एडवांस्ड सर्च

Salaam Cricket 2019: दिग्गजों ने इंडिया और इंग्लैंड को बताया WC का प्रबल दावेदार

aajtak.in [Edited By: अजीत तिवारी] जून 3, 2019
अपडेटेड 0:30 IST

'आजतक' और 'इंडिया टुडे' क्रिकेट की जन्मभूमि इंग्लैंड में है. क्रिकेट के हर अहम मुकाम पर सलाम क्रिकेट आपके लिए सितारों को संजो कर लाता है. दुनिया के बड़े-बड़े कप्तान, धुआंधार बल्लेबाज, गेंदों के बाजीगर क्रिकेट की हर बारीकी बताते हैं और वो भी एक मंच से, जिसका नाम है सलाम क्रिकेट. लंदन में चल रहे सलाम क्रिकेट 2019 के इस मंच पर क्रिकेट जगत के 11 दिग्गज अपने अनुभव साझा किए और बताया कि इस बार कौन बनेगा विश्व क्रिकेट का सरताज?

Check Latest Updates
Advertisement
Salaam Cricket 2019: दिग्गजों ने इंडिया-इंग्लैंड को बताया WC का दावेदारSalaam Cricket 2019 Live

हाइलाइट्स

  • सलाम क्रिकेट 2019 के मंच पर 11 दिग्गजों का महामिलन
  • कौन बाजी मारेगा - भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या कोई और..?
  • ये हैं 11 दिग्गज... सुनील गावस्कर, शेन वॉर्न, हरभजन सिंह, मिस्बाह उल हक, विवियन रिचर्ड्स
  • माइकल क्लार्क, नासिर हुसैन, रविचंद्रन अश्विन, यूनुस खान, सचिन तेंदुलकर, वसीम अकरम
  • 00:21 ISTPosted by Ajit Tiwari

    सलाम क्रिकेट 2019 का हिस्सा बनने के लिए धन्यवाद

    इस प्रकार सलाम क्रिकेट 2019 का अंत होता है. दिग्गज क्रिकेटरों ने आज अपने दिल की बात कही और अपनी पसंदीदा टीमों, खिलाड़ियों और एक्स-फैक्टर्स को चुना जो मौजूदा विश्व कप में अपना दम दिखाएंगे. उन्होंने अपने खेल के दिनों के अनुभवों को भी साझा किया और दर्शकों को रोमांचित किया. आशा है कि आपको यह कार्यक्रम और उसका कवरेज पसंद आया होगा. धन्यवाद और शुभ रात्रि!

  • 00:19 ISTPosted by Ajit Tiwari

    विश्व कप इतिहास के महानतम खिलाड़ी कौन?

    सुनील गावस्कर: सर विव रिचर्ड्स.
    वसीम अकरम: मैं भी विव रिचर्ड्स को अपनी टीम में चुनूंगा. वह पूरा पैकेज थे.
    विव रिचर्ड्स: मैं जोस बटलर को चुनूंगा.
    माइकल क्लार्क: मैं शेन वार्न को चुनना चाहूंगा.
    मिस्बाह: वसीम अकरम पूरा पैकेज थे इसलिए मैं उनके लिए जाऊंगा.
    नासिर हुसैन: मैं विव के लिए जाने वाला हूं. यह एक पूर्ण तथ्य है कि विव रिचर्ड्स अब तक के सबसे महान क्रिकेटर थे. वह खेल के एक महान राजदूत भी हैं.

  • 00:17 ISTPosted by Ajit Tiwari

    सेमीफाइनल की 4 टीमें?

    मिस्बाह: भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया. मुझे लगता है कि चौथी टीम पाकिस्तान होगी.
    माइकल क्लार्क: ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, भारत और वेस्ट इंडीज.
    विव रिचर्ड्स: वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और भारत.
    वसीम अकरम: भारत, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज.
    सुनील गावस्कर: भारत, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज.
    नासिर हुसैन: इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया.

  • 00:13 ISTPosted by Ajit Tiwari

    वसीम और गावस्कर ने बताया कि विश्व कप के बीच क्रिकेट कैसे बदल गया है?

    वसीम अकरम: विश्व कप और बड़ा होता जा रहा है. अब अधिक तैयारी होती है, सहायक कर्मचारी अब अधिक हैं. फिल्डिंग के लेवल में पहले की तुलना में अब कहीं बेहतरी हुई है.

    सुनील गावस्कर: 1985 की भारतीय टीम जिसने क्रिकेट की विश्व चैंपियनशिप जीती थी, उसके पास वर्तमान भारतीय टीम से बेहतर फिल्डर्स थे. उस समय खिलाड़ियों को मैदान पर उतने ड्रिंक्स नहीं मिलते थे जितने अब मिलते हैं. हमें उतने ब्रेक नहीं मिलते थे. हमारे पास कभी भी तेज गेंदबाजों के लिए सीमा रेखा पर ड्रिंक्स ले जाने वाला रिजर्व खिलाड़ी नहीं होता था. सबसे बड़ा अंतर हम लाल गेंद से खेला करते थे.

  • 00:08 ISTPosted by Ajit Tiwari

    क्या विश्व कप 2019 में बल्लेबाजों का राज होगा?

    नासिर हुसैन: एकदिवसीय क्रिकेट में बल्लेबाजों का थोड़ा बोल-बाला है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में बल्लेबाजों को लेकर सारे नियम और धारनाएं ध्वस्त होती दिखी हैं. क्रेडिट बल्लेबाजों को जाना चाहिए इसमें कोई संदेह नहीं है, हर देश में अच्छे बल्लेबाज हैं. लेकिन मुझे अभी भी विश्वास है कि सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण आपको विश्व कप दिलाएगा. पहले से ही इस टूर्नामेंट में हमने हरी पिच, उछाल भरी पिच और सपाट पिच देखी है. ऐसे में बैलेंस बॉलिंग अटैक वाली टीम को हराना बहुत मुश्किल होगा.

    क्लार्क: कप्तान स्पिनरों का उपयोग कर रहे हैं, जो कि एक बेहतर विकल्प है. स्पिन गेंदबाजी इस विश्व कप में एक बड़ी भूमिका निभाएगी.

  • 00:04 ISTPosted by Ajit Tiwari

    विश्व कप 2019 में एक्स-फैक्टर कौन होगा?

    नासिर हुसैन: कोई भी टीम महान खिलाड़ियों के बिना विश्व कप नहीं जीत सकती. वेस्टइंडीज के पास विव, भारत के पास 2011 में एमएस धोनी थे. जिस टीम के पास ऐसे खिलाड़ी होंगे वो इस साल विश्व कप जीतेगी.

    माइकल क्लार्क: विराट कोहली लंबे समय तक स्टैंडआउट बल्लेबाज रहे हैं. आंकड़े उनकी कहानी को बयां करते हैं. विराट अभी अपने कमरे में बैठे होंगे और विश्व कप फाइनल में बल्लेबाजी करने के लिए प्रार्थना कर रहे होंगे. अगर भारत फाइनल में 250 का पीछा कर रहा होगा तो विराट चाहेंगे कि 200 रन वो खुद बनाएं.

    विव रिचर्ड्स: विराट के अलावा मेरा मानना ​​है कि इंग्लैंड के पास कुछ खिलाड़ी हैं जो आपको नुकसान पहुंचा सकते हैं. मैं जोस बटलर और मॉर्गन का बहुत बड़ा प्रशंसक हूं.

    वसीम अकरम: मुझे लगता है कि डेविड वॉर्नर एक्स-फैक्टर होंगे. वह एक साल बाद वापस आए हैं और उनके पास साबित करने के लिए एक बिंदु है. इस विश्व कप में उन्हें खेलते देखना दिलचस्प होगा.

  • 23:29 ISTPosted by Ajit Tiwari

    दिग्गजों ने चुनी अपनी फेवरेट टीम

    ऑस्ट्रेलिया के 2015 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि मेरे हिसाब से ऑस्ट्रेलियन टीम सबसे मजबूत है. वॉर्नर और स्मिथ के टीम में शामिल होने के बाद मैं कह सकता हूं कि टीम ट्रॉफी उठा सकती है. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन ने कहा कि इंग्लैंड की टीम अभी तक सबसे मजबूत टीम है. वेस्टइंडीज के पूर्व महान बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स ने वेस्टइंडीज को सबसे मजबूत टीम बताया. उनके अलावा वसीम अकरम और मिस्बाह ने इंग्लैंड और इंडिया को प्रबल दावेदार बताया. भारत के पूर्व कप्तान गावस्कर ने इंग्लैंड को वर्ल्ड कप का मजबूत दावेदार बताया.

  • 23:25 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'पाकिस्तान का वर्ल्ड कप के दौड़ में नहीं गिना जाना निराशाजनक'

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने कहा कि किसी ने भी जीतने की संभावित टीमों में पाकिस्तान का नाम नहीं लिया, यह निराशाजनक है लेकिन पाकिस्तान कभी फेवरेट रही भी नहीं. तब भी जब उसने चैम्पियंस ट्रॉफी में जीत हासिल की और उससे पहले भी. वहीं, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मिस्बाह उल हक ने कहा कि पाकिस्तान को इस बात की जानकारी नहीं है कि उसकी बेस्ट इलेवन क्या है. वर्ल्ड कप से पहले हमने कई सारे बदलाव किए और कई एक्सपेरिमेंट किए जो कि टीम के लिए नुकसानदेह साबित हुए. यही कारण है कि टीम संघर्ष कर रही है.

  • 22:59 ISTPosted by Ajit Tiwari

    दिग्गजों ने बताया, कौन जीतेगा वर्ल्ड कप?

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस खान ने कहा कि इंग्लैंड जीतेगी वर्ल्ड कप. मिस्बाह उल हक ने भी कहा कि इंग्लैंड को प्रबल दावेदार बताया. हरभजन और अश्विन ने टीम इंडिया को प्रबल दावेदार बताया. वसीम अकरम ने कहा कि इंग्लैंड और इंडिया फाइनल में पहुंच सकती हैं. सुनील गावस्कर ने कहा कि मेरा दिल कह रहा है कि टीम इंडिया जीतेगी और दिमाग कह रहा है कि इंग्लैंड जीतेगी.

  • 22:55 ISTPosted by Ajit Tiwari

    बुमराह सबसे बड़े खिलाड़ी- हरभजन

    हरभजन ने कहा कि भारत का सबसे बड़ा हुकम का इक्का जसप्रीत बुमराह है. वसीम अकरम ने भी बुमराह की तारीफ की और कहा कि उन्हें पता है कि किसे, कब और कहां गेंदबाजी करनी है. उनके पास वरायटी है, यॉरकर है जो कि वर्तमान में सबसे मुश्किल गेंद मानी जाती है.

  • 22:52 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'विराट कई पाकिस्तानी खिलाड़ियों के आइडल'

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस खान ने कहा कि आज पाकिस्तान के कई खिलाड़ी विराट की तरह खेलना चाहते हैं, उन्हें कॉपी करने की कोशिश करते हैं. पाकिस्तान में भी विराट के बहुत फैन हैं.

  • 22:50 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'शुरू के तीन बल्लेबाजों में टीम इंडिया सबसे मजबूत'

    सुनील गावस्कर ने कहा कि एक, दो और तीन नंबर की बात करें तो टीम इंडिया सबसे मजबूत है. क्योंकि उनके पास वरायटी है. लेफ्ट-राइट कॉम्बिनेशन है. ऑस्ट्रेलिया के पास बहुत मजबूत ओपनिंग है.

  • 22:47 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'टीम इंडिया की एक ही दिक्कत, 5वां गेंदबाज'

    सुनील गावस्कर ने कहा कि टीम इंडिया की एक ही दिक्कत है, 5वां गेंदबाज जिसे 10 ओवर फेंकने होते हैं. अगर उन्होंने ज्यादा रन दे दिए तो मुसीबत खड़ी हो सकती है. हो सकता है कि शुरू में एक दो मैच में कुछ खिलाड़ी न खेल पाएं, लेकिन एक बार लय में आने के बाद सब ठीक.

  • 22:45 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'विराट कोहली भारत के एक्स फैक्टर'

    यूनुस खान ने कहा कि टीम इंडिया में एक्स फैक्टर कोहली और वेस्ट इंडीज में गेल एक्स फैक्टर हैं. ऐसे ही हर टीम में एक एक्स फैक्टर होता है जो अकेले दम पर मैच जीता सकता है. फखर जमान और बाबर आजम टीम के एक्स फैक्टर हो सकते हैं.

  • 22:38 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'सबसे खतरनाक इंग्लैंड की गेंदबाजी'

    वसीम अकरम ने बताया कि इंग्लैंड की गेंदबाजी सबसे खतरनाक है. उसके बाद भारत की गेंदबाजी और फिर ऑस्ट्रेलिया का नाम आता है.अश्विन ने बताया कि भारत की बल्लेबाजी सबसे अच्छी है. हालांकि, इंग्लैंड के पास घर में खेलने का फायदा मिलेगा.

  • 22:36 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'पाकिस्तान के खिलाड़ी शॉट खेलना भूल गए हैं'

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मिस्बाह उल हक ने बताया कि पाकिस्तानी टीम के खिलाड़ी शॉट खेलना भूल गए हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि टीम की जो सबसे बड़ी ताकत थी, वो गेंदबाजी थी लेकिन वो भी अब नहीं रही. हमारे पास ऑफ स्पिनर नहीं हैं. अन्य टीमों के पास स्पिनर्स और गेंदबाजों की एक पूरी जमात है.

  • 22:30 ISTPosted by Ajit Tiwari

    पाकिस्तानी खिलाड़ी के साथ हाथापाई पर उतर आए थे भज्जी

    हरभजन सिंह ने बताया कि वो वसीम अकरम की तरह बनना चाहते थे. 2011 का पाकिस्तान का स्क्वैड भी शानदार था. लेकिन अभी टीम में अनुभव की कमी है. सबसे बड़ा मैच भारत और पाकिस्तान का होता था. मैच के अलावा भी बहुत कुछ होता था. 2003 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान ने 270 रन बनाए थे. लंच में यूसुफ ने पंजाबी में मुझे कुछ बातें कहीं, इसके बाद हम दोनों हाथापाई पर उतर आए, फिर वसीम अकरम ने हम दोनों को डांटा और वहां से भगा दिया.अकरम ने कहा कि लंच दोनों टीमों का एक साथ था और भज्जी-यूसुफ की लड़ाई हो गई. दोनों एक दूसरे के जिगरी दोस्त, इसके बाद मैंने दोनों को गालियां दी और ये कहते हुए बाहर निकाला कि शर्म करो कुछ. मैंने पहले ही उनसे कहा था कि ये प्रेशर वाला मैच है इसलिए आराम से रहना.

  • 22:29 ISTPosted by Ajit Tiwari

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस खान ने कहा कि पाकिस्तान की टीम जल्दी आउट हो जाती थी. मैं तीसरे नंबर पर उतरता था और मैं पैड भी नहीं पहना होता था और पहला विकेट गिर जाता था. मैं जैसे-तैसे पैड बांधकर पहुंचता था और स्क्रीन को इधर-उधर करवाने के बहाने स्ट्रैच कर लेता था.

  • 22:28 ISTPosted by Ajit Tiwari

    भारतीय ऑफ स्पिनर, 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य रविचंद्रन अश्विन ने बताया कि मैं अटैकिंग बल्लेबाजों को गेंदबाजों को गेंद करना पसंद करता हूं. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और 1992 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य वसीम अकरम ने कहा कि तकनीक में आप सुनिल गावस्कर से नहीं जीत सकते. अकरम ने बताया कि जावेद मियादाद को कप्तान इमरान खान ने बाउंड्री पर भेज दिया था. इसके बाद भी जावेद खुद ही फिल्डिंग लगाते दिखे थे. वो हमेशा कप्तान के रूप में ही रहते थे. 

  • 22:28 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'हम पाकिस्तान की आपस की बातों से परेशान हो जाते थे'

    भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने बताया कि पाकिस्तान के दो खिलाड़ी जावेद मियादाद और अब्दुल कादिर अलग तरह के होते थे. वो मैदान पर हमसे खूब बात करते थे. पाकिस्तान की टीम आपस में भी बहुत मजेदार बातें करती थी. फिल्डिंग को इधर से उधर लगाने के दौरान खूब गालियां देते थे. 1982 में 3-0 से सीरीज हार गए थे, और उस समय पाकिस्तान की टीम में होने वाली बातों से हम डिस्ट्रैक्ट हो जाते थे.


  • 21:27 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कोहली के मुरीद हैं विव रिचर्ड्स

    विराट कोहली के बारे में विव रिचर्ड्स ने कहा कि मुझे विराट कोहली जैसे लोग बहुत पसंद हैं. बहुत बार आपने लोगों को घमंड में बोलते सुना होगा, यह घमंड नहीं है, यह अपने आप में विश्वास करने के बारे में है. यदि आपके पास आपके घर की चाबी है, तो आप अपने घर और प्रवेश द्वारों के सभी विभिन्न मार्गों को जानते हैं. विराट जानते हैं कि क्रिकेट के मैदान को पहचानते हैं. मैंने अपने समय में यही किया था और इसका मतलब था कि वह मेरा घर था. अब यह विराट का घर है और यही तरीका होना चाहिए.

  • 21:25 ISTPosted by Ajit Tiwari

    अभी की वेस्टइंडीज हमारे समय जैसी, जीत सकती है वर्ल्ड कप-विव रिचर्ड्स

    विव रिचर्ड्स ने कहा, 'मैं आपको बता सकता हूं कि इस साल जो टीम विश्व कप जीतने जा रही है उसका नाम वेस्टइंडीज है. वेस्टइंडीज की यह टीम उस टीम के काफी करीब है, जिसमें मैं खेला हूं. मैं केवल अपनी वेस्ट इंडियन टीम की बात कर सकता हूं. मैंने टीम को ट्रेंट ब्रिज में देखा. लेकिन जब मैदान पर उन्हें देखता हूं, तो मुझे जोएल गार्नर, माइकल होल्डिंग, एंडी रॉबर्ट्स की याद आती है. वो सभी चीजें जो हमारे पास अतीत में थीं. हमारे पास कुछ विस्फोटक बल्लेबाज हैं और मुझे लगता है कि इस साल ये लोग अपनी विरासत संजोने जा रहे हैं. मैंने पाकिस्तान के खिलाफ ट्रेंट ब्रिज में जो देखा, मुझे विश्वास है कि वे सभी बेहतर कर सकते हैं.'

  • 21:17 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब एक दिग्गज के फोन ने बदल दी सचिन की जिंदगी

    सचिन तेंदुलकर ने बताया कि 2007 विश्व कप संभवतः मेरे करियर का सबसे बुरा दौर था. जिस खेल ने मुझे अपने जीवन के सबसे अच्छे दिन दिखाए थे, वह मुझे बुरे दिन भी दिखा रहा था. उस समय भारतीय क्रिकेट के आसपास बहुत सारी चीजें हो रही थीं, जो बिल्कुल भी अच्छी नहीं थीं. हमें कुछ बदलावों की जरूरत थी और मुझे लगा कि अगर ये बदलाव नहीं हुआ तो मैं क्रिकेट छोड़ने जा रहा हूं. सचिन ने कहा, मुझे लगभग 90 प्रतिशत यकीन हो चला था कि मैं क्रिकेट से संन्यास ले लूंगा. लेकिन तब मेरे भाई ने मुझे बताया कि 2011 में मुंबई में विश्व कप फाइनल है, क्या आप उस खूबसूरत ट्रॉफी को अपने हाथ में पकड़े हुए इमेजिंग कर सकते हैं? उसके बाद मैं अपने फार्महाउस पर गया और तभी मुझे सर विवियन रिचर्ड्स का फोन आया. सचिन ने वो पल याद करते हुए आगे कहा, 'उन्होंने कहा कि मुझे पता है कि तुममें बहुत क्रिकेट बाकी है. हमारे बीच लगभग 45 मिनट तक बातचीत हुई और यह बहुत ही हृदयस्पर्शी थी क्योंकि जब आपका हीरो आपको फोन करता है तो इसका मतलब बहुत कुछ होता है. वह पल मेरे लिए चीजें बदल गया था और उस पल के बाद मैंने बहुत बेहतर प्रदर्शन किया.'

  • 21:00 ISTPosted by Ajit Tiwari

    इंग्लैंड अभी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई तो कभी नहीं - अकरम

    अकरम ने वर्ल्ड कप 2019 को लेकर कहा कि इंग्लैंड अभी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाई तो कभी नहीं जीत पाएगी. सेमी फाइनल में इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, इंडिया और चौथी टीम वेस्टइंडीज, पाकिस्तान और न्यूजीलैंड हो सकती है. पाकिस्तान अगर सोकर उठ गई तो ही आगे जा सकती है. सचिन ने कहा कि तीन टीमें इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और इंडिया वर्ल्ड कप में बेहतर कर सकती हैं. इसके अलावा न्यूजीलैंड चौथी टीम हो सकती है. भारत बनाम पाकिस्तान के मैच पर सचिन ने कहा कि भारत का पलड़ा भारी है. यह इसलिए भी क्योंकि पाकिस्तान कई मैच हारकर आ रही है. अकरम ने भी भारत को मजबूत बताया.

  • 20:50 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब एक ठेले पर छूट गए थे सचिन के तीन मैन ऑफ द मैच

    पाकिस्तान के साथ सबसे बड़ा मुकाबला कौन सा रहा, जवाब में सचिन ने कहा कि 2003 वर्ल्ड कप में हमारी सोच थी कि जो भी जाए हमें पाकिस्तान के खिलाफ होने वाला मैच जीतना है. अकरम ने कहा कि लंच दोनों टीमों का एक साथ था और भज्जी-यूसुफ की लड़ाई हो गई. दोनों एक दूसरे के जिगरी दोस्त, इसके बाद मैंने दोनों को गालियां दी और ये कहते हुए बाहर निकाला कि शर्म करो कुछ. मैंने पहले ही उनसे कहा था कि ये प्रेशर वाला मैच है इसलिए आराम से रहना. लेकिन वो नहीं माने फिर जो हुआ उसके बाद मैंने उन्हें झिड़कियां दी. सचिन ने कहा कि मैंने सुना कि लड़ाई हुई लेकिन मैंने ध्यान नहीं दिया. मैंने इयर फोन लगाया और शांत हो गया. इस बीच मेरी और सहवाग की बात हो रही थी. सहवाग कह रहा था कि पहली बॉल आप खेलो और मैं उसे पहली बॉल खेलने के लिए कह रहा था. नीचे उतरते वक्त भी वो मुझे यही बात दोहराता रहा. हालांकि मैंने पहला बॉल खेला. मैच जीते. इस जीत के बाद जश्न भी मना. सचिन ने बताया कि उस रात हम बाहर गए. रात के 11 बज गए थे. सब रेस्टोरेंट बंद हो गए थे. एक स्टॉल खुला था, हम वहां खाने के लिए पहुंचे. मैंने अपना एक पार्सल अपने दोस्त को दिया कि इसे पहुंचा देना. लेकिन वो पार्सल कहीं भूल गया. मैंने पूछा कि पार्सल कहां है तो उसने कहा कि वो तो स्टॉल पर ही रह गया. इसके बाद उसने स्टॉल वाले को फोन किया जिसके बाद पता चला कि वो वहीं रखा है और बाद में वो मुझे मिल गईं. सचिन ने बताया कि उस पार्सल में मेरी तीन घड़ियां थीं जो मुझे मैन ऑफ द मैच के रूप में मिली थीं.

  • 20:31 ISTPosted by Ajit Tiwari

    जिन्न की तरह लगते थे रिचर्ड्स- अकरम

    सबसे कठिन बल्लेबाजों में वसीम अकरम ने विवियन रिचर्ड्स को सबसे खतरनाक बल्लेबाज बताया. उन्होंने कहा कि वो हम छोटे-छोटे बच्चे और वो इतना बड़ा जिन्न. वो बिना हेल्मेट के आते थे. अगर मुझे किसी एक बल्लेबाज को चुनना पड़े तो उनका ही नाम लूंगा. उनका एक अलग ही औरा था. वो बेहतरीन कप्तान और उससे भी बेहतरीन बल्लेबाज थे.

  • 20:23 ISTPosted by Ajit Tiwari

    पहले 10-15 साल तो मुझे मैच से पहली रात नींद नहीं आती थी- सचिन

    अकरम ने कहा कि जब हम जवान थे तो सोते कम थे. उस समय फर्क नहीं पड़ता, 30 की उम्र के बाद फर्क पड़ता है. हम भी प्रोफेशनल थे लेकिन आज बहुत कुछ बदल गया है. सचिन ने दबाव को लेकर कहा कि मैं सोता नहीं था लेकिन सोचता था कि कैसे खेलूंगा. पहले 10-15 साल तो मैं मैच के पहली वाली रात नहीं सो पाया. इतना समय बीतने के बाद मैंने समझा कि खेलना कैसे है. मैं हमेशा इस बात पर ध्यान देता था कि बैट पर गेंद कहां लग रही है. अगर मेरे बैट पर गेंद सही से लग रही है तो मैं प्रैक्टिस नहीं करता था. जिसका एक उदाहरण है 2003 वर्ल्ड कप में मैंने सिर्फ एक नेट सेशन किया. 2003 वर्ल्ड कप में मिली हार मेरे जीवन का सबसे बुरे दिनों में एक था. क्योंकि हम उस टूर्नार्मेंट में अच्छा खेले थे.

  • 20:20 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब 10 दिन तक सचिन को नहीं आई थी नींद

    सचिन ने कहा कि 2003 में पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले मुझे 10 दिन तक नींद नहीं आई थी. क्योंकि पाकिस्तान की गेंदबाजी बहुत जबरदस्त थी. भारत से मैच हारने पर वसीम ने कहा कि हां ये मेरे साथ भी हुआ. भारत और पाकिस्तान के मैच के बीच बहुत दबाव होता है, क्योंकि मैच से एक दिन पहले मां कहती है मैच नहीं हारना, बहन कहती है मैच नहीं हारना, रिक्शे वाला कहता है मैच नहीं हारना. ऐसे में दबाव बनता जाता है. लेकिन जो प्लेयर दबाव झेल जाते हैं वो ही जीतते हैं.

  • 20:17 ISTPosted by Ajit Tiwari

    सचिन अच्छे होस्ट, अच्छा खाना बनाते हैं

    सचिन के साथ अपनी दोस्ती पर अकरम ने कहा कि हम हमेशा से अच्छे दोस्त रहे हैं. वो जबरदस्त होस्ट हैं, अगर बुलाएं तो जरूर जाना. घर का खाना खिलाते हैं. तभी सचिन ने कहा कि मैं अच्छा खाना बनाता हूं और मुझे खाना बनाना पसंद है.सचिन ने कहा कि बहुत से क्रिकेटर देखें हैं जो फिल्ड से बाहर होते ही एक दूसरे को भूल जाते हैं. लेकिन अकरम उनमें से नहीं हैं, हम उनसे परिवार की बातें करते हैं. अच्छे दोस्त हैं.

  • 20:14 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'सचिन को स्लेजिंग से ताकत मिलती थी'

    अकरम ने कहा बताया कि एक समय में 15 ओवर का पावरप्ले था और जब कोई परफेक्ट बल्लेबाज आता था, तो मुझे लगता था कि इसे आउट तो होना नहीं है और शॉट भी प्रॉपर खेलेगा.

    अकरम ने कहा कि 90 के दशक में भी स्लेजिंग चल रही थी. उन्होंने कहा कि स्लेज उस बल्लेबाज को किया जाता है जिस्से गुस्सा आता हो लेकिन सचिन तो शांत रहते थे. वो स्लेजिंग से मोटिवेट होते थे. इसलिए हम इन्हें कुछ भी कहना बंद कर दिया था.

  • 20:09 ISTPosted by Ajit Tiwari

    पाकिस्तान के पूर्व कप्तान वसीम अकरम ने बताया कि जब मैं 17 साल की उम्र में टीम में आया था तो मैं बड़े खिलाड़ियों को खुश करने की कोशिश में रहता था. मैं उनसे कंपीटिशन करता था. आप हर किसी की इज्जत करते हो लेकिन जब आप मैदान पर होते हो तो अच्छा खेलना होता है फिर सामने चाहे कोई भी हो.

  • 20:03 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब 16 साल की उम्र में सचिन को लगा कि करियर खत्म हो गया

    सचिन तेंदुलकर ने कहा कि लॉर्ड्स से बहुत पुरानी यादें जुड़ी हैं. उन्होंने कहा कि मैं जब टीम में शामिल हुआ पहली बार तब सबसे पहले मैंने पंजाबी सीखी. सचिन ने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में शुरू में वसीम ने मुझे (जब मैं 16 साल का था) चार गेंद बाउंसर मारी, तब मुझे पता चला कि शुरुआत ऐसे ही होती है. मुझे लगा था कि यहीं सब खत्म हो गया. जब मैं आउट होकर वापस जा रहा था तब मैं बहुत मायूस था. मैं वॉशरूम गया और खुद को आइने में देखा और सोचा कि यहीं पर सब कुछ खत्म हो रहा है. साथ ही मैं यह भी सोच रहा था कि काश मुझे एक मौका और मिल जाए.

  • 19:47 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'द ग्लेडियेटर्स'

    भारत के पूर्व महान बल्लेबाज और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य सचिन तेंदुलकर और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और 1992 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य वसीम अकरम ने सलाम क्रिकेट 2019 के 'द ग्लेडियेटर्स' सेशन में शिरकत की.

  • 19:42 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'पाकिस्तान की कप्तानी कमजोर'

    यूनुस ने कहा कि पाकिस्तान की कप्तानी में कमी है. मिस्बाह के जाने के बाद टीम की कप्तानी कमजोर हुई है. मैं खुद भी चार साल तक उप कप्तान रहा, मैंने उस समय सीखा. विराट कोहली भी धोनी के साथ लंबा खेले फिर कप्तान बने.

  • 19:42 ISTPosted by Ajit Tiwari

    अश्विन ने कोहली की जमकर तारीफ की

    अश्विन ने कहा कि विराट कोहली के सामने कितना भी बड़ा स्कोर हो या लक्ष्य हो, वो उसे ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं. धोनी के खेल पर उन्होंने कहा कि उन्हें पता है कि क्या करना है. वो स्टेबल रहते हैं और स्कोर भी करते हैं. उनके पास अनुभव है और उसे दुकान से नहीं खरीदा जा सकता. वो मीडिल ऑर्डर में बेहतर बल्लेबाजी करते हैं. जब भी विकेट गिरता है तो प्लेयर को आराम से लंबा खेलना होता है और धोनी यह काम बखूबी करते हैं.

  • 19:37 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'बुमराह तीनों फॉर्मेट में सुपर स्टार'

    बुमराह के बारे में उन्होंने कहा कि वो तीनों फॉर्मेट में सुपर स्टार हैं. वहीं, अश्विन ने कुलदीप और चहल के बारे में कहा कि वो मीडिल ऑर्डर के बल्लेबाजों को अच्छी गेंदबाजी करते हैं. वो फिल्ड के हिसाब से गेंदबाजी करते हैं.

  • 19:36 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'सचिन और द्रविड़ के कारण कोहली बने स्टार'

    यूनुस खान ने बताया कि विराट कोहली के खेल में निखार आया क्योंकि उनके साथ सचिन और द्रविड़ जैसे खिलाड़ी उस टीम में थे. टीम इंडिया की गेंदबाजी पर यूनुस ने कहा कि टीम इंडिया के 3 से 4 गेंदबाज 140 से ज्यादा की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं जो कि किसी भी टीम के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं. साथ ही टीम की स्पिन गेंदबाजी भी इस समय बेहतर है.

  • 19:31 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब भिड़ देखकर डर गए थे अश्विन

    अश्विन ने कहा कि मोहाली में 2011 वर्ल्ड कप के सेमी फाइनल मुकाबले से पहले मैं क्राउड देखकर डर गया था. मैंने ऐसा क्राउड पहले कभी नहीं देखा था. मैं उस समय होटल में था और डरा हुआ था हालांकि मैं मैच नहीं खेल रहा था.

    यूनुस ने बताया कि भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट होनी चाहिए. 2004 में मैं इंडिया में खेला और प्लेयर बन गया. 2005 में द्रविड़ ने मुझे टिप्स दिए.

  • 19:22 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'पाकिस्तान के गेंदबाज खतरनाक'

    अश्विन ने कहा कि पहले पाकिस्तान की टीम में चैम्पियंस की कमी नहीं थी. लेकिन अब ऐसा नहीं है. वहीं, भारतीय टीम आईपीएल में खेलती है और वहां भी वर्ल्ड कप के सेमी फाइनल से कम दबाव नहीं होता. पाकिस्तान के गेंदबाजों के हाथ में जो स्किल है अगर वो काम कर गया तो कुछ भी हो सकता है.

  • 19:20 ISTPosted by Ajit Tiwari

    दबाल झेलने वाला विनर होगा- यूनुस

    भारत से तीन मैच हारने वाले कप्तान यूनुस खान ने कहा कि भारत-पाक मुकाबले में दबाव बहुत होता है. ऐसे में जो दबाव को अच्छे से खेलेगा वो जीतेगा. टीम इंडिया के पास बेहतरीन खिलाड़ी हैं. वो दबाव को झेलना जानते हैं. वो लगातार मैच खेलते आए हैं. वहीं पाकिस्तान की टीम काफी यंग है. उन्होंने कहा कि विराट कोहली अपने मुल्क में खेलकर प्लेयर बने हैं.

  • 19:16 ISTPosted by Ajit Tiwari

    अश्विन ने बताई अपनी फेवरेट टीम

    अश्विन ने कहा कि इंडिया इस टूर्नामेंट में फेवरेट है. रोहित और विराट दुनिया के दो सबसे खतरनाक बल्लेबाज टीम में हैं. इसके बाद पंड्या और धोनी हैं. फिर जाधव, राहुल और फिर गेंदबाजी में पेस और स्पिन बेहद शानदार है. साथ ही उन्होंने कहा कि इंग्लैंड और इंडिया फाइनल खेलेंगे, लेकिन इंडिया और पाकिस्तान के बीच फाइनल हो तो ज्यादा खुशी होगी.यूनुस ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया अच्छी हो गई है. न्यूजीलैंड बड़े मैच अच्छा खेलती है. वेस्टइंडीज भी अच्छा खेल रही है. लेकिन पाकिस्तान और इंडिया के बीच फाइनल हो तो मजा आएगा.

  • 19:13 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कौन जीतेगा, भारत या पाकिस्तान?

    अश्विन ने कहा कि भारत हमेशा से पाकिस्तान पर भारी रहा है. इस बार भी भारत जीतेगा. वहीं मिस्बाह ने कहा कि हम पहले कुछ भी नहीं कह सकते. चैम्पियंस ट्रॉफी को ही देख लीजिए. साथ ही उन्होंने कहा कि दोनों टीमों के बीच खेला जाने वाला मैच नजदीक तक जाना चाहिए.

  • 19:10 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'हमारी गेंदबाजी सबसे ताकतवर'

    वर्ल्ड कप में भारत-पाकिस्तान मैच को लेकर पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस खान ने कहा कि टीम इंडिया काफी मजबूत है. वहीं पाकिस्तान की टीम काफी यंग है. पाकिस्तान का स्टार्ट अच्छा नहीं हुआ और पहले भी कभी नहीं हुआ. लेकिन आगे अच्छा होगा.

    अश्विन ने कहा कि हमारी गेंदबाजी में इतनी ताकत है कि सभी खिलाड़ी 150 की रफ्तार से गेंद फेंक सकते हैं. साथ ही मोहम्मद शमी पिच का फायदा आसानी से उठा सकते हैं.

  • 19:06 ISTPosted by Ajit Tiwari

    अश्विन बनाम यूनुस – वर्ल्ड कप 2011 का वो सफर

    भारतीय ऑफ स्पिनर और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य रविचंद्रन अश्विन के साथ पाकिस्तान के पूर्व कप्तान यूनुस खान ने शिरकत किया.

  • 19:01 ISTPosted by Ajit Tiwari

    'गांगुली खुद को सबसे बड़ा बॉस समझते थे, उन्होंने स्टीव वॉ को कराया था इंतजार'

    गांगुली को लेकर माइकल क्लार्क ने एक दिलचस्प किस्सा सुनाया. उन्होंने कहा कि सौरव हमें दिखाना चाहते थे कि कौन बॉस है, विशेष रूप से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ. स्टीव वॉ उनके आस-पास नहीं होते थे. एक बार स्टीव वॉ टॉस के लिए मैदान में पहुंचे और सौरव ने उन्हें पिच पर इंतजार कराया. वह 10 मिनट बाद वहां पहुंचे. अंत में जब वॉ ने सिक्का उछाला, तो सौरव ने हेड-टेल कहा. उन्होंने उसी समय हेड-टेल कहा, नीचे झुककर सिक्का उठाया और कहा कि हम पहले बल्लेबाजी करेंगे और चल दिए. यह सब देख स्टीव वॉ भ्रम में रहे कि आखिर यह हुआ क्या...?

  • 18:41 ISTPosted by Ajit Tiwari

    गांगुली ने भारतीय क्रिकेट को बदला, उसे सिर्फ जीत में दिलचस्पी थी- नासिर हुसैन

    नासिर हुसैन ने कहा कि सौरव गांगुली के कारण भारतीय क्रिकेट में बदलाव आया. गांगुली से पहले भारतीय क्रिकेटर बेहद विनम्र हुआ करते थे, उन्होंने टीम की सोच को बदला. लॉर्ड्स की बालकनी में अपनी शर्ट उतारकर उन्होंने अपनी जजबात सबके सामने रख दिए थे. गांगुली से पहले ज्यादातर भारतीय इस कमरे के लोगों की तरह विनम्र थे. लेकिन गांगुली ने भारत को एक बहुत ही प्यारे, मित्रवत और अच्छे क्रिकेट वाले राष्ट्र से एक क्रूर क्रिकेट वाले राष्ट्र में बदल दिया. उसकी बस जीतने में दिलचस्पी थी.

  • 18:30 ISTPosted by Ajit Tiwari

    धोनी धरती पर सबसे शांत, कोहली सब कुछ 100 की रफ्तार से करता है- नासिर

    नासिर हुसैन ने कहा, 'धोनी बहुत अच्छी तरह से काम करते हैं. एम एस धोनी इस धरती पर सबसे शांत प्रवृति के व्यक्ति हैं. वहीं, विराट कोहली उनके बिलकुल उलट हैं. विराट 100 मील प्रति घंटे की रफ्तार से सब कुछ करता है. वह मूल रूप से विनर है. एक रन चेज में वह इतना अच्छा क्यों है, क्योंकि वह देखता है कि उसका लक्ष्य रन को आउट करना होता है और यह सब उसके दिमाग में है. उसका दिन तब तक पूरा नहीं होता जब तक कि वह जीत नहीं जाता. एक कप्तान के रूप में ड्राइविंग फोर्स उनकी सबसे बड़ी प्रॉपर्टी है. मुझे लगा कि भारत में कभी ऐसा क्रिकेटर नहीं होगा जो सचिन तेंदुलकर की जगह ले सकता है लेकिन कोहली ने मुझे गलत साबित कर दिया.'

  • 18:11 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कोहली अच्छे कप्तान, लेकिन...: क्लार्क

    माइकल क्लार्क ने भारतीय टीम की क्पतानी पर बात करते हुए कहा कि जब मैं भारतीय कप्तानों के बारे में सोचता हूं तो सौरव गांगुली और एमएस धोनी के बारे में सोचता हूं. विराट उस जगह तक पहुंचने के लिए बेहतर कर रहे हैं. वह अपनी टीम से सर्वश्रेष्ठ हासिल करने में शानदार काम कर रहे हैं. एक बल्लेबाज के रूप में एक दिवसीय क्रिकेट में उनके करीब कोई नहीं है. मुझे लगता है कि मैंने जिन दो महानतम खिलाड़ियों को देखा वह सचिन तेंदुलकर और ब्रायन लारा थे. लेकिन फिलहाल एकदिवसीय क्रिकेट में विराट का लेवल किसी भी अन्य खिलाड़ी से बेहतर है. इसमें कोई शक नहीं है कि वह क्रिकेट के महान खिलाड़ी हैं.

  • 18:09 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कोहली पर विश्व कप में जीत दिलाने का कितना दबाव?

    विराट कोहली पर इस विश्व कप में भारत को जीत दिलाने का कितना दबाव है और धोनी की अब क्या भूमिका रहेगी? नासिर हुसैन और क्लार्क ने दिए जवाब...




  • 18:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    इयॉन मोर्गन की कप्तानी पर नासिर हुसैन

    इयॉन मोर्गन की कप्तानी पर नासिर हुसैन ने कहा कि वर्ल्ड कपमें एक चीज़ जो इंग्लैंड में पीछे खींच सकती है वो टैलेंट नहीं बल्कि दबाव है. एक बार जब आप अपने ही घर में पसंदीदा टीम के रूप में एक टूर्नामेंट में जाते हैं, तो आपको डिलीवरी करनी होती है. इंग्लैंड के प्रशंसकों को ज्यादा उम्मीद हैं, लेकिन यही उम्मीद और दबाव है. उन्होंने मोर्गन की तारीफ करते हुए कहा कि वो वास्तव में दबाव को झेल लेते हैं. वह सबसे शांत कप्तान हैं. उनकी यह आदत एमएस धोनी से मिलती जुलती है.

  • 17:46 ISTPosted by Ajit Tiwari

    नासिर ने इंग्‍लैंड को बताया फेवरेट

    इंग्‍लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान नासिर हुसैन ने इंग्लैंड की टीम को वर्ल्ड कप 2019 में अपना फेवरेट बताया. उन्होंने कहा कि अगर टीम में हर कोई अपनी क्षमता से खेलता है, तो मुझे लगता है कि इंग्लैंड फाइनल में पहुंचेगा. वहीं, ऑस्ट्रेलिया के 2015 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया उनकी फेवरेट टीम है. साथ ही उन्होंने कहा कि भारत सेमी फाइनल में पहुंच सकती है. साथ ही क्लार्क ने वेस्टइंजीज, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और भारत को सेमी फाइनल के लिए बेस्ट टीम बताया.

  • 17:38 ISTPosted by Ajit Tiwari

    द चैलेंजर्स - आर इंग्लैंड एंड ऑस्ट्रेलिया द रियल थ्रैट फॉर इंडिया?

    इंडिया टुडे ग्रुप के सलाहकार संपादक (खेल) बोरिया मजूमदार ने 'द चैलेंजर्स - आर इंग्लैंड एंड ऑस्ट्रेलिया द रियल थ्रैट फॉर इंडिया?' सेशन में इंग्‍लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान नासिर हुसैन और ऑस्ट्रेलिया के 2015 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान माइकल क्लार्क के साथ बातचीत की.

  • 17:35 ISTPosted by Ajit Tiwari

    नेट वेस्ट सीरीज़ की ऐतिहासिक जीत को याद किया हभजन सिंह ने




  • 17:31 ISTPosted by Ajit Tiwari

    बुमराह भज्जी की टीम में

    गेंदबाजों की बात आई तो भज्जी ने जसप्रीत बुमराह, कगिसो रबाडा, रबाडा को तेज गेंदबाज के रूप में चुना.

  • 17:22 ISTPosted by Ajit Tiwari

    धोनी कप्तानी में 10 कदम आगे- भज्जी

    वर्ल्ड इलेवन के सवाल पर भज्जी ने कहा यह मुश्किल है लेकिन कप्तान एमएस धोनी होंगे. वर्ल्ड क्रिकेट में गांगुली के बाद धोनी सबसे बेहतर हैं. कहा जाता है कि कप्तान को दो कदम आगे होना चाहिए लेकिन धोनी 10 कदम आगे हैं. भज्जी ने रोहित शर्मा और वॉर्नर को ओपनर बताया. भज्जी ने कोहली को नंबर तीन के लिए चुना. इसके अलावा जब गेंदबाजों की बात आई तो भज्जी ने जसप्रीत बुमराह, कगिसो रबाडा, रबाडा को तेज गेंदबाज के रूप में चुना.

  • 17:22 ISTPosted by Ajit Tiwari

    रणवीर बने होस्ट

    रणवीर सिंह ने हरभजन सिंह और मिस्बाह उल हक का इंटरव्यू लिया. उन्होंने कहा कि मुझे लॉर्ड्स में प्रैक्टिस करने का मौका मिल रहा है इससे बड़ी बात क्या होगी. भज्जी ने कहा कि यह मौका तो अब हमें भी नहीं मिलता लेकिन आपको मिल रहा है क्योंकि आप कपिल देव हो.

  • 17:17 ISTPosted by Ajit Tiwari

    धोनी ने भारतीय क्रिकेट को बदल डाला- मिस्बाह

    मिस्बाह ने अपने फेवरेट इंडियन क्रिकेटर के रूप में सचिन तेंदुलकर का नाम लिया. उन्होंने कहा कि भारतीय क्रिकेट में बदलाव के लिए धोनी का बड़ा योगदान है. हालांकि, द्रविड़ और गांगुली ने भी अच्छा किया लेकिन धोनी के आने से टीम ने जो पाया वो बड़ी बात है.भज्जी ने कहा कि पाकिस्तान में मेरे बहुत फेवरेट रहे हैं. उन्होंने कहा कि वसीम अकरम मेरे फेवरेट रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि इंजमाम उल हक सबसे खतरनाक बल्लेबाज जिन्हें गेंजबाजी करने में मुझे बहुत दिक्कत हुई.

  • 17:17 ISTPosted by Ajit Tiwari

    क्या राजनीति से क्रिकेट को जोड़ना चाहिए?

    राजनीतिक तनाव पर हरभजन सिंह ने कहा कि हम जब भी पाकिस्तान के खिलाड़ियों से मिलते हैं तो कभी नहीं लगता कि कोई बदलाव हुआ है. हम अगर इन्हें जन्मदिन की शुभकामनाएं भी देते हैं तो देश में हमें गालियां पड़नी शुरू हो जाती है. पाकिस्तान में भी कुछ ऐसे ही लोग होंगे. लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि पूरा पाकिस्तान और पूरा भारत खराब है. कुछ भी बात होती है तो बात आती है कि क्रिकेट बंद कर दो, ट्रेड जारी रहने दो लेकिन क्रिकेट बंद कर दो. सभी चीजों को एक ही तराजू में तौलना चाहिए. मिस्बाह ने कहा कि क्रिकेट को राजनीति से अलग रखना चाहिए. दुनिया का कोई भी मुल्क खेलता है लेकिन क्रिकेट की एक फैमली है. स्पोर्ट लोगों को करीबा लाने के लिए होता है न कि दूर करने के लिए. इनसानियत जरूरी है.

  • 17:09 ISTPosted by Ajit Tiwari

    ...जब शोएब अख्तर ने भज्जी से मांगी मैच की टिकटें

    शोएब अख्तर ने सेमीफाइनल की टिकटें मांगी थी क्योंकि उसके फैमली के कुछ लोग आए थे. तो भज्जी ने कहा कि कोई बात नहीं ले लेना. इसके बाद भज्जी ने 4 टिकटें दीं. इसके बाद अख्तर ने भज्जी को फाइनल की टिकटें भी मांगी, जिस पर भज्जी ने कहा कि तुम क्या करोगी फाइनल का टिकट, वहां तो हम जा रहे हैं और अगर तुम्हें जाना है मैच देखने के लिए तो तुम खुद टिकट बुक कराओ.

  • 17:06 ISTPosted by Ajit Tiwari

    वॉर्न की ड्रीम XI...

    एडम गिलक्रिस्ट (WK), सचिन तेंदुलकर, रिकी पॉन्टिंग, ब्रायन लारा, मार्क वॉ, कुमार संगाकारा, एंड्रयू फ्लिंटॉफ, शाहिद आफ्रिदी, वसीम अकरम, मुथैया मुरलीधरन, ग्लेन मैग्रा

  • 17:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    भारत-पाकिस्तान, किस टीम पर ज्यादा दबाव होगा?

    हरभजन ने कहा कि भारत पर दबाव ज्यादा होगा, क्योंकि जो पहलवान दमदार होता है उसके जेहन में यह बात होती है कि कहीं हार न जाएं. दूसरी बात यह है कि टीम इंडिया पर दबाव इसलिए भी होगा क्योंकि फिर देश में प्रतिक्रियाओं बहुत तरह तरह की होती हैं. पाकिस्तान के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है, अगर वो जीत जाती है तो उसके लिए बोनस होगा लेकिन भारत हारता है तो वो भारत के लिए बहुत खराब बात होगी.

  • 16:57 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कोहली दुनिया के सबसे बड़े खिलाड़ी- मिस्बाह

    भारतीय ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने पाकिस्तानी खिलाड़ी बाबर की जमकर तारीफ की. मिस्बाह ने कहा कि विराट कोहली सबसे बड़ खिलाड़ी हैं. उनकी मैच जीतने की भूख लाजबाव है. वो काफी पॉजीटिव रहते हैं. उनके अलावा रोहित और धोनी हैं. इसके अलावा भारत की गेंदबाजी काफी मजबूत है.

  • 16:54 ISTPosted by Ajit Tiwari

    मिस्बाह बोले- भारत के पास वर्ल्ड कप जीतने के चांस

    वर्ल्ड कप में भारत का मुकाबला पाकिस्तान से नहीं इंग्लैंड से है. पाकिस्तान की फॉर्म अच्छी नहीं है. पहले की पाकिस्तान की टीम को हराना मुश्किल था लेकिन अभी नहीं. भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाला मुकाबला सबसे बड़ा नहीं है.
    मिस्बाह ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मुकाबला सबसे बड़ा मुकाबला हमेशा से रहा है और होगा. पाकिस्तान की टीम अच्छे फॉर्म में नहीं है. कैपेबिलिटी है इस टीम में. बल्लेबाज अच्छे हैं, लेकिन भारत के चांस ज्यादा हैं. इंडिया और इंग्लैंड दो सबसे मजबूत टीमें हैं और बाकी टीमें उनके बाद आती हैं.

  • 16:48 ISTPosted by Ajit Tiwari

    मिस्बाह ने कहा - पाकिस्तान से हारेगा भारत, भज्जी बोले- संभव नहीं

    भारत और पाकिस्तान मैच पर भारतीय ऑफ स्पिनर और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य हरभजन सिंह ने बताया कि पाकिस्तान की टीम के पास फॉर्म नहीं है. पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मिस्बाह उल हक ने कहा कि इस बार हम भारत को हराएंगे. जवाब में हरभजन ने कहा कि हो ही नहीं सकता कि पाकिस्तान टीम इंडिया को हरा सके. उन्होंने कहा कि पहले जब सबसे अच्छी टीम थी तब भारत को हरा नहीं पाए तो अभी तो बहुत कमजोर टीम है.

  • 16:40 ISTPosted by Ajit Tiwari

    भारतीय टीम में 5 मैच विजेता: वॉर्न

    शेन वार्न ने कहा कि हर टीम में दो या तीन मैच विजेता होते हैं. मैं भारतीय टीम में रोहित शर्मा, विराट कोहली, एम एस धोनी, हार्दिक पंड्या और जसप्रीत बुमराह को मैच विनर मानता हूं. ये ऐसे 5 मैच विजेता हैं जो टूर्नामेंट या खेल के किसी भी चरण में खेल को अपने दम पर बदल सकते हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि इंडिया के पास कई मैच विजेता हैं जो इस बार टीम को वर्ल्ड कप फाइनल के बहुत नजदीक तक ले जा सकते हैं और जीता सकते हैं.

  • 16:36 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कैसे 1983 के विश्व कप ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया?

    सुनील गावस्कर ने कहा, 'हां, 1983 के विश्व कप ने भारतीय क्रिकेट को हमेशा के लिए बदल दिया. रंगीन टीवी लगभग 6 महीने पहले ही आया था. बहुत सारे मैचों का सीधा प्रसारण नहीं किया गया था. लेकिन इसमें भी, जब भारत ने रंगीन टीवी पर विश्व कप जीता, लोगों को मैचों को लाइव देखने को मिला. जिसने भारतीय क्रिकेट को हमेशा के लिए बदल दिया. हमें कहना होगा कि 1983 की जीत आज क्रिकेट की दिशा में पहला कदम था.'

  • 16:34 ISTPosted by Ajit Tiwari

    राशिद मेरे फेवरेट- वॉर्न

    वॉर्न ने कहा कि मेरे लिए सबसे बेहतरीन स्पिनर राशिद खान हैं.

  • 16:33 ISTPosted by Ajit Tiwari

    क्रिस गेल की बल्लेबाजी पर वॉर्न और गावस्कर

    एक ओपनर के रूप में क्रिस गेल के साथ बल्लेबाजी की बात पर शेन वार्न ने कहा कि अगर सनी अब खेल रहे होते तो वह आज भी बेहतर खेलते क्योंकि वह एक बेहतरीन खिलाड़ी रहे हैं. किसी भी युग का कोई भी महान खिलाड़ी आधुनिक क्रिकेट (वर्तमान क्रिकेट) के अनुकूल होगा.वहीं, सुनील गावस्कर ने कहा, 'मुझे लगता है कि अब खेल बहुत आकर्षक हो गया है. मुझे गेंदबाजों को सलामी बल्लेबाजों द्वारा हिट करते देखकर बहुत मजा आता है. अधिकांश शॉट जो वे खेले जाते हैं, वे अच्छे क्रिकेट शॉट्स होते हैं. हां कभी-कभी क्रिस गेल जैसा कोई भी व्यक्ति बाहर आ जाता है और बहुत आक्रमक हो जाता है, लेकिन आप जेसन रॉय और रोहित शर्मा को देख सकते हैं, जो एक बेहतर क्रिकेट खेल रहे हैं. फर्क सिर्फ इतना है कि वे लॉफ्टेड ड्राइव खेल रहे हैं. हमारा खेल अगल था और वही हमारे डीएनए में था. हम गेंद को छह इंच से ऊपर नहीं मार सकते थे, अगर ऐसा करते तो कोच हमें सजा देते थे. क्रिकेट में हमारी परवरिश अलग थी. लेकिन अब कोच आपको आगे बढ़ने और खुद को व्यक्त करने के लिए कहते हैं.

  • 16:23 ISTPosted by Ajit Tiwari

    स्पिनर्स की भूमिका अहम- गावस्कर

    सुनिल गावस्कर ने स्पिनर्स पर बात करते हुए कहा कि पहले कोई भी स्पिनर नहीं होता था. लेकिन 1985 में जब हमने मेलबर्न में विश्व चैम्पियनशिप जीती थी, तब पहली बार एक लेग स्पिनर का इस्तेमाल किया गया था, वो थे एल शिवरामकृष्णन. उन्होंने रवि शास्त्री के साथ 18-19 विकेट लिए थे. तब से लेग स्पिनर और भी महत्वपूर्ण हो गया है. यहां तक ​​कि जब शेन ने गेंदबाजी की थी, तब सिर्फ इतनी विविधता थी. मध्यम तेज गेंदबाजों और तेज गेंदबाजों की गेंद का अंदाजा लगाया जा सकता था, बल्लेबाज उन्हें शॉट मार सकता था. लेकिन एक लेग स्पिनर के साथ आप हमेशा ऐसा नहीं कर सकते. उदाहरण के लिए राशिद खान को देखें, तो वह एक तेज लेग स्पिनर हैं, लेकिन आप उन्हें लाइन में नहीं लगा सकते. यही कारण है कि मुझे लगता है कि लेग स्पिनरों की अब बड़ी भूमिका है.

  • 16:15 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कोहली पर क्या बोले गावस्कर?

    विराट कोहली पर गावस्कर ने कहा कि उनकी फिटनेस की उनकी कामयाबी में अहम भूमिका है. साथ ही वो काफी विश्वास से भरे हुए हैं. उन्होंने विवियन रिचर्ड्स से तुलना करते हुए कहा कि कोहली हमेशा अग्रेसिव रहते हैं, लेकिन रिचर्ड्स ऐसे नहीं थे. विराट पहले ही गेंद से गेंदबाज पर हमलावर रहने की कोशिश करते हैं. वॉर्न ने कहा कि सचिन तेंदुलकर और ब्रायन लारा दुनिया के दो सबसे बेहतरीन बल्लेबाज रहे हैं.

  • 16:07 ISTPosted by Ajit Tiwari

    पिछले 20 वर्षों में क्रिकेट में क्या-क्या बदलाव हुए?

    शेन वार्न ने कहा कि खेल के प्रति खिलाड़ियों का रवैया अब बदल गया है. गेंदबाजों को भी उसी स्तर पर सुधार करने की जरूरत है, जैसा बल्लेबाजों ने इन सालों में किया है. जब आप बल्ले और गेंद के बीच जबरदस्त मुकाबला देखते हैं तो फिर पिच और ग्राउंड कैसा है इससे भी फर्क पड़ता है. इसलिए मेरे लिए क्रिकेट में सबसे बड़ी बात क्रिकेट में यह सुनिश्चित करना है कि बल्ले और गेंद के बीच जबरदस्त मुकाबला हो और इसके लिए पिच का सही होना जरूरी है. फिल्डिंग में एथलेटिक्स का भी कमाल रहा है. जिस तरह फील्डर्स मैदान पर खुद को झोंक देते हैं, वो कमाल का है. मैं अब भारतीय टीम को देखता हूं, मैंने जिन भारतीयों के साथ खेला, उनमें से कोई भी अच्छा फिल्डर नहीं था. लेकिन अब टीम इंडिया के खिलाड़ी दुनिया में किसी न किसी रूप में बेहतर हैं. विकेटों के बीच उनकी दौड़ अद्भुत है.

  • 16:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    सलाम क्रिकेट में रणवीर सिंह

    सलाम क्रिकेट के मंच पर अभिनेता रणवीर सिंह भी पहुंचे हैं. वो कपिल देव के जीवन पर बनी फिल्म में उनकी भूमिका में हैं. बता दें कि फिल्म की टीम भी शूटिंग के लिए लंदन पहुंची है.

  • 15:58 ISTPosted by Ajit Tiwari

    1983 वर्ल्ड कप के दौरान अमेरिका यात्रा की योजना थी- गावस्कर

    1983 के विश्व कप में भारत की संभावना के बारे में बात करते हुए सुनील गावस्कर ने कहा, 'हमने 1983 विश्व कप के पूरा होने के बाद अमेरिका की यात्रा की योजना बनाई थी. जिस तरह से हमने 1975 और 1979 में प्रदर्शन किया था, उसके कारण हम ज्यादा आशावादी नहीं थे. 1980-81 में ऑस्ट्रेलिया दौरे पर एकदिवसीय प्रारूप में टीम इंडिया ने उलटफेर करना शुरू किया, जहां हमें 10 वनडे मैच खेलने थे, 5 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ और 5 न्यूजीलैंड के खिलाफ. और यह पहली बार था जब हमने वनडे को गंभीरता से लिया. इस बार पर्याप्त पुरस्कार राशि भी थी. इसलिए हमने इसे गंभीरता से लेना शुरू कर दिया.

  • 15:52 ISTPosted by Ajit Tiwari

    गावस्कर ने ऑस्ट्रेलिया को बताया अपना फेवरेट

    आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 में अपनी पसंदीदा टीम के सवाल के जवाब में सुनील गावस्कर ने कहा, 'मेरी फेवरेट टीम ऑस्ट्रेलिया है क्योंकि मुझे लगता है कि वॉर्न भारत को अपनी पसंदीदा टीम बताएंगे. इसके बाद वॉर्न ने कहा कि मैं गावस्कर की बातों से सहमत हूं. भारत के पास खिताब जीतने का शानदार मौका है. टीम बेहद बैलेंस्ड है. उनके पास सबसे अच्छे बल्लेबाज कोहली हैं और दुनिया के सबसे अच्छे गेंदबाज बुमराह हैं. लेकिन इंग्लैंड की टीम भी बेहतर खेल रही है. घर में उसे पीटना किसी भी टीम के लिए मुश्किल होगा.'

  • 15:47 ISTPosted by Ajit Tiwari

    मेरे शतक की कोई बात नहीं करता- गावस्कर

    गावस्कर ने 174 गेंद पर 36 रन की अपनी पारी पर कहा कि मैंने अपने करियर के अंत में सेकेंड फास्टेस्ट सेंचुरी बनाई लेकिन उसकी कोई बात नहीं करता.

  • 15:43 ISTPosted by Ajit Tiwari

    भारत जीत सकता है वर्ल्ड कप- वॉर्न

    शेन वॉर्न ने कहा कि भारत के पास इस बार वर्ल्ड कप जीतने का बेहतरीन मौका है. भारत और इंग्लैंड की टीम फाइनल खेल सकती है. भारत की गेंजबादी काफी मजबूत दिख रही है.

  • 15:40 ISTPosted by Ajit Tiwari

    1983 वर्ल्ड कप में गावस्कर ने जेब में रख ली थी गेंद!

    भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर और ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिनर शेन वॉर्न ने सलाम क्रिकेट के पहले सेशन में हिस्सा लिया. इस सेशन इंडिया टुडे के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई ने गावस्कर और वॉर्न से बातचीत की. गावस्कर ने लॉर्ड्स के मैदान में खड़े होकर कहा कि वर्ल्ड कप 1983 में मिली ऐतिहासिक जीत मेरे जीवन का सबसे बेहतरीन पल था. साथ ही उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने फाइनल में खिताबी जीत हासिल करने के बाद गेंद को अपने जेब में रख लिया था.

  • 15:06 ISTPosted by Ajit Tiwari

    गावस्कर ने बताया, कोहली की सेना को कैसे मिल सकती है जीत...

    सलाम क्रिकेट: लॉर्ड्स के मैदान से गावस्कर, दिए इंडिया की जीत के Tips

  • 15:05 ISTPosted by Ajit Tiwari

    सलाम क्रिकेट 2019 कार्यक्रम का पूरा विवरण

    11:00 PM - 12:00 AM (भारतीय समयानुसार):   द लीग ऑफ चैंपियंस

    स्पीकरः सुनील गावस्कर, भारत के पूर्व कप्तान

           वसीम अकरम, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और 1992 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           माइकल क्लार्क, ऑस्ट्रेलिया के 2015 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान

           नासिर हुसैन, इंग्लैंड के पूर्व कप्तान

           विवियन रिचर्ड्स, वेस्टइंडीज के पूर्व महान बल्लेबाज और 1975, 1979 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    9:30 - 10:00 PM (भारतीय समयानुसार):  ब्रेक

    10:00 - 11:00 PM (भारतीय समयानुसार):  ये जंग नहीं आसान – भारत बनाम पाकिस्तान

    स्पीकरः सुनील गावस्कर, भारत के पूर्व कप्तान

           हरभजन सिंह, भारतीय ऑफ स्पिनर, 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           रविचंद्रन अश्विन,  भारतीय ऑफ स्पिनर, 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           वसीम अकरम, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और 1992 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           मिस्बाह उल हक,  पाकिस्तान के पूर्व कप्तान

           यूनुस खान, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    8:45 - 9:30 PM (भारतीय समयानुसार):  ओपन हाउस विद द किंग

    स्पीकरः विवियन रिचर्ड्स, वेस्टइंडीज के पूर्व महान बल्लेबाज और 1975, 1979 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    7:45 - 8:45 PM (भारतीय समयानुसार):  सचिन vs वसीम – द ग्लेडियेटर्स

    स्पीकरः  सचिन तेंदुलकर,  भारत के पूर्व महान बल्लेबाज और 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

            वसीम अकरम, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और 1992 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    6:00 – 7:00 PM (भारतीय समयानुसार): लंच

    7:00 - 7:45 PM (भारतीय समयानुसार):  अश्विन बनाम यूनुस – वर्ल्ड कप 2011 का वो सफर

    स्पीकरः रविचंद्रन अश्विन,  भारतीय ऑफ स्पिनर, 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           यूनुस खान, पाकिस्तान के पूर्व कप्तान

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    5:15 - 6:00 PM (भारतीय समयानुसार): द चैलेंजर्स - आर इंग्लैंड एंड ऑस्ट्रेलिया द रियल थ्रैट फॉर इंडिया?

    स्पीकरः माइकल क्लार्क, ऑस्ट्रेलिया के 2015 वर्ल्ड कप विजेता कप्तान

           नासिर हुसैन, इंग्लैंड के पूर्व कप्तान

  • 15:02 ISTPosted by Ajit Tiwari

    4:30 - 5:15 PM (भारतीय समयानुसार): भज्जी vs मिस्बाह – जब जब जीता हिंदुस्तान

    स्पीकरः हरभजन सिंह, भारतीय ऑफ स्पिनर, 2011 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य

           मिस्बाह उल हक,  पाकिस्तान के पूर्व कप्तान

  • 15:01 ISTPosted by Ajit Tiwari

    4:15 - 4:30 PM (भारतीय समयानुसार):  वॉर्न की ड्रीम इलेवन

    स्पीकरः  शेन वॉर्न, ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिनर

  • 14:48 ISTPosted by Ajit Tiwari

    3:30 - 4:15 PM (भारतीय समयानुसार): स्पीकरः सुनील गावस्कर, भारत के पूर्व कप्तान       शेन वॉर्न, ऑस्ट्रेलिया के पूर्व लेग स्पिनर

  • 14:45 ISTPosted by Ajit Tiwari

    तेंदुलकर और रिचर्ड्स समेत जुटेंगे ये सितारे...

    एक ही मंच पर 11 दिग्गज जुटेंगे. सुनील गावस्कर, शेन वॉर्न, हरभजन सिंह, मिस्बाह उल हक, माइकल क्लार्क, नासिर हुसैन, रविचंद्रन अश्विन, यूनुस खान, सचिन तेंदुलकर, वसीम अकरम, विवियन रिचर्ड्स सभी खेलेंगे टीम आजतक के लिए. आज इनके साथ आप भी पूरे दिन कहिए सलाम क्रिकेट.

  • 14:44 ISTPosted by Ajit Tiwari

    कौन बाजी मारेगा- भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या कोई और..?

    रविवार 2 जून को आजतक के मंच पर सितारे लंदन के 'लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड' में चमकेंगे. 'सलाम क्रिकेट लंदन' में क्रिकेट के दिग्गज बताएंगे कौन बनेगा वर्ल्ड चैम्पियन. टूर्नामेंट में भारत की पाकिस्तान से टक्कर 16 जून को है सो भारत-पाकिस्तान के पूर्व कप्तान मंच पर एक-दूसरे का मुकाबला करेंगे. ये धुरंधर बताएंगे इस बार वर्ल्ड कप में कौन बाजी मारेगा - भारत, पाकिस्तान, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया या कोई और..?

  • 14:43 ISTPosted by Ajit Tiwari

    क्रिकेट की जन्मभूमि इंग्लैंड में आजतक के मंच पर 11 दिग्गज

    भारत को अपना पहला मैच साउथ अफ्रीका के खिलाफ 5 जून को खेलना है. 'आजतक' और 'इंडिया टुडे' क्रिकेट की जन्मभूमि इंग्लैंड में है. क्रिकेट के हर अहम मुकाम पर सलाम क्रिकेट आपके लिए सितारों को संजो कर लाता है. दुनिया के बड़े-बड़े कप्तान, धुआंधार बल्लेबाज, गेंदों के बाजीगर क्रिकेट की हर बारीकी बताते हैं और वो भी एक मंच से, जिसका नाम है सलाम क्रिकेट 2019.

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay