एडवांस्ड सर्च

Advertisement

प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर

aajtak.in [Edited by: दीपक कुमार]
14 March 2019
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
1/6
देश की दिग्‍गज आईटी कंपनी विप्रो के फाउंडर अजीम प्रेमजी भारत के सबसे बड़े दानवीर बन गए हैं. उन्‍होंने विप्रो लिमिटेड के 34 फीसदी शेयर यानी 52,750 करोड़ रुपये बाजार मूल्य के शेयर परोपकार कार्य के लिए अजीम प्रेमजी फाउंडेशन को दान में दे दिए हैं. इसका मतलब यह है कि इन शेयरों के एवज में होने वाले लाभ को फाउंडेशन से जुड़ी गतिविधियों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा.
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
2/6
फाउंडेशन को इतनी बड़ी रकम दान मिलने के बाद बयान में कहा गया, "अजीम प्रेमजी ने अपनी निजी संपत्तियों का अधिक से अधिक त्याग कर और धर्माथ कार्य के लिए उसे दान देकर परोपकार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता बढ़ाई है.  इससे अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के परोपकार कार्यों को सहयोग मिलेगा." इसी के साथ अजीम प्रेमजी ने परोपकार कार्य के लिए अब तक 145,000 करोड़ रुपये (21 अरब डॉलर) दान दे दी है. 
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
3/6
यह विप्रो लिमिटेड के आर्थिक स्वामित्व का 67 फीसदी है. प्रेमजी इस तरह बिल गेट्स, जॉर्ज सोरोस और वॉरेन बफेट जैसे दुनिया के उन नामचीन लोगों की कतार में पहुंच गए हैं, जिन्होंने समाज कल्याण के कार्यों के लिए बड़ी रकम दान की है. बता दें कि फोर्ब्‍स पत्रिका के मुताबिक अजीम प्रेमजी की संपत्ति 21.8 बिलियन डॉलर है और वह एशिया के टॉप अमीरों में शुमार हैं.
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
4/6
बता दें कि अजीम प्रेमजी फाउंडेशन मुख्यत: शिक्षा के क्षेत्र में काम करता है.  इसका लक्ष्य पब्लिक स्कूलिंग सिस्टम को बेहतर बनाना है.  अजीम प्रेमजी फाउंडेशन इस क्षेत्र में काम करने वाले कई एनजीओ को आर्थिक मदद भी करता है. अजीज प्रेमजी फाउंडेशन कर्नाटक, उत्तराखंड, राजस्थान, छत्तीसगढ़, पुडुचेरी, तेलंगाना, मध्य प्रदेश और उत्तर-पूर्वी राज्यों में है.
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
5/6
दिलचस्प है कि अजीम प्रेमजी उस फैमिली से आते हैं, जिसने बंटवारे के दौर में पाकिस्‍तान के फाउंडर मुहम्मद अली जिन्‍ना के ऑफर को ठुकरा दिया था. दरअसल, जिन्‍ना ने अजीम प्रेमजी के पिता मोहम्‍मद हाशिम प्रेमजी के फाइनेंस मिनिस्टर बनाने का ऑफर दिया था. लेकिन उन्‍होंने इस ऑफर को ठुकरा कर भारत में रहना पसंद किया था.
प्रेमजी बने सबसे बड़े दानवीर, फैमिली ने ठुकराया था PAK का ऑफर
6/6
अजीम प्रेमजी के पिता हाशिम प्रेमजी तब चावल और कुकिंग ऑयल के मशहूर कारोबारी हुआ करते थे. उन्‍हें राइस किंग ऑफ बर्मा कहा जाता था.

Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay