एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग

aajtak.in [Edited By:श्यामसुंदर गोयल]
28 January 2019
ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग
1/5
समय के साथ नकल के नए तरीके भी मुन्ना भाइयों ने ईजाद कर ल‍िए हैं. स‍िपाही भर्ती परीक्षा में नकल का नया तरीका देखने को म‍िला जहां पुल‍िस की परीक्षा देने आए युवाओं ने चोरों वाला तरीका अपनाया. वे अपने गले में ऐसे ताबीज पहनकर आए ज‍िनमें मॉड‍िफाइड माइक्रो फोन डिवाइस लगी थी. इसकी मदद से वह धड़ल्ले से नकल कर रहे थे.
ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग
2/5
सिम से चलने वाले मॉड‍िफाइड माइक्रो फोन डिवाइस को ताबीज में छिपाकर परीक्षा दे रहे 3 मुन्ना भाइयों को उत्तर प्रदेश एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है. ये तीनों सिपाही भर्ती की होने वाली लिखित परीक्षा में शामिल होने के लिए मथुरा के एक परीक्षा केंद्र पर पहुंचे थे. इनमें से एक आरोपी परीक्षार्थी है जबकि अन्य दो लोग गैंग चलाने वाले सक्रिय सदस्य हैं. इनके पास से सिम से चलने वाली 4 माइक्रो फोन डिवाइस मिलीं.
ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग
3/5
इसके अलावा लकड़ी के स्केल पर बनाया एक वेब कैमरा भी इनके पास से मिला. उससे पूरे पेपर की फोटो खींचकर उसे ई-मेल के जरिए परीक्षा केंद्र से बाहर भेज देते थे. यूपी एसटीएफ नोएडा यूनिट अब इस डिवाइस को बनाने वाले व गैंग के अन्य सदस्यों के बारे में गंभीरता से पता लगा रही है. एसटीएफ के अनुसार, गिरफ्तार आरोपी पवन, राजकुमार और जीवन सिंह हैं. पवन ही गैंग को चलाता है और वह छात्रों को लिखित परीक्षा समेत फिजिकल में पास कराने के नाम पर 5 से 10 लाख रुपये तक वसूल लेता है.
ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग
4/5
गैंग के पास से मिले ताबीज में सिम आधारित मोडिफाइड माइक्रो फोन डिवाइस लगा होता था. परीक्षा देने वाला कैंडिडेट इसे गले में पहनकर बिना चेकिंग के आसानी से सेंटर में पहुंच जाता था. डिवाइस में लगे बटन को ऑन करके पहले ही उसे एक्टिव किया जाता था. वे कॉलिंग के जरिए बाहर मौजूद सॉल्वर के फोन से कनेक्ट हो जाते थे. इसके बाद मिनी ब्लूटूथ ईयर को कान में रखकर नकल करते थे.
ताबीज में जुगाड़ कर न‍िकाला नकल का तरीका, जानकर रह जाएंगे दंग
5/5
इनके पास से एक स्केलनुमा लकड़ी भी मिली है ज‍िसमें वेब कैम लगा हुआ है. उसे कवर करके छोटी डिवाइस भी लगाई गई है. इसमें प्रयोग की गई तकनीक को देखकर एसटीएफ अधिकारी भी हैरान हैं. पुल‍िस पूछताछ में एक इंजीनियर युवक का नाम सामने आया है जिसके बारे में पता लगाया जा रहा है. एसटीएफ की जांच में यह भी पता चला है कि इस गैंग का कई शहरों में बड़ा नेटवर्क फैला हुआ है. इनके बनाए हुए डिवाइस की काफी डिमांड है. ऐसा लगता है क‍ि देश में होने वाले कई परीक्षाओं में इस तरह के डिवाइस का इस्तेमाल करके नकल की गई होगी.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay