एडवांस्ड सर्च

ये हैं दिल्‍ली की राजनीति के 'शहजादे'

इन दिनों राजनीति के गलियारे में 'शहजादे' शब्‍द खूब तरक्‍की कर रहा है. नरेंद्र मोदी के भाषणों के अनुसार राहुल गांधी शहजादे हैं. अगर यहीं से परिभाषा ली जाए तो जिनकों विरासत में राजनीति मिली है वह शहजादा है. खैर, देश की सत्ता शीर्ष में ना सही, लेकिन दिल्ली में शहजादों की कमी नहीं है. राजनीति में परिवारवाद को भले कितना भी नकारा जाए, लेकिन विरासत को आगे ले जाने के लिए नई पौध तैयार है.

Advertisement
Assembly Elections 2018
आज तक वेब ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 30 November 2013
ये हैं दिल्‍ली की राजनीति के 'शहजादे'

इन दिनों राजनीति के गलियारे में 'शहजादे' शब्‍द खूब तरक्‍की कर रहा है. नरेंद्र मोदी के भाषणों के अनुसार राहुल गांधी शहजादे हैं. अगर यहीं से परिभाषा ली जाए तो जिनकों विरासत में राजनीति मिली है वह शहजादा है. खैर, देश की सत्ता शीर्ष में ना सही, लेकिन दिल्ली में शहजादों की कमी नहीं है. राजनीति में परिवारवाद को भले कितना भी नकारा जाए, लेकिन विरासत को आगे ले जाने के लिए नई पौध तैयार है.

शहजादे यानी वे जो राजनीति में अपने लिए प्राथमिक सदस्यस्ता लेकर आए हैं। दिल्ली के शहजादों की बात करें तो इनमें अजय मल्होत्रा, जगप्रवेश कुमार, प्रवेश साहिब सिंह वर्मा, विनय मिश्रा और राजीव बब्बर आते हैं.

'है खुद पर भरोसा बनाएंगे अपनी पहचान'
अजय मल्होत्रा. उम्र 52 साल. 80 साल के बीजेपी के वरिष्ठ नेता वी के मल्होत्रा ग्रेटर कैलाश की अपनी राजनैतिक विरासत अपने इस बेटे को सौंप चुके हैं. अजय बीजेपी से ग्रेटर कैलाश के उम्मीदवार बने हैं. जाहिर है इनका पहला परिचय वीके मल्होत्रा के बेटे के तौर पर ही होगा लेकिन अजय आश्‍वस्‍त हैं कि अपनी पहचान बना लेगें.

अजय का अपना अलग ही अंदाज है. अजय काफी स्टायलिश हैं. यकीनन पिता के कामों का उनकों फायदा मिलेगा और इलाके के लोगों को भी इसपर कोई आपत्ति नहीं है.

शर्मीले स्‍वभाव के जगप्रवेश
जगप्रवेश कुमार. 1984 के सिख विरोधी दंगों में आरोपी कांग्रेसी नेता सज्जन कुमार के बेटे हैं. वह पिछले कुछ वर्षों से खुद को इसी वक्त के लिए तैयार कर रहे थे. स्वभाव से थोड़े शर्मीले हैं, लेकिन राजनीति इतनी झिझक तो खोल ही देती है कि खुद कुछ कर दिखाने के लिए पिता के नाम पर वोट मांग सके.

गले में माला, होटों पर मुस्कान. हाथ जोड़े जगप्रवेश गलियों में घूमते हैं. इन्हें लोगों से जगप्रवेश के ज्यादा सज्जन कुमार के बेटे के तौर पर मिलवाया गया है. सांसद चाचा रमेश कुमार भी अपने इस भतीजे के लिए पैरवी कर रहें हैं, लेकिन जगप्रवेश कहते हैं, 'पिता के नाम ने यहां तक पंहुचाया है, आगे अपनी पहचान बनानी है।'

पिता जैसी छवि बनाने की कोशिश
प्रवेश साहिब सिंह वर्मा. बीजेपी के दिवंगत नेता साहिब सिंह के बेटे हैं. पिता की मौत के बाद उमड़ी सहानुभूति की लहर में बीजेपी ने इन्हें पिछले चुनावों में टिकट नहीं दिया. लोकसभा टिकट चाह रहें प्रवेश को आखिरकार लंबे इंतजार के बाद विधानसभा का टिकट मिला. प्रवेश जानते हैं कि उन्‍हें बीजेपी में मंत्री रहे पिता की छवि का फायदा मिलेगा. उनकी कोशिश खुद की पिता जैसी छवि बनाने की होगी.

ट्रैक सूट में ही पदयात्रा के लिए निकल पड़े प्रवेश वर्मा का दिन-रात आजकल इलाके को समर्पित है. उन्‍हें खाना खाने की भी फुरसत नहीं है. पिता साहिब सिंह वर्मा बीजेपी के बड़े कद्दावर नेता थे, इसलिए बेटे को पिता के नाम का फायदा मिलता है. प्रवेश यह मानते हैं लेकिन साथ ही कहते हैं कि उन्‍होंने बीते 7 वर्षों में पार्टी के लिए बहुत कुछ किया है, इसीलिए पार्टी ने उन्हें इस लायक समझा.

राजनीति के साथ ही इलाके के लिए भी हैं नए
विनय मिश्रा. पूर्वांचली वोट की खातिर पालम से मैदान मे उतार दिए गए महाबल मिश्रा के बेटे विनय युवा हैं. अंदाज पिता जैसा है, लेकिन वे राजनीति और इस इलाके दोनों के लिए नए हैं. वह मानते हैं कि विरासत में मिली राजनीति में सिक्का जमाने के लिए अभी उन्‍हें मेहनत करनी पड़ेगी. महाबल मिश्रा का अपना अलग ही अंदाज है सो उनके बेटे का भी. ये भी राजनीति की युवा आस हैं. गली मोहल्ले में अपने लिए वोट अपील कर रहें हैं.

युवाओं से कर रहे नौकरी का वादा
इसी तरह तिलक नगर से बीजेपी नेता ओपी बब्बर के बेटे राजीव बब्‍बर भी राजनीति में किस्‍मत आजमाने निकल पड़े हैं. इन्‍हें भी पिता के नाम का फायदा मिलेगा. एक पिता के लिए यह बड़े फख्र की बात होती है कि उसका बेटा उसके दिखाए रास्ते पर चले. लेकिन जनता के लिए तब मुश्किलें शुरू होती हैं जब रास्ता आम ना होकर खास बन जाता है.

राजीव बब्बर भी उन शहजादों में से एक हैं जिन्हें बड़े आराम से पिता की राजनीति विरासत में मिल गई है। हालांकि राजीव का कहना है कि वो पिछले 23 साल से काम कर रहे हैं. पदयात्राओं में वह ना केवल बुजुर्गों का आशार्वाद लेते हैं बल्कि सड़क किनारे खड़े ठेली वाले को भी वह उसके जैसा होने का अहसास दिलाते हैं। उनके क्षेत्र में 25 साल से कम उम्र के युवाओं की संख्या लगभग 30 हजार है. राजीव जीतने के बाद सभी को रोजगार देने की बात कर रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay