एडवांस्ड सर्च

जब चला पीयूष चावला और भज्जी का जादू

पीयूष चावला की खूबसूरत लेग ब्रेक और हरभजन सिंह की चतुराई भरी गेंदबाजी से भारत ने विश्व कप से पहले अपने स्पिन आक्रमण की मजबूती का बेमिसाल नजारा पेश करके अभ्‍यास क्रिकेट मैच में पिछले तीन बार के चैंपियन आस्ट्रेलिया को 38 रन से मात देकर अपने कम स्कोर का बखूबी बचाव किया.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आजतक वेब ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 18 February 2011
जब चला पीयूष चावला और भज्जी का जादू

पीयूष चावला की खूबसूरत लेग ब्रेक और हरभजन सिंह की चतुराई भरी गेंदबाजी से भारत ने विश्व कप से पहले अपने स्पिन आक्रमण की मजबूती का बेमिसाल नजारा पेश करके अभ्‍यास क्रिकेट मैच में पिछले तीन बार के चैंपियन आस्ट्रेलिया को 38 रन से मात देकर अपने कम स्कोर का बखूबी बचाव किया.

भारतीय टीम पहले बल्‍लेबाजी करते हुए पूरी टीम 44.3 ओवर में 214 रन पर सिमट गयी. एक मात्र वीरेंद्र सहवाग की ऐसे बल्‍लेबाज रहे जो अर्धशतक बना पाए. कंगारुओं के लिए यह लक्ष्‍य कोई ज्‍यादा बड़ा नहीं था लेकिन भारतीय गेंदबाज पीयूष चावला ने 31 रन देकर चार आस्‍ट्रेलियाई खिलाडि़यों को पवेलियन की राह दिखाते हुए मैच का नक्‍शा बदल दिया.

आस्ट्रेलियाई टीम के लिये अभ्‍यास मैच में एक अच्छी बात यह रही कि चोट से उबरने के बाद वापसी करने वाले कप्तान रिकी पोंटिंग (85 गेंद पर 57 रन) बल्लेबाजी का पर्याप्त अभ्‍यास किया. चावला कभी अपनी गुगली पर अधिक विश्वास दिखाते थे लेकिन इस मैच में उन्‍होंने लेग ब्रेक और स्लाइडर का जानदार नमूना पेश किया और आस्ट्रेलियाई मध्यक्रम को तहस नहस करने में अहम भूमिका निभायी.

आस्‍ट्रेलिया ने एक समय इस अभ्‍यास मैच में दो विकेट खोकर 100 से ज्‍यादा रन बना लिए थे लेकिन तभी कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी ने गेंद चावला को थमाई और उन्‍होंने एक के बाद एक लगातार चार बल्‍लेबाजों को आउट करके भारत की मैच में वापसी कराई. चावला ने पहले क्‍लार्क को बिना खाता खोले ही बोल्‍ड करके अपने नाम पहली सफलता दर्ज कराई. इसके बाद इस भारतीय स्पिनर ने कैमरून व्‍हाइट (4), डेविड हसी (0) और कैलम फर्ग्‍यूसन (8) को आउट करके कंगारुओं को पछाड़ दिया.

हालांकि इसके बाद बाकी की कसर को हरभजन ने पूरा करते हुए 9 रन के अंदर पोंटिंग सहित तीन बल्‍लेबाजों को आउट करके भारत की जीत की इबारत लिख डाली. वैसे तो यह एक अभ्‍यास मैच था लेकिन अगर टीम इंडिया इसी तरह से आगे भी खेली तो इस बार वह घरेलू मैदानों का फायदा उठाकर विश्‍व कप पर कब्‍जा जमा सकती है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay