एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जनता से 'डिसकनेक्टेड' UPA का बजटः मोदी

वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने गुरुवार को आम बजट पेश किया तो विपक्ष की ओर से लगातार उनकी आलोचना की जा रही है. गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बजट को अपने ब्लॉग पर 'डिसकनेक्टेड और निराशाजनक' करार दिया है.
जनता से 'डिसकनेक्टेड' UPA का बजटः मोदी नरेंद्र मोदी
आज तक वेब ब्यूरोनई दिल्ली, 01 March 2013

वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने गुरुवार को आम बजट पेश किया तो विपक्ष की ओर से लगातार उनकी आलोचना की जा रही है. गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बजट को अपने ब्लॉग पर 'डिसकनेक्टेड और निराशाजनक' करार दिया है.

मोदी ने अपने ब्लॉग पर लिखा, '2013-14 आम बजट यूपीए सरकार की विफलता को एक बार फिर दर्शाता है. ये बजट दिखाता है कि वर्तमान सरकार कैसे आम जनता से पूरी तरह से डिसकनेक्टेड है. यूपीए सरकार ने इस बजट को लोकवादी बनाने के लिए पूरे देश को दांव पर लगा दिया. हालांकि वो इसमें सफल नहीं हो पाए क्योंकि आम जनता को मालूम है कि उन्हें क्या चाहिए.'

मोदी चिदंबरम के बजट को कठघरे में खड़ा करते हुए लिखा, 'इस बजट में देश की विकास दर को सुधारने की ना तो बात की गई है और ना ही 12वीं पंचवर्षीय योजना के बीच कोई तारतम्‍य नजर आता है. राजकोषीय घाटा सुधारने के लिए भी इस बजट में कोई वादा नहीं किया गया है.'

मोदी ने आगे लिखा है कि पिछले बजट में वादा किया गया था कि विकास के मार्ग में जो भी अड़चन है उसे हटाई जाएगी, लेकिन इस बजट में भी ऐसा कुछ नहीं किया गया.

मोदी के मुताबिक स्किल डेवेलपमेंट और युवा भारत के युवाओं के लिए नौकरी को लेकर भी इस बजट में कुछ नहीं किया गया है. ये यूपीए सरकार का आखिरी बजट था. इस बजट के जरिए लोगों के लिए कुछ अच्छा करने का मौका भी यूपीए सरकार ने गंवा दिया.

मोदी के अनुसार यूपीए का बजट उदासीन है. आज देशवासी बहुत ही मुश्किल मोड़ पर खड़े हैं, जहां देशवासियों के मन में नौकरी, विकास, राजकोषीय घाटा, इंन्फ्रास्ट्रक्चर में इनवेस्टमेंट कई तरह की मुश्किले हैं. इनमें से क्या यूपीए बजट में किसी पर भी चर्चा की गई?

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay