एडवांस्ड सर्च

#Agenda15: अखिलेश बोले, असहिष्‍णुता पर बहस से पहले विचार करें इन मुद्दों को हवा कौन देता है

हिंदी जगत का महामंच 'एजेंडा आज तक' जारी है. तीसरे सेशन में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से दादरी से लेकर बिहार परिणाम तक विभिन्न मुद्दों पर हुई चर्चा:

Advertisement
aajtak.in[Edited By : ऋचा मिश्रा] 11 December 2015
#Agenda15: अखिलेश बोले, असहिष्‍णुता पर बहस से पहले विचार करें इन मुद्दों को हवा कौन देता है उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव

हिंदी जगत का महामंच 'एजेंडा आज तक' जारी है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में इस कार्यक्रम की शुरुआत वंदे मातरम के साथ हुई. पहले सत्र में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और कांग्रेस नेता अश्विनी कुमार से बातचीत हुई. दूसरे सत्र में कांग्रेस नेता आनंद शर्मा, माकपा की वृंदा करात और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से चर्चा हुई. चर्चा का विषय रहा- ठहर गई मोदी लहर? तीसरे सेशन में उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से दादरी से लेकर बिहार परिणाम तक विभिन्न मुद्दों पर खुलकर चर्चा हुई.

बिहार के चुनाव परिणाम को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में अखिलेश यादव बोले कि हमें सीख की जरूरत नहीं है. हमने उत्‍तर प्रदेश को बेहतर बनाने के लिए कई अच्‍छे निर्णय लिए जिसका असर आपको आने वाले समय पर दिखाई देगा. सूखे की हमने पूरी तैयारी की, केंद्र ने हमारी कोई मदद नहीं की है.

सैफई महोत्‍सव को लेकर होने वाले बड़े खर्च पर पूछे गए सवाल में उन्‍होंने कहा कि मुझे लगता है कि अगर सैफई में कार्यक्रम होता है, मैं नेता जी का जन्‍मदिन मनाता हूं तो ये मुद्दा क्‍यों बनाया जाता है. जन्‍मदिन ऐसे ही मनाया जाता है, ये आप सब जानते हैं. लेकिन समाजवादी पार्टी ने एेसा कर दिया तो मुद्दा बन जाता है.

असहिष्‍णुता के मुद्दे पर अखिलेश यादव ने कहा कि इस मुद्दे को बढ़ाने से पहले ये सोचें कि बहस कहां से आई? विचार इस पर करें. हम चाहते हैं कि देश के लोग साथ रहें. दादरी में जो हुआ, वो देश की बुराई है सिर्फ उत्‍तर प्रदेश की नहीं. बतौर मुख्‍यमंत्री मैंने कानून के दायरे में रहकर सबकुछ किया. मुद्दा यह है कि समाज को कौन बांट रहा है. समाज बंटेगा तो नुकसान मेरा होगा. बदायूं मामले पर भी मीडिया ने सही रुख नहीं अपनाया.

दादरी मामले में कानून के अंदर जितना करना चाहिए था हमने वह किया. पुलिस ने पूरा सहयोग किया. सीबीआई जांच की जरूरत क्‍यों होगी जब दोषी पकड़े गए हैं. लोगों को सरकार पर पूरा भरोसा है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay