एडवांस्ड सर्च

ट्रेनें बढ़ीं, भाड़ा बढ़ा, पर सहूलियतों का क्या?

26 फरवरी को संसद में पेश होने वाले रेल बजट से जनता को काफी उम्मीदें हैं. रेल मंत्री पवन बंसल ने डीजल में हुई मूल्यवृद्धि की वजह से ट्रेन के किरायों में भी बढ़ोतरी की. लेकिन जनता चाहती है कि रेल मंत्रालय ट्रेन व स्टेशनों पर व्यवस्था ठीक करे.

Advertisement
aajtak.in
आजतक वेब ब्यूरोनई दिल्ली, 22 February 2013
ट्रेनें बढ़ीं, भाड़ा बढ़ा, पर सहूलियतों का क्या?

26 फरवरी को संसद में पेश होने वाले रेल बजट से जनता को काफी उम्मीदें हैं. रेल मंत्री पवन बंसल ने डीजल में हुई मूल्यवृद्धि की वजह से ट्रेन के किरायों में भी बढ़ोतरी की. लेकिन जनता चाहती है कि रेल मंत्रालय ट्रेन व स्टेशनों पर व्यवस्था ठीक करे.

सामान्य और स्लीपर क्लास में कम हो किराया
रेल किराया में बढ़ोतरी का बोझ पहले से ही महंगाई की मार झेल रहे आम आदमी पर पड़ा है. आम आदमी चाहता है कि सरकार अगर घाटे से उबरना चाहती है तो उसे एसी क्लास का किराया बढ़ाना चाहिए. सामान्य और स्लीपर क्लास को छोड़कर सभी श्रेणी के यात्री किराये में समय-समय पर बढ़ोतरी कर घाटे को कम किया जा सकता है.

दुरुस्त हो सुरक्षा व्यवस्था
पिछले कुछ महीनों में ट्रेन में महिलाओं के साथ हुए अपराधों के बाद सुरक्षा की मांग तेज हुई है. रेलवे को इस दिशा में तेजी के साथ सख्त कदम उठाने की जरूरत है. हालांकि रेल मंत्री पवन बंसल पहले ही कह चुके हैं कि हर कोच में गार्ड तैनात करना मुमकिन नहीं है लेकिन जनता खासकर महिलाएं सफर के दौरान खुद को महफूज समझें, यह सुनिश्चित करना उनका दायित्व है.

आरक्षित टिकट में कालाबाजारी
टिकट के रिजर्वेशन में होने वाली धांधली को रोकने के लिए रेलवे ने कई कड़े कदम उठाए हैं. लेकिन अभी भी इसकी कालाबाजारी जारी है. एजेंट अभी भी धड़ल्ले से अपना काला धंधा चला रहे हैं. ऐसी व्यवस्था की जरूरत है जिससे आरक्षित टिकट आम और जरूरतंद जनता को आसानी से मिल सके.

प्लेटफॉर्म पर टिकट काउंटर बढ़ाने की जरूरत
ट्रेन आने पर भीड़ की अफरातफरी कम करने के लिए रेलवे को टिकट काउंटर की संख्या बढ़ानी चाहिए. साथ ही प्लेटफॉर्म टिकट भी आसानी से और जल्द उपलब्ध करने की व्यवस्था होनी चाहिए. प्लेटफॉर्म की साफ-सफाई और बैठने की सुविधा पर खास ध्यान दिया जाए.

साफ-सफाई और खाने-पीने की व्यवस्था
एक अच्छी रेल यात्रा के लिए ट्रेन में साफ-सफाई और खाने-पाने की समुचित व्यवस्था करनी होगी. खाने की गुणवत्ता में सुधार लाना होगा. ट्रेन और स्टेशनों के शौचालयों में सफाई की दिशा में खास ध्यान देने की जरूरत है.

ट्रेन दुर्घटनाओं पर नियंत्रण
पिछले कुछ समय में ट्रेन दुर्घटनाओं में कमी आई है. लेकिन अभी भी मानवीय भूल से हादसे जारी है. इलाहाबाद रेलवे स्टेशन पर हुए हादसे में 36 श्रद्धालुओं की मौत ने रेलवे की व्यवस्था पर सवाल खड़ा किया. खास मौकों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है. कई बार रेल ड्राइवर (लोको पायलट) भी बड़ी भूल कर बैठते हैं. सख्त कार्रवाई से रेलवे मानवीय भूलों से होने वाले हादसों में कमी ला सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay