एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सोने व पेट्रोल की कीमतों में गर्मी से चढ़े महिलाओं के तेवर

बजट में पेट्रोल और सोने-चांदी जैसी चीजों के महंगे होने से महिलाएं खासी नाखुश हैं. लंबे समय से महंगाई की मार झेल रहीं महिलाओं को बजट ने निराश कर दिया है.
सोने व पेट्रोल की कीमतों में गर्मी से चढ़े महिलाओं के तेवर
भाषानई दिल्ली, 26 February 2010

बजट में पेट्रोल और सोने-चांदी जैसी चीजों के महंगे होने से महिलाएं खासी नाखुश हैं. लंबे समय से महंगाई की मार झेल रहीं महिलाओं को बजट ने निराश कर दिया है.

पंजाबी बाग के शासकीय स्कूल में शिक्षिका प्रतिभा दुबे ने कहा कि बजट में कुछ भी सस्ता-महंगा होने का तब तक असर नहीं पड़ता, जब तक रसोई का बजट उससे प्रभावित न हो. प्रतिभा ने कहा ‘हर बार की तरह इस बार भी आशा थी कि बजट महिलाओं की रसोई को कुछ राहत पहुंचाएगा, लेकिन सब्जियों और जरूरत की चीजों के पहले से ही आसमान छूते दामों से बजट में कोई राहत मिलती नहीं दिखती. पेट्रोल को महंगा करके सरकार ने हर चीज महंगी करने का रास्ता खोल दिया है.’

प्रतिभा ने कहा ‘हालांकि आयकर की सीमा बढ़ने से कामकाजी महिलाओं को थोड़ी राहत पहुंचेगी.’ महिलाओं के लिए काम करने वाले संगठन ‘आरंभ’ की निदेशक अर्चना जैन ने कहा कि बजट खास तौर पर बुजुर्ग महिलाओं को राहत पहुंचाएगा. अर्चना ने कहा ‘चिकित्सा उपकरण सस्ते होने और वरिष्ठ नागरिकों के लिए आयकर की सीमा और बढ़ने से बुजुर्ग महिलाओं को फायदा मिलने की उम्मीद है. मोबाइल एसेसरी जैसी चीजों को सस्ता करने से कोई फायदा नहीं होगा क्योंकि आम आदमी के लिए प्राथमिक चीजें ज्यादा जरूरी हैं, न कि विलासिता का कोई सामान.’

उन्होंने कहा ‘महंगाई लंबे समय से मुद्दा बना हुआ है. सरकार को कोशिश करनी चाहिए थी कि महिलाओं की रसोई पर बोझ कम पड़े, लेकिन आने वाले दिनों में ऐसा संभव नहीं दिखता.’ नोएडा निवासी गृहिणी निधि अग्रवाल का मानना है कि बजट से बच्चों के शौक पूरे करने में आसानी होगी. निधि ने कहा ‘खिलौने, किताबें और मोबाइल एसेसरी सस्ते होने से बच्चे खुश हो जाएंगे. हालांकि कार और पेट्रोल के महंगे होने से आवागमन से जुड़ी परेशानियां और बढ़ने वाली हैं.’

निधि ने कहा ‘आम महिला को घर की रसोई से मतलब होता है, लेकिन बजट के बाद रसोई का ढर्रा पूरी तरह बिगड़ने की आशंका है. सरकार को गैस सिलेंडर और बिजली पर भी रियायत देनी चाहिए थी.’ पेशे से चिकित्सक डॉ. श्रद्धा जांजगीर ने कहा कि आयकर सीमा के विभिन्न स्लैब महिलाओं को राहत देने वाले हैं. डॉ. श्रद्धा ने कहा ‘पांच से आठ लाख तक की आय पर 20 फीसदी कर मेरे हिसाब से बहुत ज्यादा नहीं है. ऐसा करके सरकार ने कामकाजी महिलाओं को राहत पहुंचाई है.’

डॉ. श्रद्धा ने कहा ‘चिकित्सा उपकरण और सस्ते होने से आम आदमी तक बेहतर इलाज पहुंच सकेगा.’ कंप्यूटर साइंस की छात्रा अनुभा ने कहा कि सरकार ने किताबों को सस्ता करके राहत दी है लेकिन मेकअप के सामान की कीमतों में इजाफे ने उसका मजा किरकिरा कर दिया है.

अनुभा ने कहा ‘उच्च शिक्षा की किताबों की कीमतें हमेशा से परेशानी का सबब रही हैं, लेकिन अब आशा है कि किताबों की कीमतों में खासी कमी आएगी. लेकिन पॉकेट मनी की परेशानी अपनी जगह बनी रहेगी क्योंकि मेकअप के सामान को महंगा करके सरकार ने राहत को उडन छू कर दिया है.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay