एडवांस्ड सर्च

Advertisement

कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स: 11वें दिन दांव पर 21 स्‍वर्ण पदक

विजेंदर सिंह के बाहर होने के बाद मुक्केबाजी में बड़ी आस सुरंजय सिंह और स्टार निशानेबाज गगन नारंग राष्ट्रमंडल खेलों के दसवें दिन यानी 13 अक्तूबर को भारतीय झोली में सोना डाल सकते हैं.
कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स: 11वें दिन दांव पर 21 स्‍वर्ण पदक
भाषानई दिल्‍ली, 13 October 2010

विजेंदर सिंह के बाहर होने के बाद मुक्केबाजी में बड़ी आस सुरंजय सिंह और स्टार निशानेबाज गगन नारंग राष्ट्रमंडल खेलों के दसवें दिन यानी 13 अक्तूबर को भारतीय झोली में सोना डाल सकते हैं. बुधवार को कुल 28 स्वर्ण पदक दांव पर लगे रहेंगे जिनमें से भारत को मुक्केबाजी और निशानेबाजी में ही जीत की उम्मीद है.

मुक्केबाजी के सभी दस स्वर्ण पदकों का बुधवार को फैसला होगा लेकिन बीजिंग ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता विजेंदर सिंह सहित चार मुक्केबाज सेमीफाइनल से आगे नहीं बढ़ पाये जिससे भारत की इस खेल में अधिक स्वर्ण पदक जीतने का सपना पूरा नहीं हो पाएगा.

भारत के तीन मुक्केबाज सुरंजय सिंह (52 किग्रा), मनोज कुमार (64 किग्रा) और परमजीत समोटा (91 किग्रा से अधिक) फाइनल में पहुंचे हैं. सुरंजय को फाइनल में कीनिया के बेनसन निजानगिरू से भिड़ना है और पूरी संभावना है कि वह इसमें जीत दर्ज करने में सफल रहेंगे. मनोज खिताबी मुकाबले में इंग्लैंड के ब्रैंडले सांडर्स से भिड़ेंगे जबकि समोटा का मुकाबला त्रिनिदाद एवं टोबैगो के अब्दुल हक तारिक से होगा.

निशानेबाजी में नारंग भले ही पांचवां स्वर्ण पदक हासिल करने से चूक गये लेकिन उनके पास बुधवार को 50 मीटर राइफल प्रोन में ऐसा मौका होगा. उनके अलावा हरिओम सिंह भी भारत की तरफ से इस स्पर्धा में शिरकत करेंगे.

भारत को महिलाओं की दस मीटर एयर पिस्टल पेयर्स में स्वर्ण पदक दिलाने वाली हिना सिद्धू और अनुराज सिंह इसी स्पर्धा के एकल मुकाबले में उतरेंगी और यदि उन्होंने अपना बढ़िया प्रदर्शन बरकरार रखा तो फिर उन्हें पदक जीतने से कोई नहीं रोक पाएगा.

इसके अलावा पुरुषों की 25 मीटर स्टैंडर्ड फायर पिस्टल में चंद्रशेखर कुमार चौधरी भारतीय चुनौती पेश करेंगे. हाकी के पहले स्वर्ण पदक का फैसला भी बुधवार को होगा लेकिन भारतीय महिला टीम सेमीफाइनल में भी नहीं पहुंची है इसलिए राष्ट्रीय खेल में पदक के लिये भारत को 14 अक्तूबर तक इंतजार करना होगा. भारतीय पुरुष टीम सेमीफाइनल में पहुंचकर पदक की पदक दावेदार बन गयी है.

इसके अलावा गोताखोरी, साईकिलिंग, लान बाल्स और टेबल टेनिस में दो-दो जबकि स्क्वाश में तीन स्वर्ण पदकों का फैसला होगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay