एडवांस्ड सर्च

व्यंग्य: तो विरोध में सब करेंगे सूर्य नमस्कार

दो विकल्प दीजिए, गर्मी इतनी है कि सच में कमरे से निकल कर सूर्य को नमस्कार करना जरुरी हो जाए तो बन्दा गर्मी के खौफ से धर्म बदल लेगा. गलती सूर्य नमस्कार करने से मना करने वालों की नहीं है. उनसे भी किसी ने कह दिया होगा कि सूर्य नमस्कार भरी धूप में करना है.

Advertisement
आशीष मिश्रनई दिल्ली, 11 June 2015
व्यंग्य: तो विरोध में सब करेंगे सूर्य नमस्कार Yoga

दो विकल्प दीजिए, गर्मी इतनी है कि सच में कमरे से निकल कर सूर्य को नमस्कार करना जरुरी हो जाए तो बन्दा गर्मी के खौफ से धर्म बदल लेगा. गलती सूर्य नमस्कार करने से मना करने वालों की नहीं है. उनसे भी किसी ने कह दिया होगा कि सूर्य नमस्कार भरी धूप में करना है.

इतनी गर्मी जब नहाने के बाद बदन पोंछने के पहले ही सूख जाता है, तब सूरज के नाम से ही जान नहीं सूख जाती? सूर्य नमस्कार पर मचा बवाल देखिये. हंसी नही रुकेगी. पहले कोई एक काम शुरू करता है दूसरा आकर उसका विरोध शुरू कर देता है. इतने में तीसरा आकर कहता है कि अगर दूसरे ने पहले का किया काम शुरू नहीं किया तो उसे समंदर में डूबना होगा. तीसरा चाहता है दूसरा वो करे जो पहला चाहता है और दूसरा ऐसा नहीं करना चाहता क्योंकि पहला ऐसा कुछ कर रहा है. ये चाहना- न चाहना और इस चाह में दहकुच्च करना हमारे मुल्क का नेशनल टाइम पास बन गया है.

मोदी विरोध में 2 अक्टूबर के बाद कई ने तो घर पर झाड़ू मारनी बंद कर दी है. मोदी विरोध इतना कि चुनावों के पहले फारुख अब्दुल्ला ने कहा था कि मोदी को वोट देने वाले समन्दर में डूब जाएं. अब योगी आदित्यनाथ भी वैसा ही कुछ कह रहे हैं. दोनों धड़े खुद को साबित करने में लगे थे, अब साबित भी कर दिया और साबित ये किया कि मानसिक स्तर दोनों का एक सा ही है.

कहीं अब्दुल्ला और योगी की चलती तो आज को आधा-आधा कर देश वाले समंदर में डूब रहे होते. बचते अब्दुल्ला और योगी, एक चटाई बिछाकर नमाज पढ़ रहे होते तो दूसरे योग कर रहे होते. राजनीति को ज्यादा सिर नहीं चढ़ाना चाहिए क्या है न कि अंत में सिर्फ चटाई ही बचती है.

मैगी बैन हुई तो शोर मचा मुझे लगा जीने के लिए सिर्फ मैगी खाना जरुरी है. तीन बाद पता चला नहीं! सोमनाथ मन्दिर जाना ज्यादा जरुरी है. सोमनाथ मंदिर में घुसने के लिए गैर-हिन्दुओं को विशेष अनुमति लेनी होगी. तब महसूस हुआ कितने गैर-हिन्दू रोज मन्दिर जाते हैं उन्हें रोकना गलत है. फिर पता चला उससे भी जरूरी योग करना है और इससे भी गलत सूर्य नमस्कार करवाना है. हमारी आदत है जिस चीज पर रोक लगे हम वही करने को मचल उठते हैं. गरबे में प्रवेश बंद हो या मंदिर में, अस्पताल के पास हॉर्न न बजाना हो या सीढ़ियों पर थूकना मना हो, मना करने पर मान जाएं तो हमारे बदन में ऐंठन होने लगती है. इंसान बिना योग के स्वस्थ रह सकता है, बिना नियम तोड़े नहीं. फितरत है ये, इसका किसी धर्म से कोई लेना-देना नहीं है.

सरकार चाहे जिसकी हो एक खामी जरूर होती है. जनता का गला भले दबा ले नब्ज टटोलना नहीं सीख पाती. अपना चाहा कराने के भी तरीके हैं. सरकार अगर चाहती ही है कि हर कोई योग करे तो योग पर रोक लगवा दे. एक बार कहकर तो देखिये कि गैर हिन्दू सूर्य नमस्कार नही कर सकते. गली-कूचों में लोग योग करेंगे. जन्तर-मन्तर पर सूर्य नमस्कार करेंगे. विरोधी होना हमारा राष्ट्रीय चरित्र है. भारत एक विरोध प्रिय देश है. नब्ज़ पर हाथ धरिए. मना तो करिए तब सभी लोग विरोध में योग करेंगे.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay