एडवांस्ड सर्च

BJP जीती तो कांग्रेस भी हारी नहीं, गुजरात से दोनों के लिए सीख

बीजेपी तो गुजरात में 150 सीटें जीतने के दावे कर रही थी, लेकिन गुजरात की जनता ने इन बड़बोले दावों की हवा निकालकर बीजेपी को 99 के फेर में फंसा दिया. जनता ने गुजरात को पूर्ण बहुमत वाली सरकार तो दी, साथ ही मजबूत विपक्ष भी दे दिया.

Advertisement
aajtak.in
राम कृष्ण अहमदाबाद/नई दिल्ली, 20 December 2017
BJP जीती तो कांग्रेस भी हारी नहीं, गुजरात से दोनों के लिए सीख कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पीएम मोदी

गुजरात की जनता ने गजब का फैसला दिया है. बीजेपी तो गुजरात में 150 सीटें जीतने के दावे कर रही थी, लेकिन गुजरात की जनता ने इन बड़बोले दावों की हवा निकालकर बीजेपी को 99 के फेर में फंसा दिया. जनता ने गुजरात को पूर्ण बहुमत वाली सरकार तो दी, साथ ही मजबूत विपक्ष भी दे दिया.

दरअसल गुजरात में BJP की ये वाकई अभूतपूर्व जीत है, जैसी जीत पहले नहीं हुई, वैसी जीत है. 22 सालों में सबसे कम फासले से जीत. 2002 में गुजरात की 127 विधानसभा सीटें जीतने वाली बीजेपी तो इस बार तीन अंकों तक भी नहीं पहुंच पाई और 99 के फेर में फंस गई. गुजरात की जनता ने गजब कर दिया, सत्ता तो दे दी, लेकिन मजबूत विपक्ष भी दे दिया, तभी तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हारकर भी आस्तीनें चढ़ा रहे हैं.

गुजरात में बीजेपी की सरकार बनने की अगर नौबत आई है तो उसका सबसे ज्यादा क्रेडिट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ही जाता है, तो वहीं कांग्रेस अगर गुजरात में इतनी मजबूत बनकर उभरी तो उसके पीछे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की बहुत बड़ी भूमिका है. सही मायने में पहली बार गुजरात ही राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आमने-सामने का रणक्षेत्र बना, दोनों ने चुनाव प्रचार में जमकर पसीना बहाया तो नतीजे भी उसी के मुताबिक आए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 34 रैलियां कीं, जबकि राहुल गांधी ने गुजरात में 30 रैली की. प्रधानमंत्री मोदी गुजरात की 134 सीटों तक पहुंचे, तो वहीं राहुल गांधी 120 सीटों तक पहुंच पाए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे वाली 134 सीटों में से 72 पर बीजेपी की जीत हुई, जबकि जिन 120 सीटों तक राहुल गांधी पहुंचे, उनमें से 62 सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशी की जीत हुई.

कामयाबी का आंकड़ा देखें तो मोदी की कामयाबी का प्रतिशत 54 रहा, जबकि राहुल अपनी पार्टी को 52 फीसदी कामयाबी दिलवा पाए. गुजरात का ये चुनाव कई मायने में अभूतपूर्व रहा. इस चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस दोनों को कई सबक मिले, जाति और धर्म के आधार पर राजनीति को भी सबक मिला. विरोध और समर्थन का सारा गणित बदल गया.

मुस्लिम बहुत 18 सीटों बीजेपी ने 9 सीटें जीत लीं, जबकि कांग्रेस 7 सीटें ही जीत पाई. इस बार 31 फीसदी पाटीदार मतदाता बीजेपी से खिसककर कांग्रेस के साथ हो लिए, जिसके चलते बीजेपी को 15 सीटों का नुकसान हुआ. पाटीदार बहुल 54 सीटों में से कांग्रेस ने 30 सीटें जीतीं, जबकि बीजेपी को सिर्फ 23 सीटों मिलीं.

पाटीदारों के छिटकने की वजह से सौराष्ट्र में बीजेपी ने 12 सीटें गंवा दीं. कांग्रेस ने जातीय आधार पर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल, ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को अपने साथ लिया था. लेकिन हार्दिक पटेल के प्रभाव वाली 37 सीटों में से 25 पर बीजेपी काबिज हो गई, जबकि कांग्रेस को सिर्फ 9 सीटें मिलीं.

ओबीसी बहुल 38 सीटों की लड़ाई में बीजेपी को 17 और कांग्रेस को 21 सीटें मिलीं. दलित बहुल 7 सीटों में से बीजेपी को 7 पर जीत मिली, जबकि 6 सीटों पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की. गुजरात के चुनाव में कांग्रेस का चुनाव अभियान तेजी से आगे बढ़ा था, लेकिन मणिशंकर अय्यर के एक बयान ने दूसरे चरण में पासा ही पलट दिया.

हालांकि कांग्रेस ने मणिशंकर अय्यर के बयान पर डैमेज कंट्रोल करने की कोशिशें बहुत कीं, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव में इसे मुद्दा बना लिया. मोदी ने नीच का मुद्दा उस सूरत और आसपास के इलाकों में भुनाया, जहां उनका सबसे ज्यादा विरोध हो रहा था. नतीजा ये हुआ कि बीजेपी को सूरत और आसपास की 16 सीटों में से 15 पर जीत मिल गई.

कांग्रेस के पास इस चुनाव में खोने के लिए कुछ नहीं था, यही वजह है कि पूरे चुनाव में राहुल गांधी फ्रट फुट पर थे, मोदी सरकार की नीतियों पर जमकर हमला बोलते रहे. राहुल गांधी की बातें गुजरात की जनता ने सुनीं, ठीक से सुनीं. कांग्रेस को गुजरात में सत्ता भले नहीं मिल पाई, लेकिन बीजेपी के लिए ये चुनाव बहुत बड़ा सबक है.

गुजरात में बीजेपी के सबसे मजबूत युवा वोट बैंक में कांग्रेस सेंध लगा चुकी है. गुजरात में इस बार 18 से 40 साल की उम्र के 38 फीसदी वोटर कांग्रेस के पाले में आ गए, जबकि 2012 में गुजरात के सिर्फ 25 फीसदी युवा कांग्रेस के साथ थे. यही नहीं, ग्रामीण इलाकों में कांग्रेस ने जबरदस्त धमक जमाई है. गुजरात के ग्रामीण इलाकों की 127 सीटों में से कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने 68 सीटों पर कब्जा जमाया है. जबकि बीजेपी इन इलाकों में 14 सीटें गंवाकर सिर्फ 56 सीटों पर सिमट गई. गुजरात के चुनावों के ये नतीजे बहुत कुछ कहते हैं। बीजेपी को सत्ता तो सौंपी, लेकिन 99 के फेर में फंसाकर आगे के लिए कड़ा संदेश भी दे दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
SMS करें GJNEWS और भेजें 52424 पर. यह सुविधा सिर्फ एयरटेल, वोडाफोन और आइडिया सब्सक्राइबर्स के लिए ही उपलब्ध है. प्रीमियम एसएमएस चार्जेज लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay