एडवांस्ड सर्च

Advertisement

अलका और अनिता ने जारी रखा स्वर्णिम सफर

खिताब की प्रबल दावेदार अलका तोमर और युवा पहलवान अनिता ने अपने दांवपेंच का बेजोड़ नमूना पेश करके सोने के तमगे जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों की कुश्ती प्रतियोगिता में भारत का स्वर्णिम अभियान जारी रखा.
अलका और अनिता ने जारी रखा स्वर्णिम सफर
भाषानई दिल्‍ली, 08 October 2010

खिताब की प्रबल दावेदार अलका तोमर और युवा पहलवान अनिता ने अपने दांवपेंच का बेजोड़ नमूना पेश करके सोने के तमगे जीतकर राष्ट्रमंडल खेलों की कुश्ती प्रतियोगिता में भारत का स्वर्णिम अभियान जारी रखा.

अलका ने महिलाओं की फ्रीस्टाइल कुश्ती के 59 किग्रा भार वर्ग में कनाडा की प्रबल दावेदार तोन्या बर्बीक को जबकि अनिता ने 67 किग्रा में कनाडा की ही मेगान बुडेन्स को हराकर स्वर्ण पदक हासिल किये. बबिता कुमारी भी 51 किग्रा के फाइनल में पहुंची थी लेकिन वह खिताबी मुकाबले में नाईजीरिया की इफोमा नवोए से हार गयी और उन्हें इस तरह रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा.

भारत ने इस तरह से कुश्ती में अब तक सात स्वर्ण, तीन रजत और तीन कांस्य पदक जीते है. महिला पहलवान गीता (55 किग्रा) ने कल स्वर्ण जीतकर इतिहास रचा था जबकि ग्रीको रोमन पहलवान रविंदर सिंह (60 किग्रा), संजय (74 किग्रा), अनिल कुमार (96 किग्रा) और राजेंदर कुमार (55 किग्रा) ने सोने के तमगे हासिल किये थे.

दोहा एशियाई खेल और विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता तोमर जब एक अंक की बढ़त पर थी तब वर्बीक ने उन्हें गिराने की कोशिश की. तोमर ने हालांकि पलटवार करके कनाडाई पहलवान को उसी के दांव पर चित कर दिया. इससे पहले उन्होंने सेमीफाइनल में इंग्लैंड की लुईसा सालमोन को भी केवल 21 मिनट में धूल चटा दी थी.

अनिता और मेगान के मुकाबले में ज्यादा रोमांच नहीं था लेकिन भारतीय पहलवान ने चतुराई से आक्रमण किया और अपनी प्रतिद्वंद्वी को खुद को हावी नहीं होने दिया. उन्होंने पहले राउंड में 1-0 की बढ़त बना ली थी और आखिर में मुकाबला 4-1 से जीता.

इससे पहले सेमीफाइनल में स्काटलैंड की एशली मैकमानुस के खिलाफ भी उन्होंने कम स्कोर वाले मैच में पूरी चतुरता दिखाकर जीत दर्ज की थी. अनिता ने तब दोनों राउंड में एक-एक अंक बनाया था. मेगान विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता नाईजीरियाई इफोमा इहीनाचो को हराकर सेमीफाइनल में पहुंची थी जहां उन्होंने आस्ट्रेलिया की इम्मा चालमर्स को हराया था.

बबिता ने दिन के पहले फाइनल मुकाबले में सोने का तमगा अपनी गलतियों से गंवाया. वह अपने दांव पर गच्चा खा गयी और नाईजीरियाई पहलवान ने इसका फायदा उठाकर 7-4 से यह मुकाबला जीत लिया. इससे पहले क्वार्टर फाइनल में बबिता ने कनाडा की जेसिका मैकडोनाल्ड के खिलाफ पिछड़ने के बाद वापसी की थी जबकि सेमीफाइनल में उन्होंने इंग्लैंड की जो मडयार्चिक को दूसरे राउंड में चित किया था.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay