एडवांस्ड सर्च

पुडुचेरी में कांग्रेस-डीएमके गठबंधन ने हासिल की जीत

पुडुचेरी में कांग्रेस-द्रमुक गठबंधन ने गुरुवार को स्पष्ट बहुमत हासिल करते हुए 30 सदस्यीय विधानसभा में 17 सीटें जीत लीं. अपनी पार्टी एआईएनआरसी की हार के बाद पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन रंगासामी ने इस्तीफा दे दिया.

Advertisement
aajtak.in
बबिता पंत पुडुचेरी , 19 May 2016
पुडुचेरी में कांग्रेस-डीएमके गठबंधन ने हासिल की जीत एन रंगासामी को इस बार कड़ी चुनौती

पुडुचेरी में कांग्रेस-द्रमुक गठबंधन ने गुरुवार को स्पष्ट बहुमत हासिल करते हुए 30 सदस्यीय विधानसभा में 17 सीटें जीत लीं. अपनी पार्टी एआईएनआरसी की हार के बाद पुडुचेरी के मुख्यमंत्री एन रंगासामी ने इस्तीफा दे दिया.

रंगासामी ने यहां राज निवास पर उप राज्यपाल एके सिंह को अपना इस्तीफा सौंपा. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने अपनी कैबिनेट का इस्तीफा सौंप दिया है.

पश्चिम बंगाल चुनाव के नतीजे जानने के लिए यहां क्लिक करें

कांग्रेस से अलग हुए थे रंगासामी
इस जीत के साथ ही कांग्रेस ने साल 2011 में एन रंगासामी की एआईएनआरसी के हाथ मिली पराजय का भी बदला ले लिया. रंगासामी ने कांग्रेस से अलग होकर इस पार्टी का गठन किया था और सत्तासीन हुए थे.

रंगासामी को जोरदार झटका
चुनाव आयोग के अनुसार इस केंद्र शासित प्रदेश की 30 सीटों में से कांग्रेस को 15 और उसकी सहयोगी द्रमुक को दो सीटे मिली हैं. मुख्यमंत्री रंगासामी के लिए यह बड़ा झटका है जो चौथी बार मुख्यमंत्री बनने की कोशिश में थे. उनकी पार्टी एआईएनआरसी को महज आठ सीटें मिली हैं.

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के नतीजे जानिए

एआईएडीएमके को चार सीटें
शुरू में सत्तारूढ़ एआईएनआरसी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर चल रही थी, लेकिन बाद में इस गठबंधन ने रंगासामी की पार्टी पर बढ़त बना ली. अकेले चुनाव लड़ने वाली एआईएडीएमके को चार सीटें मिली हैं. एक सीट निर्दलीय उम्मीदवार के खाते में गई है.

कांग्रेस के वरिष्ठ एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री वी. नारायणसामी ने कहा कि पुडुचेरी का जनादेश यह दिखाता है कि लोग एआईएनआरसी के शासन से तंग आ चुके थे. उन्होंने कहा कि विधायक दल का नेता चुनने के लिए बैठक का फैसला पार्टी अलाकमान करेगा.

कहीं जीत, कहीं हार
रंगासामी ने इंदिरानगर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के उम्मीदवार वी. अरूमगम को 3,404 मतों के अंतर से पराजित किया. एआईएनआरसी, भाजपा और एआईएडीएमके ने अकेले चुनाव लड़ा जबकि कांग्रेस और द्रमुक ने गठबंधन किया था. कांग्रेस ने 21 और द्रमुक ने शेष सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ई. वलसराज को माहे सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार वी रामचंद्रन से हार का सामना करना पड़ा. डीएमडीके, एमडीएमके, माकपा, भाकपा और आरसपी के गठबंधन पीडब्ल्यूए ने 28 सीटों पर चुनाव लड़ा, लेकिन उसे एक भी सीट नहीं मिली.

केरल चुनावों के नतीजे जानने के लिए यहां क्लिक करें

अगले मुख्यमंत्री को लेकर अटकलें तेज
कांग्रेस-द्रमुक गठबंधन को बहुमत मिलने के बाद अब ध्यान मुख्यमंत्री के चयन पर केंद्रित होगा. इस गठबंधन ने किसी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया, हालांकि नमसिवायम और वैतिलिंगम इस पद के लिए प्रबल दावेदार माने जा रहे हैं.

साल 2011 के विधानसभा चुनाव में रंगासामी की ऑल इंडिया एनआर कांग्रेस (एआईएनआरसी) और जयललिता की एआईएडीएमके ने गठबंधन किया था. एआईएनआरसी को 15 और एआईएडीएमके को पांच सीटें हासिल हुई थीं. कांग्रेस को सात और डीएमके को दो सीटें मिली थीं. एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार विजयी हुआ था.

ये भी पढ़ें: असम चुनाव के नतीजे

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay