एडवांस्ड सर्च

महिलाओं से रमन सरकार का मुकाबला

कांग्रेस ने नक्सली हमले में मारे गए नेताओं की पत्नियों को मैदान में उतार दिलचस्प किया मुकाबला, क्या मिल पाएगा सहानुभूति वोट?

Advertisement
संजय दीक्षितरायपुर, 03 December 2013
महिलाओं से रमन सरकार का मुकाबला

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में बीजेपी के दिग्गजों को इस बार महिला कांग्रेसियों से चुनौती मिल रही है. प्रदेश में कांग्रेस ने अन्य पार्टियों के मुकाबले सबसे ज्यादा कुल 14 महिलाओं को टिकट दिया है. पार्टी ने पिछले 25 मई को बस्तर के जीरम घाटी में नक्सली हमले में मारे गए तीन कांग्रेस नेताओं की पत्नियों को भी मैदान में उतारा है.
इनमें सूबे की हाइप्रोफाइल सीट राजनांदगांव भी शामिल है. यहां से पूर्व विधायक उदय मुदलियार की पत्नी 42 वर्षीया अलका मुदलियार 61 वर्षीय मुख्यमंत्री रमन सिंह को टक्कर दे रही हैं. उदय भी जीरम घाटी हमले में मारे गए थे. 2008 के विधानसभा चुनाव में रमन ने उदय को 33,000 मतों से हराया था. लेकिन  इस बार कांग्रेस को पूरी उम्मीद है कि अलका को सहानुभूति वोट मिलेंगे. इस वजह से यहां का मुकाबला दिलचस्प हो गया है. हालांकि, इससे पहले अलका राजनीति में सक्रिय नहीं रही हैं. दरअसल कांग्रेस की एक रणनीति यह भी है कि रमन को उनके ही इलाके में पूरे दम-खम के साथ घेरा जाए. नामांकन दाखिल करने राजनांदगांव पहुंचे रमन से जब पत्रकारों ने उनके प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार के बारे में पूछा तो उन्होंने यह कह कर टाल दिया कि अलका उनकी छोटी बहन जैसी हैं.
रमन कैबिनेट के सबसे कद्दावर मंत्री बृजमोहन अग्रवाल और अमर अग्रवाल के खिलाफ भी कांग्रेस ने महिला उम्मीदवारों को उतारा है. बृजमोहन के खिलाफ रायपुर दक्षिण सीट से रायपुर की महापौर किरणमयी नायक और बिलासपुर में अमर के खिलाफ  वहां की महापौर वाणी राव उन्हें टक्कर दे रही हैं. राजस्व मंत्री दयालदास बघेल के खिलाफ  भी कांग्रेस ने नवगढ़ से अनीता पातरे को उतारा है. रायपुर से लगी धरसींवा सीट से बेवरजेज कॉर्पोरेशन के चेयरमैन और बीजेपी के तेजतर्रार नेता देवजी भाई पटेल के खिलाफ अनीता योगेंद्र शर्मा को टिकट दिया गया है. इनके पति भी जीरम घाटी हमले में मारे गए थे. ऐसा करके कांग्रेस ने पटेल की मुश्किलें भी बढ़ा दी हैं.
बीजेपी के प्रवक्ता रसिक परमार कहते हैं, ''सीएम या मंत्रियों के खिलाफ कोई भी खड़ा हो जाए, लोगों ने बीजेपी को फिर से जीताने का मन बना लिया है. इसलिए इससे कोई फर्क नहीं पड़ता. '' वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश बिस्सा का कहना है, ''बीजेपी ने सिर्फ 11 महिलाओं को टिकट दिया है जबकि हमने 14 महिलाओं को. जमीनी पकड़ वाली कांग्रेस की महिला उम्मीदवारों से सत्ताधारी पार्टी डर गई है. '' बहरहाल, मुकाबला जोरदार है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay