एडवांस्ड सर्च

खूनी पंजे वाले बयान पर नरेंद्र मोदी ने चुनाव आयोग को भेजा जवाब, कहा- इरादा गलत नहीं था

बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में चुनाव प्रचार के दौरान की गई खूनी पंजा की अपनी टिप्पणी पर चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब देते हुए आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से इनकार किया है.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
भाषा[Edited By: प्रवीण]नई दिल्ली, 20 November 2013
खूनी पंजे वाले बयान पर नरेंद्र मोदी ने चुनाव आयोग को भेजा जवाब, कहा- इरादा गलत नहीं था नरेन्द्र मोदी

बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने छत्तीसगढ़ में चुनाव प्रचार के दौरान की गई खूनी पंजा की अपनी टिप्पणी पर चुनाव आयोग के नोटिस का जवाब देते हुए आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन से इनकार किया है.

आयोग को निर्धारित समय सीमा से एक दिन पहले मंगलवार शाम सौंपे नौ पृष्ठों के अपने जवाब में मोदी ने कहा है कि उन्होंने अपने भाषण में कांग्रेस की नीतियों और कामकाज की आलोचना कर सिर्फ अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का इस्तेमाल किया है. इस तरह से उन्होंने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया है. मोदी ने कहा, 'मेरा स्पष्ट विचार है कि मैंने इसके प्रावधानों का उल्लंघन नहीं किया.'

मोदी ने कहा कि उन्होंने खुद काफी आलोचनाओं का सामना किया है जिसमें उन्हें दी गई गालियां भी शामिल हैं. फिर भी उन्होंने राजनीति की मर्यादा कायम रखी और अपने किसी प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ कोई व्यक्तिगत हमला नहीं किया.

मोदी ने चुनाव आयोग को एक जवाब भेजा है, वहीं वरिष्ठ बीजेपी नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल पार्टी उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी के नेतृत्व में मुख्य चुनाव आयुक्‍त वीएस संपत और चुनाव आयोग के दो आयुक्तों से बुधवार को मुलाकात कर मोदी के जवाब की एक प्रति आधिकारिक तौर पर सौंपेगा.

बीजेपी नेता कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सहित पार्टी के अन्य नेताओं के खिलाफ भी शिकायत कर उन पर आदर्श आचार संहिता का लगातार उल्लंघन करने का आरोप लगाएंगे. मोदी ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस और उसके नेताओं के खिलाफ कोई असभ्य आरोप नहीं लगाया है तथा जो कुछ कहा गया वह लोगों की जानकारी में है.

उन्होंने कहा कि चुनाव में किसी प्रतिद्वंद्वी की आलोचना लाजमी है और खूनी पंजा, तथा जालिम हाथ टिप्पणियां हिन्दी के प्रचलित मुहावरे हैं. उन्होंने कहा कि इनका इस्तेमाल प्रचलित मुहावरे के तौर पर किया गया. गौरतलब है कि चुनाव आयोग ने मोदी से उनकी खूनी पंजा टिप्पणी पर 20 नवंबर तक जवाब देने का नोटिस जारी किया था.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay