एडवांस्ड सर्च

Advertisement

चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये

aajtak.in
10 October 2019
चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
1/7
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे पर हैं. शी जिनपिंग के इस दौरे में भारत और चीन के बीच कई अहम समझौते हो सकते हैं. इस बीच, केंद्र की मोदी सरकार चीन की तर्ज पर एक खास योजना की शुरुआत करने जा रही है. इस योजना के लिए सरकार ने सालाना बजट आवंटन 100 करोड़ रुपये रखा है. आइए जानते हैं क्‍या है यह योजना और कैसे है चीन से कनेक्‍शन..  
चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
2/7
दरअसल, चीन की तर्ज पर किसान सहकारी को बढ़ावा देकर भारत के गांवों में अर्थक्रांति लाने के लिए मोदी सरकार 100 करोड़ रुपये के बजट के साथ 'युवा-सहकार' नाम से एक योजना शुरू करने जा रही है.
चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
3/7
यह योजना स्‍टार्टअप इंडिया की तरह होगी. इसका मकसद सहकारिता क्षेत्र को मजबूत बनाना है. इस योजना में युवाओं को अपना उद्योग जमाने के लिए सरकार की ओर से बेहद कम ब्‍याज दर पर कर्ज दी जाएगा.
चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
4/7
न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर 11 अक्टूबर यानी कल भारत अंतरराष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेला (आईआईसीटीएफ)-2019 में इस योजना का शुभारंभ करेंगे.
चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
5/7
सरकार की इस योजना में देश के पूर्वोत्तर इलाके के सहकारी संस्थाओं के साथ-साथ नीति आयोग द्वारा चिन्हित आकांक्षी जिलों में रजिस्‍टर्ड सहकारी और शतप्रतिशत महिला/ अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति और शारीरिक रूप से अशक्त सदस्य वाले सहकारी को विशेष प्रमुखता दी जाएगी.

चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
6/7
बता दें कि चीन में 1990 के दशक के उत्तरार्ध में किसान सहकारी की तादाद में तेजी से वृद्धि हुई और 2007 में किसान पेशेवर सहकारी के लिए राष्ट्रीय कानून लाया गया.

चीन की राह पर मोदी सरकार, इस योजना पर खर्च करेगी 100 करोड़ रुपये
7/7
इससे किसान पेशेवर सहकारी की स्थापना और उसके प्रबंधन में सरकार की ओर से काफी मदद मिली और किसानों में उद्यमिता का विकास हुआ. बहरहाल, यह देखना अहम होगा कि भारत में इस योजना को कितनी सफलता मिलती है.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay