एडवांस्ड सर्च

अकेले ही चुनाव मैदान में है कांग्रेस

बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की शाख भी दांव पर लगी है. या यूं कहें कि राहुल गांधी की शाख दांव पर लगी है तो गलत नहीं होगा. जिस तरह ने राहुल ने पिछले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जिवित किया उसी तरह का कुछ चमत्‍कार वो बिहार में भी दिखाएंगे.

Advertisement
आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 21 October 2010
अकेले ही चुनाव मैदान में है कांग्रेस

बिहार विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की शाख भी दांव पर लगी है. या यूं कहें कि राहुल गांधी की शाख दांव पर लगी है तो गलत नहीं होगा. जिस तरह ने राहुल ने पिछले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को पुनर्जिवित किया उसी तरह का कुछ चमत्‍कार वो बिहार में भी दिखाएंगे.

वैसे तो बिहार में कांग्रेस का अस्तित्‍व नगण्‍य ही है लेकिन इस बार विधानसभा की सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ रही है और उम्‍मीद कर रही है कि जेडीयू-बीजेपी गठबंधन और आरजेडी-लोजपा से ऊब चुके लोग अब कांग्रेस को ही अपना रहनुमां चुनेंगे.

पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने लालू और पासवान से अपना दामन अलग कर लिया था और इस पर विधानसभा चुनाव में लालू-पासवान ने भी कांग्रेस का साथ नहीं देने का फैसला किया. लालू तो यहां तक कह चुके हैं कि सिर्फ जेडीयू-बीजेपी गठबंधन को फायदा पहुंचाने के लिए ही कांग्रेस सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.

इस बार यदि कांग्रेस को वोट मिलेंगे तो इसलिए भी मिलेंगे क्योंकि अब लोगों को कांग्रेस को आज़माए हुए बहुत दिन हो गए. जो मतदाता लालू से नाराज़ हैं और नीतीश से ख़ुश नहीं हैं वो कांग्रेस के साथ आ सकते हैं. ऐसे लोगों की संख्या बड़ी भी हो सकती है.

कांग्रेस की सबसे बड़ी समस्‍या यह है कि उसके पास नीतीश कुमार, लालू प्रसाद यादव और रामविलास पासवान की तरह कोई चर्चित चेहरा नहीं है. वर्तमान में चौधरी महबूब अली क़ैसर बिहार कांग्रेस के अध्‍यक्ष हैं जिन्‍होंने अनिल शर्मा की जगह अध्‍यक्ष का कार्यभार संभाला था.

देखा जाए तो कांग्रेस में सोनिया और राहुल को छोड़कर बिहार में कोई भी चर्चित चेहरा नहीं है और इसका खामियाजा शायद उसे बिहार चुनाव में भुगतना भी पड़े. हालांकि बिहार में कांग्रेस की चुनावी सभाओं में भीड़ खींचने में राहुल गांधी खासे कामयाब दिखते हैं लेकिन लगता नहीं कि इस चुनाव में वो कांग्रेस के लिए बहुत ज्‍यादा वोट जुटाने में कामयाब होंगे. लेकिन शायद भविष्‍य में राहुल गांधी को अपनी इस कवायद का लाभ मिले.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay