एडवांस्ड सर्च

खुदरा क्षेत्र को उद्योग का दर्जा मिले

आर्थिक नरमी से कुछ उबरने के बाद देश के संगठित खुदरा कारोबार करने वालों ने कहा कि आगामी बजट में इस क्षेत्र के लिए विदेश निवेश के मानदंडों को ढीला करने के अलावा इसके उद्योग का दर्जा दिया जाना चाहिए.

Advertisement
भाषानई दिल्ली, 19 February 2010
खुदरा क्षेत्र को उद्योग का दर्जा मिले

आर्थिक नरमी से कुछ उबरने के बाद देश के संगठित खुदरा कारोबार करने वालों ने कहा कि आगामी बजट में इस क्षेत्र के लिए विदेश निवेश के मानदंडों को ढीला करने के अलावा इसके उद्योग का दर्जा दिया जाना चाहिए.

रिटेलर एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मुख्य कार्याधिकारी कुमार राजगोपालन ने कहा ‘खुदरा क्षेत्र को उद्योग का दर्जा देने की मांग काफी समय से लंबित है. इसके अलावा हम यह भी चाहते हैं कि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के मानदंडों में ढील दी जाए.’

इसी तरह का विचार पेश करते हुए कुटोन्स रिटेल इंडिया के अध्यक्ष डीपीएस कोहली ने कहा ‘खुदरा क्षेत्र लंबे समय से उद्योग का दर्जा देने की मांग करती रही है क्योंकि तभी खुदरा कारोबारी संगठित वित्तपोषण, बीमा और राजकोषीय प्रोत्साहन का फायदा उठा सकेगी.’

उद्योग के आंकड़े के मुताबिक भारत के 450 अरब डॉलर के खुदरा क्षेत्र का सिर्फ पांच फीसदी हिस्सा संगठित है. प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मानदंडों में ढील देने की मांग करते हुए राजगोपालन ने कहा ‘भारत में किसी भी उद्योग ने एफडीआई की भागीदारी के बगैर नहीं बढ़ा है और जहां तक खुदरा क्षेत्र की बात है तो इसकी बड़ी भूमिका है और इसे और अधिक एफडीआई की मंजूरी दी जानी चाहिए.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay