एडवांस्ड सर्च

Advertisement

नौकर की लापरवाही, लेडी अफसर की बहादुरी से पकड़ा गया कास्कर

इकबाल की गिरफ्तारी को लेकर रोज नई कहानियां सामने आ रही हैं. इकबाल को अरेस्ट करने में सुपर एनकाउंटर एस्पेसलिस्ट कहे जाने वाले प्रदीप शर्मा और उनकी टीम ने अहम रोल अदा किया. वहीं, अब यह बात भी सामने आई है कि कैसे सादे पोशाक में एक लेडी कॉप ने इस मिशन में सबसे बड़ा रोल प्ले किया. बता दें कि इकबाल को पिछले दिनों पुलिस ने उगाही के आरोप में अरेस्ट किया.
नौकर की लापरवाही, लेडी अफसर की बहादुरी से पकड़ा गया कास्कर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का भाई इकबाल कास्कर
aajtak.in [edited by: मोनिका गुप्ता]मुबंई, 21 September 2017

दाऊद इब्राहिम का भाई इकबाल कास्कर अब ठाणे पुलिस की गिरफ्त में है. इकबाल की गिरफ्तारी को लेकर रोज नई कहानियां सामने आ रही हैं. इकबाल को अरेस्ट करने में सुपर एनकाउंटर एस्पेसलिस्ट कहे जाने वाले प्रदीप शर्मा और उनकी टीम ने अहम रोल अदा किया. वहीं, अब यह बात भी सामने आई है कि कैसे सादे पोशाक में एक लेडी कॉप ने इस मिशन में सबसे बड़ा रोल प्ले किया. बता दें कि इकबाल को पिछले दिनों पुलिस ने उगाही के आरोप में अरेस्ट किया.

क्या रहा लेडी कॉप का रोल?

जानकारी के मुताबिक, सलवार-कमीज में एक महिला अफसर टीम के निर्देश पर इकबाल के ठिकाने पर नजर रख रही थी. कुछ दिनों से इकबाल अपनी बहन हसीना पारकर के घर रह रहा था, जो कि नागपाड़ा में है. जब इंस्पेक्टर प्रदीप शर्मा को इकबाल को पकड़ने की जिम्मेदारी मिली तो उन्होंने अपनी टीम नागपाड़ा में हसीना के घर के बाहर तैनात कर दी. इसी में एक लेडी अफसर को रोल मिला सादे पोशाक में घर पर नजर रखना. कहा जाता है कि ऑपरेशन वाले दिन लेडी अफसर ने ही ऑपरेशन को लीड किया और सबसे पहले वही घर में घुसी थी.

कैमरा ब्लॉक था, नाटे कद का नौकर नहीं देख पाया पुलिस

प्रदीप शर्मा ने फैसला लिया था कि ऑपरेशन लेडी अफसर ही लीड करेंगी. हसीना पारकर के घर पर CCTV कैमरा था लेकिन खबरी ने यह भी जानकारी दी थी कि कैमरा ब्लॉक है. इसका ही पुलिस को फायदा मिला. कहा जा रहा है कि जिस नौकर ने अंदर से सेफ्टी गेट खोला वह नाटे कद का था. हाइट कम होने के कारण वह सिर्फ लेडी अफसर को देख पाया और लापरवाही में गेट खोल दिया, इसके तुरंत बाद पीछे खड़े मेल ऑफिसर्स अंदर घुस गए.

गांव से लेकर मुंबई, लगातार ठिकाने बदल रहा था दाऊद का भाई

ऑपरेशन को अंजाम देने वाले प्रदीप शर्मा ने इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान कहा- हम लंबे समय से इकबाल पर नजर रख रहे थे. वह लगातार ठिकाने बदल रहा था. कुछ दिन पहले वह महाराष्ट्र के रत्नागिरी में अपने गांव चला गया था. फिर भी नागपाड़ा में हसीना के घर के बाहर हमने 24 घंटे के लिए आदमी लगाया था. खाना कौन देता है? चाय कौन लेकर जाता है? सब पर नजर थी. जिस रात ऑपरेशन हुआ था, कुछ देर पहले ही डिलेवरी मैन ने उसे खाना पहुंचाया था. इसलिए हम श्योर थे कि वह घर के अंदर है.

...साथ में दवाई भी ले लेना

जिस वक्त पुलिस घर में घुसी उस वक्त इकबाल बिरयानी खा रहा था. पुलिस को देखते ही उसने कहा- बिरियानी खा लीजिए, फिर चलता हूं. इस पर प्रदीप शर्मा ने उससे कहा- हां खा ले, साथ में दवाई भी ले लेना.

इकबाल पर क्या हैं आरोप?

घटना 2016 की है. एक बिल्डर को धमकी भरा कॉल आया और उससे चार फ्लैट की फिरौती मांगी गई. डर की वजह से बिल्डर ने पुलिस में केस दर्ज नहीं कराया. वसूली के खिलाफ काम करने वाले ठाणे क्राइम ब्रांच सेल को जांच के दौरान इसकी जानकारी मिली, जिसके बाद इकबाल कास्कर के खिलाफ केस दर्ज किया गया. केस दर्ज होने के बाद इकबाल की तलाश शुरू की गई. ठाणे क्राइम ब्रांच के स्पेशल ऑफिसर इकबाल की तलाश में जुट गए. आखिरकार इकबाल कास्कर को प्रदीप शर्मा ने गिरफ्तार कर लिया. प्रदीप शर्मा एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर जाने जाते हैं. फिलहाल, इकबाल कास्कर पुलिस कस्टडी में है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay