आकोलकर को भेजे गए संदेशों के बारे में पूछताछ की. साइबर फॉरेंसिक सबूतों के बारे में भी पूछताछ किया गया. अकोलकर के खिलाफ 2009 के गोवा विस्फोट मामले में इंटरपोल की तरफ से एक रेड कॉर्नर नोटिस जारी है.

आकोलकर और रुद्रा ने तावड़े को दिया था टास्क
गौरतलब है कि 20 अगस्त, 2013 को पुणे में ओंकारेश्वर पुल पर सुबह की सैर के दौरान दाभोलकर की दो अनजान लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. सीबीआई के मुताबिक तावड़े और आकोलकर 2009 में ही दाभोलकर को खत्म कर देना चाहते थे. तावड़े को आकोलकर के अलावा रुद्रा पाटिल भी गाइड करते थे. उन लोगों ने साल 2009 में हुए मडगांव बम विस्फोट के चलते अपनी योजना टाल दी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay