एडवांस्ड सर्च

निर्भया केस में जगी आस! तिहाड़ भेजे जाएंगे मेरठ जेल के जल्लाद

निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को फांसी की सजा जल्द दी जा सकती है. चार दोषियों में से एक गुनहगार पवन को मंगलवार को तिहाड़ जेल में शिफ्ट कर दिया गया था. इससे पहले वह मंडोली जेल में बंद था. इसके बाद से ही जल्द फांसी होने की खबरें चर्चा में हैं.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक नई दिल्ली, 11 December 2019
निर्भया केस में जगी आस! तिहाड़ भेजे जाएंगे मेरठ जेल के जल्लाद निर्भया कांड के दोषी (फाइल फोटो)

  • जल्लाद के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने जेल प्रशासन को भेजा खत
  • निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को जल्द दी जा सकती है फांसी

निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को फांसी की सजा जल्द दी जा सकती है. चारों दोषियों में से एक गुनहगार पवन को मंगलवार को तिहाड़ जेल में शिफ्ट किया गया था. इससे पहले वह मंडोली जेल में बंद था. इसके बाद से ही चारों दोषियों को जल्द फांसी दिए जाने की खबरें चर्चा में हैं.

निर्भया के गुनहगारों को फांसी देने के लिए उत्तर प्रदेश की मेरठ जेल के जल्लाद दिल्ली के तिहाड़ जेल भेजे जाएंगे. दरअसल, उत्तर प्रदेश सरकार ने जेल प्रशासन को भेज खत में लिखा कि तिहाड़ जेल में जल्लाद की जरूरत है. इसमें यह भी लिखा गया कि कुछ ऐसे सजा पाए लोग हैं, जिनके बचने के सारे कानूनी उपाय खत्म हो गए हैं.

जल्द ही जारी हो सकता है मौत का आखिरी पैगाम

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा दया याचिका खारिज करने के बाद निर्भया के चारों गुनहगारों मुकेश, पवन, अक्षय और विनय के नाम ब्लैक वारंट यानी मौत का आखिरी पैगाम जारी हो सकता है. ब्लैक वारंट में फांसी की तारीख, वक्त और जगह लिखा होता है.

ब्लैक वारंट जारी होते ही आजाद हिंदुस्तान में फांसी पाने वाले ये 58वें. 59वें, 60वें और 61वें गुनहगार होंगे. देश में पहली फांसी महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को हुई थी, जबकि आखिरी यानी 57वीं फांसी 2015 में याकूब मेमन को दी गई थी.

इस तरह इन चारों की मौत की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है. इन दोषियों की मौत की खबर अब कभी भी तिहाड़ जेल से आ सकती है. निर्भया के चारों गुनहगार पिछले 7 वर्षों से जेल में बंद हैं.

अंग्रेजों के जमाने में साल 1945 में तिहाड़ जेल बनना शुरू हुई थी. 13 साल बाद 1958 में तिहाड़ बनकर तैयार हुआ था और कैदियों का आना शुरू हुआ था. अंग्रेजों के जमाने में ही तिहाड़ के नक्शे में फांसी घर का भी नक्शा बनाया गया था. उसी नक्शे के हिसाब से फांसी घर बनाया गया, जिसे अब फांसी कोठी कहते हैं. ये फांसी कोठी तिहाड़ के जेल नंबर तीन में कैदियों के बैरक से बहुत दूर बिल्कुल अलग-थलग सुनसान जगह पर है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay