एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्या उत्तराखंड का नया CM तोड़ पाएगा वास्तुदोष के इस मिथक को?

कौतूहल का विषय यह हैं कि क्या नए मुख्यमंत्री करीब 30 करोड़ रुपये की लागत से बने इस सरकारी आवास में रहेंगे या फिर अंधविश्वास को लेकर अपने पूर्व मुख्यमंत्रियों के रास्ते पर चलेंगे? पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की बात करें, तो उन्होंने बीजापुर गेस्ट हाउस को ही अपना आवास बना दिया था, लेकिन फिर भी चुनावों में जीत नहीं पाए थे. मुख्यमंत्री हरीश रावत इसे अपशगुनी मानकर इसमें नहीं गए. अब देखना यह है कि प्रदेश के नए मुख्यमंत्री इस मिथक को तोड़ते हैं या नहीं?
क्या उत्तराखंड का नया CM तोड़ पाएगा वास्तुदोष के इस मिथक को? मुख्यमंत्री आवास
देहरादून, 17 March 2017

उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री कल शपथ ग्रहण करेंगे, लेकिन फिलहाल अगर कोई बात सुर्खियों में हैं, तो वह हैं नए मुख्यमंत्री के सरकारी निवास को लेकर. उत्तराखंड के अधिकृत मुख्यमंत्री आवास को आज भी अपने मुख्यमंत्री का इंतजार है. मुख्यमंत्री आवास के बारे में मिथक हैं कि जो भी मुख्यमंत्री यहां रहने आया उसने ही अपनी सत्ता गंवाई.

 

कौतूहल का विषय यह हैं कि क्या नए मुख्यमंत्री करीब 30 करोड़ रुपये की लागत से बने इस सरकारी आवास में रहेंगे या फिर अंधविश्वास को लेकर अपने पूर्व मुख्यमंत्रियों के रास्ते पर चलेंगे? पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की बात करें, तो उन्होंने बीजापुर गेस्ट हाउस को ही अपना आवास बना दिया था, लेकिन फिर भी चुनावों में जीत नहीं पाए थे. मुख्यमंत्री हरीश रावत इसे अपशगुनी मानकर इसमें नहीं गए. अब देखना यह है कि प्रदेश के नए मुख्यमंत्री इस मिथक को तोड़ते हैं या नहीं?

 

मुख्यमंत्री आवास में वास्तुदोष की अफवाहों के कारण करीब सभी पूर्व मुख्यमंत्री इसमें रहने से बचते रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक संपत्ति विभाग ने इस बंगले को संवारने का काम शुरू कर दिया हैं. इस मुख्यमंत्री आवास का निर्माण नारायणदत्त तिवारी के कार्यकाल में शुरू हुआ था, लेकिन पूरा बीजेपी के तत्कालीन मुख्यमंत्री बीसी खंडू़डी के पहले कार्यकाल में हुआ. खंडू़ड़ी ही सर्वप्रथम इस आवास में रहे, लेकिन कुछ ही समय बाद उन्हें पद से हटना पड़ा था.

रमेश पोखरियाल निशंक भी मुख्यमंत्री के रूप में इस आवास में ज्यादा दिनों तक पद पर नहीं रह पाए. भुवन चंद्र खंडू़ड़ी जब सितंबर 2011 में दोबारा मुख्यमंत्री बने, तो करीब छह माह आवास में रहने के बाद उनकी सरकार चुनाव में हार गई. खुद खंडू़ड़ी सीएम होने के बाबजूद कोटद्वार से चुनाव हार गए. इसके बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी और इसके मुखिया बने विजय बहुगुणा. उनको भी यही मुख्यमंत्री आवास मिला और वह भी करीब एक साल और 11 माह तक ही पद पर रह पाए. पार्टी ने ही केदारनाथ आपदा के बाद उन्हें पद से चलता कर दिया. हालांकि वह इस आवास में सबसे ज्यादा समय तक रहने वाले मुख्यमंत्री बने.

हरीश रावत भी अपनी कुर्सी सुरक्षित रखने के लिए इस मुख्यमंत्री आवास में शिफ्ट नहीं हुए, मुख्यमंत्री हरीश रावत ने अपना पूरा कार्यकाल बीजापुर गेस्ट हाउस में ही बिताया. वह कभी भी इस सरकारी आवास में नहीं गए. हालांकि वह भी 2017 में अपनी किस्मत के सितारे नहीं बदल पाए. सीएम आवास के खाली पड़े रहने की वजह से राज्य संपत्ति विभाग काफी परेशान है. बंगले को बनाने में करोड़ों खर्च हुए. इसके अलावा आवास की सुरक्षा, रखरखाव और स्टाफ पर भी मोटी रकम खर्च हो रहा है. साथ ही सीएम के लिए दूसरे स्थान पर आवास की व्यवस्था करने का भार अलग से है. अब देखना होगा कि नए मुख्यमंत्री इस मिथक को तोड़ते हैं या नहीं?

कौन CM कब तक रहा इस मुख्यमंत्री आवास में
· निशंक : मई 2011 से सितंबर 2011
· भुवन चंद्र खंडूड़ी : सिंतबर से मार्च 2012
· विजय बहुगुणा मार्च 2012 से जनवरी 2014

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay