एडवांस्ड सर्च

दिलबाग सिंह बने जम्मू कश्मीर पुलिस के नए चीफ, जेलों में कर चुके हैं व्यापक सुधार

गृह मंत्रालय ने 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी एसपी वैद को डीजीपी के पद से हटाया है. एसपी वैद को दिसंबर, 2016 में जम्मू कश्मीर का पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया था. जबकि अगले साल अक्टूबर में वह सेवानिवृत्त हो जाएंगे.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 07 September 2018
दिलबाग सिंह बने जम्मू कश्मीर पुलिस के नए चीफ, जेलों में कर चुके हैं व्यापक सुधार दिलबाग सिंह को राज्य की जेलों में सुधार के लिए जाना जाता है

जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख एसपी वैद को अचानक उनके पद से हटा दिया गया था. अब उन्हें राज्य का परिवहन आयुक्त बनाया गया है. जबकि सूबे के जेल महानिदेशक दिलबाग सिंह को डीपीजी का अस्थाई चार्ज दिया गया है. जब तक इस पद पर स्थाई नियुक्ति नहीं होती, जब राज्य पुलिस की कमान दिलबाग सिंह संभालेंगे.

गृह मंत्रालय के प्रमुख सचिव आरके गोयल ने इस संबंध में तत्काल प्रभाव से एक आधिकारिक आदेश जारी किया था. जिसके मुताबिक 1986 बैच के आईपीएस अधिकारी एसपी वैद को डीजीपी के पद से हटाया गया. एसपी वैद को दिसंबर, 2016 में जम्मू कश्मीर का पुलिस महानिदेशक नियुक्त किया गया था. अगले साल अक्टूबर में वह सेवानिवृत्त हो जाएंगे.

कौन हैं दिलबाग सिंह

गृह मंत्रालय ने वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी दिलबाग सिंह को जम्मू कश्मीर का प्रभारी पुलिस महानिदेशक बनाया है. सिंह 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. वर्तमान में वे राज्य के जेल महानिदेशक पद पर तैनात थे. आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी नवेद के जेल से भाग जाने के बाद उन्हें मार्च 2018 में जेल विभाग का प्रमुख बनाया गया था. आतंकी नवेद फरवरी में उस वक्त फरार हो गया था, जब उसे शहर के अस्पताल में नियमित स्वास्थ्य जांच के लिए ले जाया जा रहा था.

यूपीएससी की मंजूरी का इंतजार

दिलबाग सिंह ने जेल महानिदेशक के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान कश्मीर की जेलों से कठोर आतंकवादियों को हटाने सहित कई चीजों को सुव्यवस्थित किया है. यूपीएससी से उनके नाम को मंजूरी मिलने के बाद ही उनकी इस पद पर नियमित नियुक्ति हो जाएगी.

अभी हो सकते हैं और तबादलें

बताया जा रहा है कि अभी कुछ और आला अधिकारियों के तबादलों का फरमान आ सकता है. जिसमें आईपीएस अधिकारी अरुण चौधरी को जेल महानिदेशक बनाए जाने की संभावना है. जबकि एसजेएम गिलानी को जम्मू कश्मीर सशस्त्र पुलिस बल का एडीजी बनाया जा सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay