एडवांस्ड सर्च

टेरर का टेंशन: सोशल मीडिया के जरिए हो रहा है नौजवानों का ब्रेनवॉश

मुंबई पुलिस कमिश्नर अहमद जावेद ने कहा कि हमारे राज्य से चार नौजवान आईएसआईएस में शामिल होने के लिए गए थे. लोगों के ब्रेनवॉश के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है. वहां इस तरह के कंटेंट डाले जा रहे है, जिससे लोग भ्रमित हो रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मुकेश कुमार]नई दिल्ली, 12 December 2015
टेरर का टेंशन: सोशल मीडिया के जरिए हो रहा है नौजवानों का ब्रेनवॉश एजेंडा आज तक के पांचवें सत्र का विषय 'टेरर का टेंशन' था

एजेंडा आज तक के दूसरे दिन के पांचवें सत्र का विषय 'टेरर का टेंशन' था. इस सत्र में मुंबई पुलिस कमिश्नर अहमद जावेद, बंगलुरु पुलिस कमिश्नर एन. एस. मेघारिख और दिल्ली पुलिस कमिश्नर भीम सिंह बस्सी मेहमान थे. आजतक के एंकर गौरव सावंत ने इन मेहमानों से बेबाक बातचीत की.

मुंबई पुलिस कमिश्नर अहमद जावेद ने कहा कि हमारे राज्य से चार नौजवान आईएसआईएस में शामिल होने के लिए गए थे. लोगों के ब्रेनवॉश के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जा रहा है. वहां इस तरह के कंटेंट डाले जा रहे है, जिससे लोग भ्रमित हो रहे हैं.

दक्षिण भारत में आईएसआईएस के खतरे पर बंगलुरु पुलिस कमिश्नर एन. एस. मेघारिख ने कहा कि सोशल मीडिया के साथ ही स्थानीय मुद्दों की वजह से लोग इस आतंकी संगठन की तरफ आकर्षित हो रहे हैं. हमें उन पर भी ध्यान देना होगा. <

पढ़े-लिखे लड़के जो अच्छा कमाते हैं, वो भी आतंक की तरफ जा रहे हैं इस सवाल पर दिल्ली पुलिस कमिश्नर भीम सिंह बस्सी ने कहा कि भारत के लिए आतंक कोई नई बात नहीं है. 80 के दशक से ही इसको हम झेल रहे हैं, जो आज भी जारी है.

सोशल मीडिया से आतंकियों को बढ़ावा
उन्होंने कहा कि इंडियन मुजाहिदीन के रूप में भारतीय मुस्लिम युवाओं का एक नया चेहरा सामने आया था. भारत नौजवानों को गुमराह करके आतंकी गतिविधियों में शामिल किया गया. सोशल मीडिया के जरिए इस तरह की गतिविधियों को बढ़ावा मिला है.

आतंकी गतिविधियों पर रहती है नजर
बस्सी ने कहा कि यह कोई जरूरी नहीं है कि जिसके पास पैसा हो वो आतंक की तरफ नहीं बढ़ेगा. आतंकी गतिविधियों में शामिल लोगों पर हमारी नजर बनी रहती हैं. जो पकड़े गए हैं, उन पर भी हमारी नजर थी. जब सिर से पानी उपर निकल गया, तो इनको गिरफ्तार कर लिया गया.

माड्यूल बेस्ड हमले करते हैं आतंकी
खतरा हमेशा बना रहता है. क्या आज की तारीख में दिल्ली और बंगलुरु जैसे शहर सुरक्षित हैं? यह एक बड़ा सवाल है. इस पर अहमद जावेद ने कहा कि सभी बड़े शहरों में हुए हमले माड्यूल बेस्ड थे. वह चाहे मुंबई में 26/11 का हमला हो या हालही में पेरिस में हुआ हमला.

इंडियन पुलिस को किया जाता है बदनाम
हमने आतंक का दंश तब झेला है, जब दुनिया इसे समझती भी नहीं थी. इंडियन पुलिस को काफी बदनाम किया जाता रहा है. यह एक फैशन बन गया. कहा गया कि यहां कम्युनिटी फ्रेंडली पुलिस की जरूरत है. पर सच ये है कि इंडिया की पुलिस का मॉडल कम्युनिटी फ्रेंडली ही है.

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay