एडवांस्ड सर्च

फोन कर बैंक से निकाल लेते थे रुपया, ED ने दर्ज की FIR

देशभर में होने वाले अधिकतर मामलों में साइबर ठगी बैंक अधिकारी बनकर किया जाता है. ये अलग-अलग सिम कार्ड का इस्तेमाल कर लोगों को फोन कर खुद को बैंक और सेबी के अधिकारी बताते हैं. वैसे जामताड़ा देश में साइबर क्राइम का अड्‌डा बन चुका है. 

Advertisement
धरमबीर सिन्हा [Edited by: वरुण शैलेश]रांची, 04 August 2018
फोन कर बैंक से निकाल लेते थे रुपया, ED ने दर्ज की FIR साइबर क्राइम

साइबर क्राइम मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से प्राथमिकी दर्ज किए जाने की देश की पहली घटना झारखंड में हुई है. जामताड़ा जिले के साइबर क्राइम के आरोप में तीन लोगों पर ईडी ने तीन प्राथमिकी दर्ज की है. कुल 2.49 करोड़ रुपये के मनी लांड्रिंग मामले में जामताड़ा के प्रदीप मंडल, युगल मंडल और संतोष यादव को नामजद अभियुक्त बनाया गया है.

प्राथमिकी में प्रदीप मंडल पर साइबर क्राइम के जरिये एक करोड़ रुपये की ठगी करने का आरोप है जबकि युगल मंडल और अन्य पर साइबर क्राइम के जरिये 99 लाख रुपये की ठगी का आरोप है. वहीं तीसरी प्राथमिकी में संतोष यादव पर 50 लाख रुपये की ठगी करने का आरोप लगाया गया है.

अधिकतर मामलों में साइबर ठगी बैंक अधिकारी बनकर किया जाता है. ये अलग-अलग सिम कार्ड का इस्तेमाल कर लोगों को फोन कर खुद को बैंक और सेबी के अधिकारी बताते हैं. वैसे जामताड़ा देश में साइबर क्राइम का अड्‌डा बन चुका है. यहां स्कूली बच्चे भी इस क्राइम में शामिल बताए जाते हैं.

देश भर में कई हुए शिकार

पुलिस का कहना है कि मास्टरमाइंड का जाल झारखंड से लेकर मुंबई, पुणे, कानपुर, बेंगलुरु और नोएडा तक फैला था. ये बैंक मैनेजर बनकर लोगों को फोन करते थे और उनके एटीएम कार्ड का नंबर और पिन पूछकर पैसे निकाल लेते थे. पुलिस के मुताबिक इन तीनों ने दर्जनों लोगों को चूना लगाने का काम किया है और लाखों रुपये की अवैध कमाई की है. इनके खिलाफ झारखंड के विभिन्न जिलों के अलावा नोएडा में भी मामले दर्ज हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay