एडवांस्ड सर्च

भारतीय निशानेबाजों का स्वर्णिम अभियान जारी

गोल्डन ब्वाय गगन नारंग ने राष्ट्रमंडल खेलों में चौथा स्वर्ण अपनी झोली में डाला जिससे भारत ने आज भी कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में अपना दबदबा बरकरार रखा.

Advertisement
भाषानई दिल्‍ली, 10 October 2010
भारतीय निशानेबाजों का स्वर्णिम अभियान जारी

गोल्डन ब्वाय गगन नारंग ने राष्ट्रमंडल खेलों में चौथा स्वर्ण अपनी झोली में डाला जिससे भारत ने आज भी कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में अपना दबदबा बरकरार रखा.

विजय कुमार और हरप्रीत सिंह ने 25 मीटर सेंटर फायर पिस्टल में स्वर्ण पदक जीतकर भारत को अच्छी शुरूआत दिलाई जबकि नारंग ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में पहला स्थान हासिल किया. उन्होंने 1262.2 के स्कोर के साथ सोने का तमगा अपने नाम किय.

नारंग मौजूदा राष्ट्रमंडल खेलों में चार पदक जीतने वाले पहले पुरुष एथलीट बन गये हैं और खेलों में छह पदक जीतने की राह पर हैं. नारंग इससे पहले अभिनव बिंद्रा के साथ 10 मीटर एयर राइफल पेयर्स, व्यक्तिगत स्पर्धा और इमरान हसन के साथ 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन का स्वर्ण पदक जीत चुके हैं.

महिला वर्ग में हालांकि सुमा शिरूर और कविता यादव की जोड़ी को 10 मीटर एयर राइफल में कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा. स्पर्धा का स्वर्ण मलेशिया की अयुनी हलीम और नूर सुरयानी ने जीता.

श्रेयषी सिंह और सीमा तोमर को हालांकि निराशा का सामना करना पड़ा और ये दोनों महिला एकल ट्रैप स्पर्धा में क्रमश: पांचवें और नौवें सथान पर रहीं. इंग्लैंड की अनीता नार्थ ने इस स्पर्धा का स्वर्ण पदक अपने नाम किया.

पुरुषों की एकल ट्रैप स्पर्धा में हालांकि पहले चरण के बाद दक्षिण अफ्रीका के मार्टिन डेविस सबको हैरान करते हुए स्टार निशानेबाजों के बीच शीर्ष पर चल रहे हैं. दुनिया के 69वें नंबर के इस दक्षिण अफ्रीकी निशानेबाज ने तीन दौर के सत्र में अचूक निशाना लगाते हुए संभावित 75 में से 75 अंक बटोरे.

भारत के मनशेर सिंह, इंग्लैंड के हीडिंग और आस्ट्रेलिया के एडम विला 74 अंक के साथ दूसरे स्थान पर चल रहे हैं. कादरपुर के सीआरपीएफ परिसर में आज शुरू हुई फुलबोर स्पर्धा में भारत ने खेलों की इस स्पर्धा में पदार्पण किया लेकिन उसका दिन अच्छा नहीं रहा.

भारत के सुशील घाले और प्रवीण दाहिया पहले चरण की समाप्ति के बाद क्रमश: 79.6 और 77.3 अंक के साथ 32वें और 34वें स्थान पर रहे. इससे पहले कर्णी सिंह रेंज पर सुबह विजय और हरप्रीत ने पुरुषों की 25 मीटर सेंटर फायर पिस्टल पेयर्स स्पर्धा में 1159 अंक के साथ सोने का तमगा जीतकर भारत को विजयी शुरूआत दिलाई.

हरप्रीत ने स्वर्ण जीतने के बाद कहा, ‘यह राष्ट्रमंडल खेलों में मेरा पहला स्वर्ण है इसलिए मेरा खुश होना स्वाभाविक है. मैं यह पदक भारतीय नौसेना और अपने सीनियर अधिकारियों को समर्पित करता हूं. उनके सहयोग के बिना मैं ऐसा नहीं कर पाता.’

सुधीर विजय ने अपनी सफलता का श्रेय कोच स्मिरनोव पावेल को दिया. उन्होंने कहा, ‘जब भी कोई समस्या आती है, वह हमारी मदद करने के लिए वहां मौजूद होते हैं.’ शिरूर हालांकि स्वर्ण पदक नहीं जीत पाने से निराश दिखी.

उन्होंने कहा, ‘हम इससे बेहतर कर सकते थे. हम इससे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे थे लेकिन शायद आज हमारा दिन नहीं था.’ टीम की अपनी साथी कविता के बारे में उन्होंने कहा, ‘उसे बुखार था और सर्दी तथा जुकाम भी हो रहा था. अगर आप शारीरिक तौर पर फिट नहीं होते तो निशानेबाजी करना आसान नहीं होता.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay