एडवांस्ड सर्च

करो या मरो के मुकाबले में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान

राष्ट्रमंडल खेलों की हाकी स्पर्धा के सबसे अहम मुकाबले में कल भारत और पाकिस्तान आमने सामने होंगे तो दर्शकों को रोमांचक हाकी की सौगात मिलने की गारंटी रहेगी क्योंकि क्वार्टर फाइनल माने जा रहे इस मुकाबले में हारने वाली टीम का पदक जीतने का सपना भी टूट जायेगी.

Advertisement
भाषानई दिल्‍ली, 09 October 2010
करो या मरो के मुकाबले में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान

राष्ट्रमंडल खेलों की हाकी स्पर्धा के सबसे अहम मुकाबले में कल भारत और पाकिस्तान आमने सामने होंगे तो दर्शकों को रोमांचक हाकी की सौगात मिलने की गारंटी रहेगी क्योंकि क्वार्टर फाइनल माने जा रहे इस मुकाबले में हारने वाली टीम का पदक जीतने का सपना भी टूट जायेगी.

लोगों को इस मैच का इस कदर बेताबी से इंतजार है कि सारे टिकट बिक चुके हैं. पहले मैच में मलेशिया को हराने वाली भारतीय टीम दूसरे मैच में कल विश्व चैम्पियन आस्ट्रेलिया से 5-2 से हार गई. वहीं पाकिस्तान ने पहले मैच में स्काटलैंड को 3-0 से हराया और आज बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए आस्ट्रेलिया को सिर्फ 1-0 से जीत दर्ज करने दी.

आस्ट्रेलिया पूल ए से सेमीफाइनल में पहुंच चुका है. अब भारत को हर हालत में पाकिस्तान को हराना होगा. दूसरी ओर मैच ड्रा रहने पर बेहतर गोल औसत के आधार पर पाकिस्तान अंतिम चार में पहुंच जायेगा.

भारतीय कोच जोस ब्रासा ने स्वीकार किया कि टीम को कई पहलुओं पर मेहनत करनी होगी. भारत ने पहले दो मैचों में कई पेनल्टी कार्नर गंवाये.

ब्रासा ने कहा, ‘हमें विरोधी टीमों को गोल तोहफे में देने की आदत से बाज आना होगा. पेनल्टी कार्नर तब्दीली का यही आलम रहा तो जीतना मुश्किल होगा. हमें कई पहलुओं पर मेहनत करनी होगी.’ भारतीय टीम को मनोवैज्ञानिक फायदा यह होगा कि इसी मैदान पर उसने फरवरी मार्च में विश्व कप के पहले मैच में पाकिस्तान को 4-1 से रौंदा था.
पाकिस्तानी कप्तान जीशान अशरफ ने हालांकि इस बात से इंकार किया कि उनकी टीम अतिरिक्त दबाव में होगी. उन्होंने कहा, ‘विश्व कप पुरानी बात हो चुकी है और कल का मैच नया है. हमने विश्व कप की गलतियों से सबक लेकर अच्छी तैयारी की है. उम्मीद है कि हम बेहतर प्रदर्शन करके भारत को हराने में कामयाब रहेंगे.’ पाकिस्तान के लिये अच्छी बात युवा गोलकीपर इमरान शाह का शानदार फार्म है जिसने आस्ट्रेलिया के चार शर्तिया गोल बचाये. इसके अलावा अनुभवी स्ट्राइकर शकील अब्बासी, रेहान बट और युवा खिलाड़ी मोहम्मद वकास, अब्दुल हसीम अच्छे फार्म में हैं.

भारतीय फारवर्ड पंक्ति ने पिछले दो मैचों में अच्छे मूव तो बनाये लेकिन डी के भीतर उन्हें फिनिश नहीं कर सके. कप्तान राजपाल सिंह का मानना है कि टीम को फिटनेस के स्तर में सुधार करना होगा. उन्होंने कहा, ‘हमें पूरे 70 मिनट उसी स्टेमिना के साथ खेलना होगा.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay