एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सिद्धारमैया का लिंगायत-वोक्कालिगा कार्ड हो गया फेल, BJP ने बटोरे वोट

पहले से एंटीइन्कम्बेंसी झेल रहे सिद्धारमैया ने अपने कार्यकाल के दौरान बड़े वोट बैंक वाले वोक्कालिगा समुदाय से विवादों में जाना और फिर लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक दर्जा देने का दांव कांग्रेस की विफलता का सबसे बड़ा कारण बना.
सिद्धारमैया का लिंगायत-वोक्कालिगा कार्ड हो गया फेल, BJP ने बटोरे वोट लिंगायत और वोक्कालिगा पर कांग्रेस का मास्टरस्ट्रोक बना हार का कारण
aajtak.in [Edited by: राहुल मिश्र]बेंगलुरू, 16 May 2018

कर्नाटक विधानसभा चुनावों में कांग्रेस और सिद्धारमैया राज्य के दो सबसे बड़े समुदाय वोक्कालिगा और लिंगायत के वोट खींचने में विफल रहे. कर्नाटक में वोक्कालिगा और लिंगायत कुल आबादी का लगभग 12 से 15 और 17 फीसदी क्रमश: हैं और इसी विफलता के चलते कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता देखना पड़ा.

पहले से एंटीइन्कम्बेंसी झेल रहे सिद्धारमैया ने अपने कार्यकाल के दौरान बड़े वोट बैंक वाले वोक्कालिगा समुदाय से विवादों में जाना और फिर लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक दर्जा देने का दांव कांग्रेस की विफलता का सबसे बड़ा कारण बना.

लिंगायत के गढ़ चामुंडेश्वरी में सिद्धारमैया को जेडीएस के वोक्कालिगा नेता जीटी देवेगौड़ा के हाथों करारी शिकस्त मिली. सिद्धारमैया 36,000 से अधिक वोटों से चुनाव हार गए. इसके अलावा सिद्धारमैया सरकार के वे तीन वरिष्ठ मंत्री भी चुनाव हार गए जिन्होंने लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक दर्जा दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी.

इसे पढ़ें: कर्नाटक में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी बीजेपी, लेकिन किसी को भी बहुमत नहीं

इनमें खनन और भूगर्भ मंत्री विनय कुलकर्णी (धारवाड़ ग्रामीण से), चिकित्सा शिक्षा मंत्री शरन प्रकाश पाटिल (सेदाम से) और उच्च शिक्षा मंत्री बासवराज रायरारड्डी (येलबुर्गा) बीजेपी के उम्मीदवारों से बड़े वोटों के अंतर से हार गए.

इनके अलावा उत्तर कर्नाटक में लिंगायत बाहुल विधानसभाओं के नतीजों से भी साफ है कि लिंगायत समुदाय को बांटने के सिद्धारमैया का मास्टरस्ट्रोक कांग्रेस पार्टी के विरोध में बदल गया और कांग्रेस को ज्यादातर सीटों पर नुकसान उठाना पड़ा.  

वहीं बीजेपी ने केन्द्रीय कर्नाटक, मुंबई कर्नाटक और हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्रों में फायदा पहुंचा है. इन क्षेत्रों में कुल 124 विधानसभा सीटों में लिंगायत वोट बैंक निर्णायक भूमिका में है और सिद्धारमैया सरकार के रुख के चलते इन क्षेत्रों में लिंगायत वोट बीएस येदियुरप्पा के पक्ष में गया.

सेंट्रल कर्नाटक क्षेत्र

विधानसभा चुनाव 2018 में कांग्रेस को सेंट्रल कर्नाटक का अपना मजबूत गढ़ गंवाना पड़ा. इस क्षेत्र में कर्नाटक के टुमकुर, दावनगेरे, चित्रदुर्ग और शिमोगा जिले की विधानसभा सीटें शामिल हैं. इन चुनावों में इस क्षेत्र की 11 सीटों पर कांग्रेस को जीत मिली को 24 सीटें बीजेपी के नाम रही. वहीं जेडीएस को भी इस क्षेत्र में एक भी सीट पर जीत नहीं मिली.

इसे पढ़ें: उल्टा पड़ा कांग्रेस का दांव, टीपू सुल्तान के इलाके में BJP पर बरसे वोट

मुंबई-कर्नाटक क्षेत्र

कर्नाटक के मुंबई-कर्नाटक क्षेत्र में उत्तर कर्नाटक के सात जिले शामिल हैं. 2018 विधानसभा चुनावों के नतीजों में इस क्षेत्र में कांग्रेस को महज 17 सीटें तो बीजेपी को 30 सीटों पर जीत मिली है. वहीं जेडीएस के खाते में 2 और अन्य के खाते में 1 सीट दर्ज हुई है.

हैदराबाद-कर्नाटक क्षेत्र

हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्र राज्य का वह क्षेत्र है जो आंध्रप्रदेश से सटा हुआ है. इस क्षेत्र में कुल 31 विधानसभा सीटें शामिल हैं. इन चुनावों में इस क्षेत्र पर कांग्रेस ने अपनी साख बचाने में थोड़ी सफलता पाई है. कांग्रेस के 15 उम्मीदवार इस क्षेत्र से विजयी रहे जबकि बीजेपी को यहां 13 सीटों पर जीत दर्ज हुई है. जेडीएस ने यहां 3 सीटों पर जीत दर्ज की है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay