एडवांस्ड सर्च

सुदूर आदिवासी क्षेत्रों में ज्ञान की ज्योति फैला रहा है इग्नू

शिक्षा को सुगम बनाने की पहल को आगे बढ़ाते हुए इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने महाराष्ट्र के नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली और मध्यप्रदेश के सुदूर खंडवा में अलग से पाठ्यक्रम शुरू किया है. इसके अलावा केंद्रीय विद्यालय संगठन और पूर्वोत्तर में शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का बीड़ा भी उठाया है.

Advertisement
भाषा [Edited by: नंदलाल शर्मा]नई दिल्ली, 05 October 2014
सुदूर आदिवासी क्षेत्रों में ज्ञान की ज्योति फैला रहा है इग्नू IGNOU

शिक्षा को सुगम बनाने की पहल को आगे बढ़ाते हुए इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने महाराष्ट्र के नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली और मध्यप्रदेश के सुदूर खंडवा में अलग से पाठ्यक्रम शुरू किया है. इसके अलावा केंद्रीय विद्यालय संगठन और पूर्वोत्तर में शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का बीड़ा भी उठाया है.

इग्नू के कुलपति प्रो. मोहम्मद असलम ने कहा, ‘हम देश के सुदूर क्षेत्रों, गांवों, पंचायतों और पिछड़े इलाकों में बच्चों को ज्ञान की धारा से जोड़ने की पहल कर रहे हैं. महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हमने ‘होम बेस्ड हेल्थ मैनेजमेंट’ पाठ्यक्रम शुरू किया था और इसके तहत 48 बच्चियों का दाखिला लिया गया था. कोर्स समाप्त होने पर केयर अस्पताल ने सभी 48 बच्चियों को नौकरी दे दी. इस तरह से ऐसे सुदूर क्षेत्र में 100 प्रतिशत प्लेसमेंट हुआ.'

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के खंडवा से कोई भी बच्चा कोर्स नहीं कर रहा था. हमने सर्टिफिकेट कोर्स इन फूड एंड न्यूट्रिशन के तहत 200 छात्रों का दाखिला लिया, जिसमें से 50 बच्चियां थी. पंचायत स्तर तक पहुंच बनाते हुए हमने सुदूर क्षेत्रों के बच्चों को ज्ञान की मुख्यधारा से जोड़ने का निर्णय किया है.

असलम ने कहा, ‘हमने पूर्वोत्तर के पांच राज्यों में शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का कार्य शुरू किया है. इसके तहत अरूणाचल प्रदेश और मणिपुर में कार्य शुरू हो गया है. इस पहल के तहत पूर्वोत्तर के 33 हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे.’

इग्नू के कुलपति ने कहा, ‘शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के सिलसिले में हमारी केंद्रीय विद्यालय संगठन के साथ भी सहमति बनी है. हम केंद्रीय विद्यालयों के 24 हजार शिक्षकों को प्रशिक्षित करेंगे. यह कार्य शुरू हो गया है.’

असलम ने कहा कि एक सप्ताह पहले हीरो कंपनी के साथ इग्नू ने सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया है. इसके तहत ‘मोटर मैकेनिक रिपेयर प्रोग्राम’ पेश किया गया है. यह तीन महीने का कोर्स है. इसके तहत हीरो कंपनी और इग्नू सर्टिफिकेट प्रदान करेगी.

कम्यूनिटी कालेज प्रोग्राम बंद होने की खबर के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह अदालत के एक फैसले के अनुरूप करीब दो साल पहले किया गया था. अदालत ने कहा था कि इग्नू को दूरस्थ शिक्षा की प्रकृति को देखते हुए कोई भी ऐसा कोर्स नहीं चलाना चाहिए जिसमें ‘फेस टू फेस’ संवाद हो. हमने इसके तहत उस समयावधि में दाखिला लेने वाले छात्रों की सभी चिंताओं का निराकरण कर दिया था.

असलम ने कहा कि इग्नू गरीब छात्रों, सुदूर क्षेत्रों, देहातों में रहने बच्चों को शिक्षा प्रदान करने को प्रयासरत है और इसे सतत रूप से आगे बढ़ाया जा रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay