एडवांस्ड सर्च

पार्टी की अलग पहचान तलाशते कल्‍याण सिंह

दो बार उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री रह चुके कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 में अलीगढ़ में हुआ था. एक सफल एवं योग्य अध्यापक रहे कल्‍याण सिंह ने वर्ष 1962 में राष्ट्र नेता एवं विख्यात राजनैतिक चिन्तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों से प्रेरित होकर राजनीति में प्रवेश किया.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
आजतक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 20 January 2012
पार्टी की अलग पहचान तलाशते कल्‍याण सिंह कल्‍याण सिंह

दो बार उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री रह चुके कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 में अलीगढ़ में हुआ था. एक सफल एवं योग्य अध्यापक रहे कल्‍याण सिंह ने वर्ष 1962 में राष्ट्र नेता एवं विख्यात राजनैतिक चिन्तक पंडित दीनदयाल उपाध्याय के विचारों से प्रेरित होकर राजनीति में प्रवेश किया.

कल्‍याण सिंह संसदीय विषयों के अच्छे ज्ञाता होने के साथ ही प्रभावशाली वक्ता भी हैं. वर्ष 1967, 1969, 1974, 1977, 1985, 1989, 1991, 1993, 1996 व 2002 में दसवीं बार उत्तर प्रदेश विधान सभा के सदस्य निर्वाचित हुए. उत्तर प्रदेश मंत्रिमंडल में 4 जुलाई, 1977 से 11 फरवरी, 1979 तक स्वास्थ्य मंत्री रहे.

कल्‍याण सिंह 1991 तथा 1997 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने. वर्ष 1980 में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री बने. कल्‍याण सिंह 2004 और 2009 में लोकसभा चुनाव भी जीते.

जनसंघ एवं भारतीय जनता पार्टी के जिला स्तर से लेकर प्रदेश स्तर के विभिन्न संगठनात्मक पदों पर रहते हुए उन्होंने अपनी संगठन क्षमता और कार्य कुशलता की जबरदस्त छाप छोड़ी. किसानों, मजदूरों और जनता की समस्याओं के लिए सात बार जेल गये तथा आपातकाल में 20 माह तक जेल की कठोर सजा काटी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay