एडवांस्ड सर्च

वाहन कंपनियों की बड़ी कारों पर उत्पाद शुल्क घटाने की मांग

आम बजट से पहले वाहन उद्योग ने सरकार से बड़ी कारों पर उत्पाद शुल्क घटाने और अतिरिक्त 15,000 रुपये कर हटाने की मांग की है ताकि छोटी कारों और बड़ी कारों के बीच शुल्क का अंतर कम किया जा सके.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
भाषानई दिल्ली, 16 February 2011
वाहन कंपनियों की बड़ी कारों पर उत्पाद शुल्क घटाने की मांग

आम बजट से पहले वाहन उद्योग ने सरकार से बड़ी कारों पर उत्पाद शुल्क घटाने और अतिरिक्त 15,000 रुपये कर हटाने की मांग की है ताकि छोटी कारों और बड़ी कारों के बीच शुल्क का अंतर कम किया जा सके.

इस समय, बड़ी कारों पर 22 प्रतिशत उत्पाद शुल्क के अलावा 1500 सीसी से अधिक इंजन क्षमता वाली कारों पर 15,000 रुपये का अतिरिक्त कर लगता है. चार मीटर से अधिक लंबी और पेट्रोल में 1200 सीसी एवं डीजल में 1500 सीसी से अधिक इंजन क्षमता वाली कारें बड़ी कारों के वर्ग में आती हैं.

वहीं दूसरी ओर, उक्त मानकों से कम की कारें छोटी कारें मानी जाती हैं जिन पर 10 प्रतिशत का उत्पाद शुल्क लगता है. एक सूत्र ने कहा, ‘उद्योग के प्रतिनिधियों ने वित्त मंत्रालय के अधिकारियों के साथ बैठक में बड़ी कारों पर 15,000 रुपये का अतिरिक्त शुल्क हटाने और उत्पाद शुल्क में कमी लाने की मांग की है.

माना जाता है कि उद्योग ने सरकार से छोटी कारों पर मौजूदा उत्पाद शुल्क ढांचे को बनाए रखने को कहा है. सूत्रों ने कहा कि इसके अलावा उद्योग विदेशी कारों के आयात पर मौजूदा सीमा शुल्क ढांचे को भी बरकरार रखने के पक्ष में है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay