एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस का मजाक बन गया, राहुल भी इस हार के जिम्मेदार: संदीप दीक्षित

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनाव नतीजों में कांग्रेस को मिली करारी हार को लेकर पार्टी के पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस को आज क्लर्क की नहीं, नेताओं की जरूरत है. संदीप दीक्षित ने इसके साथ ही पार्टी नेतृत्व को लेकर शिकायती लहजे में कहा कि हार की जिम्मेदारी राहुल की भी बनती है. यूपी में कांग्रेस मज़ाक बन कर रह गई है.

Advertisement
aajtak.in
कुमार विक्रांत नई दिल्ली, 11 March 2017
कांग्रेस का मजाक बन गया, राहुल भी इस हार के जिम्मेदार: संदीप दीक्षित संदीप दीक्षित बोले- कांग्रेस को क्लर्कों की नहीं, नेताओं की जरूरत.

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनाव नतीजों में कांग्रेस को मिली करारी हार को लेकर पार्टी के पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस को आज क्लर्क की नहीं, नेताओं की जरूरत है. संदीप दीक्षित ने इसके साथ ही पार्टी नेतृत्व को लेकर शिकायती लहजे में कहा कि हार की जिम्मेदारी राहुल की भी बनती है. यूपी में कांग्रेस मज़ाक बन कर रह गई है.

यूपी में कभी कांग्रेस की सीएम उम्मीदवार बनाई गईं शीला दीक्षित के बेटे संदीप कहते हैं, 'कांग्रेस अपनी चुनावी नीतियों को लेकर कंफ्यूज है. यूपी में कांग्रेस 15-20 वर्षों बाद एक मजबूत रणनीति के साथ आगे बढ़ी थी, हमें वैसे ही चलना चाहिए था.' वह कहते हैं, 'हम ये जानते थे कि सरकार नहीं बनने वाली, लेकिन फिर भी 30-40 सीटें तो जीत ही लेते और इससे आगे भी जा सकते हैं.'

देखें यूपी चुनाव के विजयी उम्मीदवारों की पूरी लिस्ट

संदीप कहते हैं, 'लेकिन राहुल जी की उस यात्रा पर अचानक ब्रेक लग गया. क्यों हुआ... क्या हुआ... मैं नहीं जानता.' वह कहते हैं कि अगर सपा से गठबंधन करना भी था, तो उससे पहले दिल्ली से देवरिया तक यात्रा के बाद ब्रेक लगाने का औचित्य नहीं था. इससे हमने भारी नुक्सान कर लिया.

कांग्रेस नेतृत्व और उसकी रणनीति पर सवाल उठाते हुए संदीप कहते हैं, 'कांग्रेस पार्टी एक मजाक बन कर रह गई.' वहीं यूपी में हार की ज़िम्मेदारी के सवाल पर वह कहते हैं, 'यह सबकी जिम्मेदारी बनती है. किसी को छोड़ा नहीं जा सकता, चाहे वह राहल गांधी ही क्यों ना हों... उनकी भी ज़िम्मेदारी है.'

कांग्रेस को अपनी मूल नीतियों पर लौटने की सलाह देते हुए संदीप कहते हैं, 'हर हार के बाद आत्मविश्लेषण की बात की जाती है, लेकिन सच यही है कि आज तक विश्लेषण हुआ ही नहीं. जब तक आप मानेंगे नहीं कि आपने गलत कियाऐ और नए सिरे से रणनीति बनाएंगे, तब तक विश्लेषण का भी क्या फायदा. हो सकता है आप गलत हों या हो सकता है कि आपको नहीं समझ आ रहा हो कि आगे क्या करना है. तो चर्चा करिए. लेकिन जब हार के ज़िम्मेदार लोग ही विश्लेषण करेंगे, तो क्या होगा.

हालांकि इसके बावजूद संदीप दीक्षित की उम्मीदें जिंदा हैं. वह कहते हैं, पंजाब और गोवा में मिली जीत के बाद यह तय है कि कांग्रेस ही सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है. ये मौका भी है कि हम कांग्रेस की पुरानी नीतियों पर लौटें. एक सच्चा आत्मचिंतन करें. नए लोगों को मौका दें, वहीं हमें सत्ता में वापस पहुंचाएंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay