एडवांस्ड सर्च

इस महिला अफसर से थर्राते हैॆ नक्सली, AK-47 लेकर घूमती हैं जंगलों में

देश की बागडोर असल मायने में अफसरों के हाथ में होती है. यदि नौकरशाही दुरुस्त हो तो कानून-व्यवस्था चाकचौबंद रहती है. जिस तरह से भ्रष्टाचार का दीमक नौकरशाही को खोखला किए जा रहा है, लोगों का उसपर से विश्वास उठता जा रहा है. लेकिन कुछ ऐसे भी IAS और IPS अफसर हैं, जो ईमानदारी के दम पर नौकरशाही की साख बचाए हुए हैं. उनके कारनामे आज मिशाल के तौर पर पेश किए जा रहे हैं. aajtak.in ऐसे ही प्रशासनिक और पुलिस अफसरों पर एक सीरीज पेश कर रहा है. इस कड़ी में आज पेश है छत्तीसगढ़ के बस्तर में तैनात सीआरपीएफ की जांबाज असिस्टेंट कमांडेंट ऊषा किरण की दास्तान.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: राहुल सिंह]बस्तर, 20 March 2017
इस महिला अफसर से थर्राते हैॆ नक्सली, AK-47 लेकर घूमती हैं जंगलों में असिस्टेंट कमांडेंट ऊषा किरण गुड़गांव की रहने वाली हैं

देश की बागडोर असल मायने में अफसरों के हाथ में होती है. यदि नौकरशाही दुरुस्त हो तो कानून-व्यवस्था चाकचौबंद रहती है. जिस तरह से भ्रष्टाचार का दीमक नौकरशाही को खोखला किए जा रहा है, लोगों का उसपर से विश्वास उठता जा रहा है. लेकिन कुछ ऐसे भी IAS और IPS अफसर हैं, जो ईमानदारी के दम पर नौकरशाही की साख बचाए हुए हैं. उनके कारनामे आज मिशाल के तौर पर पेश किए जा रहे हैं. aajtak.in ऐसे ही प्रशासनिक और पुलिस अफसरों पर एक सीरीज पेश कर रहा है. इस कड़ी में आज पेश है छत्तीसगढ़ के बस्तर में तैनात सीआरपीएफ की जांबाज असिस्टेंट कमांडेंट ऊषा किरण की दास्तान.

 

27 साल की हैं असिस्टेंट कमांडेंट ऊषा किरण
महिला अफसरों की बात की जाए तो देश में ऐसी कई महिला अफसर हैं, जो अपने फैसले लेने की क्षमता और मजबूत इरादों के लिए जानी जाती हैं. इन्हीं में से एक हैं 27 साल की ऊषा किरण. ऊषा देश की पहली सीआरपीएफ महिला अफसर हैं, जिन्हें छत्तीसगढ़ के नक्सली इलाके में तैनात किया गया है.

गुड़गांव की रहने वाली हैं ऊषा किरण
aajtak.in आपके लिए लाया है एक ऐसी जांबाज महिला अफसर की कहानी, जिसे सुनकर हर हिंदुस्तानी देश की बेटियों पर नाज करेगा. छत्तीसगढ़ राज्य में सीआरपीएफ की 80वीं बटालियन में असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर तैनात ऊषा किरण मूल रूप से गुड़गांव की रहने वाली हैं. ऊषा ने 25 साल की उम्र में सीआरपीएफ ज्वॉइन कर ली थी.

खुद चाहती थी नक्सली इलाके में पोस्टिंग
आपको जानकर हैरानी होगी कि नक्सली इलाके में पोस्टिंग खुद ऊषा की पहली पसंद थी. ऊषा ने कहा था, 'वह खुद बस्तर आना चाहती हैं. उन्होंने सुना है कि यहां के लोग काफी सीधे-साधे होते हैं.' बताते चलें कि वह हर ऑपरेशन में जवानों की अगुवाई खुद करती हैं. इससे आप उनकी बहादुरी का अंदाजा लगा सकते हैं.

2012 में नक्सलियों ने किया था नरसंहार
वर्तमान में असिस्टेंट कमांडेंट ऊषा रायपुर से 350 किलोमीटर दूर बस्तर के दरभा डिवीजन स्थित सीआरपीएफ कैंप में तैनात हैं. नक्सलियों का गढ़ कहा जाने वाला दरभा वही इलाका है, जहां पर साल 2012 में एक बड़े कांग्रेसी नेता समेत 34 लोगों को नक्सलियों ने मार दिया था. ऊषा मिशन के मुताबिक, 2017 में बस्तर को नक्सलियों से पूरी तरह मुक्त करवाने के इरादे से आई हैं.

CRPF में परिवार की तीसरी पीढ़ी
ऊषा किरण अपने परिवार से सीआरपीएफ ज्वॉइन करने वाली तीसरी पीढ़ी हैं. उनके पिता सीआरपीएफ में सब इंस्पेक्टर हैं. उनके दादा भी सीआरपीएफ में थे, अब वह रिटायर हो चुके हैं. 2013 में सीआरपीएफ के लिए दी गई परीक्षा में ऊषा ने पूरे भारत में 295वीं रैंक हासिल की थी. ऊषा ट्रिपल जंप में गोल्ड मेडल जीत नेशनल विनर भी रह चुकी हैं.

आदिवासी महिलाओं से खासा लगाव
गौरतलब है कि ऊषा का स्थानीय आदिवासी महिलाओं से खासा लगाव है. यहां उनकी नियुक्ति के बाद आदिवासियों और महिलाओं में उम्मीद की किरण जगी है. फिलहाल उनका लक्ष्य नक्सल प्रभावित इस इलाके में पूरी तरह से नक्सलियों का खात्मा करना है. उनके खौफ का आलम यह है कि उनकी तैनाती के बाद से बड़े-बड़े नक्सली उनके नाम से ही थर्राने लगे हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay