एडवांस्ड सर्च

नेहरा को आखिरी ओवर सौंपना सही फैसला था: धोनी

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप मैच में आशीष नेहरा को आखिरी ओवर सौंपने के अपने फैसले को सही करार दिया लेकिन साथ ही स्वीकार किया कि उनके गेंदबाज दबाव में थे.

Advertisement
भाषानागपुर, 13 March 2011
नेहरा को आखिरी ओवर सौंपना सही फैसला था: धोनी

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्व कप मैच में आशीष नेहरा को आखिरी ओवर सौंपने के अपने फैसले को सही करार दिया लेकिन साथ ही स्वीकार किया कि उनके गेंदबाज दबाव में थे.

दक्षिण अफ्रीका को आखिरी ओवर में 13 रन की दरकार थी और उसके पुछल्ले बल्लेबाज रोबिन पीटरसन ने पहली चार गेंद पर ही 16 रन ठोककर अपनी टीम को जीत दिला दी.

धोनी से जब पूछा गया कि क्या नेहरा को अंतिम ओवर सौंपना सही फैसला था जबकि आफ स्पिनर हरभजन सिंह के भी ओवर बचे हुए थे, उन्होंने कहा, ‘मेरे पास हरभजन ही केवल विकल्प बचा था लेकिन मेरा मानना है कि ऐसी परिस्थितियों में तेज गेंदबाज अधिक उपयोगी होते हैं. मैं गलत भी हो सकता हूं लेकिन मुझे लगता है कि यही बेहतर विकल्प था.’ उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ महीनों तक वह हमारा मुख्य गेंदबाज रहा है. उसने पावरप्ले और स्लाग ओवरों में हमेशा अच्छी गेंदबाजी की और इसलिए उस पर विश्वास करने में मुझे कुछ भी गलत नहीं लगता.’

भारतीय कप्तान ने कहा, ‘हमारे गेंदबाजों को सही स्थान पर गेंद करने की जरूरत थी लेकिन वे बहुत अधिक दबाव में थे तथा यदि आप नियमित तौर पर सही स्थान पर गेंद नहीं करते हो तो आप पर शाट लग सकता है. इसके अलावा दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने भी अच्छी बल्लेबाजी की.’

भारतीय टीम बल्लेबाजी पावरप्ले में आज अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पायी लेकिन धोनी ने कहा कि टीम देश के लिये खेलती है दर्शकों के लिये नहीं.

उन्होंने कहा, ‘टीम दर्शकों के लिये नहीं बल्कि देश के लिये खेलती है. बल्लेबाज केवल दर्शकों के लिये चौके छक्के नहीं मार सकता है. हमें पूरे 50 ओवर बल्लेबाजी करने की जरूरत थी.’ धोनी ने कहा कि 296 रन का स्कोर बुरा नहीं था लेकिन उनके क्षेत्ररक्षण में अब भी हल्का सुधार ही देखने को मिला है.

उन्होंने कहा, ‘यह ठीक है कि हम कुछ रन कम पड़ गये लेकिन 296 रन का स्कोर बुरा नहीं था. यदि हम बेहतर क्षेत्ररक्षण करने में सफल रहते थे तो यही स्कोर बड़ा बन जाता लेकिन हमारी टीम अच्छे क्षेत्ररक्षण के लिये नहीं जानी जाती है.’ दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ग्रीम स्मिथ ने जीत का श्रेय गेंदबाजों और पुछल्ले बल्लेबाजों को दिया. दक्षिण अफ्रीका ने भारत के अंतिम नौ विकेट 29 रन के अंदर उखाड़े थे.

स्मिथ ने कहा, ‘‘पहले 25 ओवर में हमारे गेंदबाजों ने काफी रन लुटाये लेकिन बाद में हमने वास्तव कड़ी चुनौती पेश करके जानदार वापसी की. यहां काफी शोर हो रहा था लेकिन हमारे खिलाड़ियों ने वास्तव में बेहतरीन खेल का प्रदर्शन किया.’

विजयी रन बनाने वाले पीटरसन के बारे में स्मिथ ने कहा, ‘मैं पिछले लंबे समय से देख रहा हूं कि रोबी गेंद को अच्छी तरह से हिट करता है. हमने इस विश्व कप में उसका समर्थन किया और उसने शानदार प्रदर्शन किया है.’ डेल स्टेन को मैच में पांच विकेट लेने के लिये मैन आफ द मैच चुना गया. उन्होंने कहा कि पूरी टीम के प्रयास से ही यह जीत मिल पायी.

स्टेन ने कहा, ‘यह पूरी टीम का प्रयास था. जब हमने एक विकेट लिया तो फिर जल्द ही हमें दूसरा विकेट भी मिल गया. हमने उन पर दबाव बना दिया. इससे खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ा और हम इसका फायदा उठाने में सफल रहे.’ स्टेन ने माना कि नागपुर का जामथा मैदान उनके लिये भाग्यशाली है. उन्होंने पिछले साल टेस्ट मैच में इसी मैदान पर दस विकेट लेकर अपनी टीम को जीत दिलायी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay