एडवांस्ड सर्च

व्यंग्य: 'अपनी जिंदगी में मैंने बहुत रेप देखे हैं... '

ऑपरेटर ने सभी थानों को फोन लगाया और बोलता गया, "होल्ड करो, टेलीकॉन्फ्रेंसिंग है. सरजी सबसे बात करेंगे." फौरन बात कराने का फरमान था, इसलिए उसे इस बात की भी परवाह नहीं रही कि दूसरी ओर कोई सुन भी रहा है या नहीं.

Advertisement
मृगांक शेखरनई दिल्ली, 19 August 2015
व्यंग्य: 'अपनी जिंदगी में मैंने बहुत रेप देखे हैं... ' बलात्कार

सीन - 1
ऑपरेटर ने सभी थानों को फोन लगाया और बोलता गया, "होल्ड करो, टेलीकॉन्फ्रेंसिंग है. सरजी सबसे बात करेंगे." फौरन बात कराने का फरमान था, इसलिए उसे इस बात की भी परवाह नहीं रही कि दूसरी ओर कोई सुन भी रहा है या नहीं. देखते ही देखते सूबे के सारे पुलिस स्टेशन के फोन उसके हिसाब से कनेक्ट थे.

"हेलो..."

"जी, साब..." एक साथ सैकड़ों आवाजें गूंजी.

"मेई बात सुनो. ध्यान से सुनना. ऐप से जुआ कोई भी केस हो तो हमसे पूछे बिना मुकद्दमा नईं होगा. समझ गए ना..." फोन लाइन में गड़बड़ी के चलते आवाज भी साफ नहीं आ रही थी.

"जी, साब..." फिर से एक साथ सैकड़ों आवाजें गूंजी.

"अच्छा... बैठ जाओ, काम करो." और फोन कट गया. सरजी को पक्का यकीन था कि पुलिसवाले कुर्सी से उठे बिना और बगैर सैल्युट की मुद्रा में रिस्पॉन्ड कर ही नहीं सकते.

एक थाने के मुंशी ने अभी फोन रखा था कि एसएचओ की एंट्री हुई. "सरजी का फोन था," उसने आगे बताया, "वो एंड्रॉयड ऐप से जुड़ी कोई बात है, ऐसा केस आने पर इत्तला करने को कहा है."

बड़े साहब मुस्कुराए तो नए रंगरूट को लगा कुछ गड़बड़ है. फिर बोले, "ऐप नहीं, रेप. कोई भी रेप केस आए तो फौरन इत्तला करना." साहब मुस्कुराते हुए हवालात की ओर बढ़ गए.

सीन - 2
उसने सुन रखा था कि पुलिस में रेप की शिकायत दर्ज कराना और फिर रेपिस्ट को सजा दिलवाना ऐसा संघर्ष है कि कदम कदम पर लगेगा कि उसके साथ बार बार रेप हो रहा है. मेडिकल मुआयना, जरूरी हुआ तो टू-फिंगर टेस्ट, शिनाख्त परेड और फिर कोर्ट में जिरह. पहले तो महिला थाने जाने को तैयार न थी, पर आस-पड़ोस वाले उसे जबरन ले गए. थाने से उसे सरजी के पास लाया गया था.

सरजी का दरबार लगा हुआ था. आगे आगे महिला पुलिस अफसर - और उसके पीछे एक और महिला दाखिल हुई.

सरजी ने पूछा, "कितने आदमी थे?"

कांपती आवाज में पीड़ित बोली, "तीन. तीन... सरजी."

"ठीक है, ठीक है... पूरा बताओ... कैसे..."

सरजी महिला को घूरे जा रहे थे. टॉप टू टो. साथ में दिमाग में लाई डिटेक्टर टेस्ट भी चल रहा था, "झूठ तो नहीं बोल रही. मामला सही लगता है." कार्यकर्ताओं पर क्रोध भी बढ़ा जा रहा था. "ये स्सा**... हमको प्रधानमंत्री नहीं बनने देंगे."

"तीन... तीन. नहीं, चार. चार... सरजी..." घबराहट में जो बन पड़ा महिला बोली.

बात सुनते ही सरजी गुस्से से आग बबूला हो गए. महिला का स्टेटमेंट उनके अन्वेषण से मैच कर ही नहीं रहा था.

"चोप्प... हम नहीं मानते... "

"जी." और वो खामोश हो गई. पुलिस अफसरनी भी चुपचाप. बोलती भी क्या?

सरजी का क्रोध बढ़ता जा रहा था. कार्यकर्ता और करीबी पुलिसवाले समझ गए. डॉक्टर ने क्रोध से बचने की सलाह दी है. अभी अभी तो अस्पताल से लौटे हैं. यही सब सोचकर कुछ पुलिसवाले आगे बढ़े, "चलो, चलो. निकलो. बाद में देखेंगे. अभी सरजी का मूड ठीक नहीं है."

पूरा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें या www.ichowk.in पर जाएं.

आईचौक को फेसबुक पर लाइक करें. आप ट्विटर (@iChowk_) पर भी फॉलो कर सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay