एडवांस्ड सर्च

बिहार: मान्यता प्राप्त विपक्षी दल के दर्जे पर दुविधा

बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई वाले राजग को मिली तीन-चौथाई बहुमत के बाद प्रदेश में किसी भी पार्टी के पास विपक्ष में बैठने का दर्जा प्राप्त नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
भाषापटना, 26 November 2010
बिहार: मान्यता प्राप्त विपक्षी दल के दर्जे पर दुविधा

बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार की अगुवाई वाले राजग को मिली तीन-चौथाई बहुमत के बाद प्रदेश में किसी भी पार्टी के पास विपक्ष में बैठने का दर्जा प्राप्त नहीं है.

विशेषज्ञों के अनुसार बिहार के विधायी कानून के मुताबिक विपक्षी दल का दर्जा प्राप्त करने के लिए किसी भी पार्टी को विधानसभा की कुल 234 सीटों में से 10 प्रतिशत सीटें प्राप्त करनी आवश्यक है.

विधानसभा चुनाव 2010 में राजद, लोजपा या कांग्रेस में से किसी भी दल को अकेले इतनी सीटें नहीं प्राप्त हो सकी हैं. मान्यता प्राप्त विपक्ष का दर्जा प्राप्त करने के लिए बिहार में किसी दल के पास 24 सीटें होनी चाहिए.

लालू प्रसाद नीत राजद को 22 सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि इसकी साझीदार लोजपा केवल तीन सीटों पर जीत हासिल कर सकी.

कांग्रेस का भी प्रदर्शन इस चुनाव में बहुत खराब रहा और उसे केवल चार सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि झामुमो तथा भाकपा को भी महज एक-एक सीट ही प्राप्त हुई है. राजद के वरिष्ठ नेता और बिहार विधान परिषद के पूर्व सभापति रघुवंश प्रसाद सिंह के अनुसार, ‘‘संवैधानिक प्रावधानों के अनुसार राजद के पास विपक्षी पार्टी के दर्जा के लिए जरूरी विधायकों की संख्या नहीं है. यह स्थिति बिहार में पहली बार बनी है, इसलिए ऐसी स्थिति में अन्य राज्यों और संसद की विधायी परंपराओं के अनुसार निपटना होगा.’’

सिंह ने कहा, ‘‘राजद और लोजपा को मिलाकर गठबंधन के पास 25 सीटें हैं, जिससे वे विपक्ष का दर्जा पा सकते हैं. फिर भी यह मामला पूरी तरह से बिहार विधानसभा के अध्यक्ष के विशेषाधिकार पर निर्भर करता है.’’ पिछली विधानसभा में राजद के पास 54 सीटें थीं और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी विपक्ष की नेता बनी थी, जबकि शकुनी चौधरी विपक्ष के उपनेता थे.

इस बार विधानसभा चुनाव में विपक्ष की नेता राबड़ी देवी चुनाव हार चुकी हैं. सोनपुर और राघोपुर दोनों स्थानों से उन्हें अपनी सीटें गंवानी पड़ी. वहीं राजद के वरिष्ठ नेता शकुनी चौधरी भी हार गये. विधानसभा के अध्यक्ष यदि चुनाव पूर्व हुए गठजोड़ के कारण राजद लोजपा गठबंधन को विपक्ष का दर्जा देना चाहें, तो राजद के प्रदेश अध्यक्ष अब्दुल बारी सिद्दिकी ही नेता बनने के लिए एक प्रमुख चेहरा हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay