एडवांस्ड सर्च

Advertisement

भारतीय क्रिकेटरों के कैसे-कैसे अंधविश्वास

इस विश्व कप के लिए सचिन तेंदुलकर अपने माता-पिता, शिरडी के साईं बाबा और सिद्धिविनायक की तस्वीरें अपने पास रखेंगे.
भारतीय क्रिकेटरों के कैसे-कैसे अंधविश्वास
कौशिक डेका/निशात बारीनई दिल्‍ली, 17 February 2011

इस विश्व कप के लिए सचिन तेंदुलकर अपने माता-पिता, शिरडी के साईं बाबा और सिद्धिविनायक की तस्वीरें अपने पास रखेंगे.

हरभजन सिंह गुरु नानक की छोटी-सी तस्वीर अपने पास रखेंगे.

श्रीसंत अपने पास हमेशा अपने दोस्तों और पसंदीदा क्रिकेट के मैदानों की (जहां उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया है) एक छोटी एल्बम रखते हैं.

वीरेंद्र सहवाग अपनी बाईं जेब में लाल रूमाल रखते हैं. इसके अलावा वे हमेशा विरोधी टीम का समर्थन करते नजर आते हैं. ''मेरा अंधविश्वास है कि जब भी मैं भारत का समर्थन करता हूं वह हार जाता है.''

महेंद्र सिंह धोनी जब भी गेंदबाज का सामना करते हैं वे अपने अंगूठे को नाक से छुआते हैं. वे स्ट्राइक लेने से पहले अपने दस्तानों को दोबारा से फिट करते हैं.

बल्लेबाजी पर जाने से पहले ऑस्ट्रेलिया के माइकेल कलार्क तेज संगीत सुनते हैं.

युवराज सिंह का मानना है कि जो बंदना वे पहनते हैं उसने उनकी बल्लेबाजी का रुख ही बदल दिया है.

युसूफ पठान का वडोदरा में नया मकान बनकर एकदम तैयार है लेकिन वे विश्व कप शुरू होने से पहले उसमें जाने को तैयार नहीं हैं. उन्होंने अपने परिवार से कहा है, ''पहले कप आने दो, घर अभी इंतजार कर सकता है.''

आंकड़ों का खेल
क्या विश्व कप की टीम के चयन को 16 जनवरी को अंतिम रूप देना और फिर अगले दिन इसकी घोषणा करने के पीछे कोई विशेष कारण था? जवाब है, हां. इसका श्रेय बीसीसीआई के चेन्नई में रहने वाले बिग बॉस एन. श्रीनिवासन के अंधविश्वास को जाता है. आखिर इसकी वजह क्या है? अंकों का जोड़ 7 बैठता है, जो धोनी का लकी नंबर है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay