एडवांस्ड सर्च

'हिंदी हैं हम' सेशन की खास झलकियां...

'एजेंडा आज तक' के मंच पर हिंदी के अलग-अलग रंग-ढंग पर चर्चा हुई. 'हिंदी हैं हम' सत्र में अपने-अपने क्षेत्र के तीन नामचीन हस्ति‍यों- अन्नू कपूर, कुमार विश्वास और नीलेश मिश्रा ने आज तक की तारीफ करते हुए इस ठोस पहल की खुले दिल से सराहना की. तीनों वक्ताओं ने दर्शकों के साथ हिंदी को लेकर अपने अनुभव साझा किए. पेश हैं इस सत्र की कुछ खास झलकियां...

Advertisement
परवेज सागर [Edited By: अमरेश सौरभ]नई दिल्ली, 14 December 2014
'हिंदी हैं हम' सेशन की खास झलकियां... 'एजेंडा आज तक' का सेशन 'हिंदी हैं हम'

'एजेंडा आज तक' के मंच पर हिंदी के अलग-अलग रंग-ढंग पर चर्चा हुई. 'हिंदी हैं हम' सत्र में अपने-अपने क्षेत्र के तीन नामचीन हस्ति‍यों- अन्नू कपूर, कुमार विश्वास और नीलेश मिसरा ने आज तक की तारीफ करते हुए इस ठोस पहल की खुले दिल से सराहना की. तीनों वक्ताओं ने दर्शकों के साथ हिंदी को लेकर अपने अनुभव साझा किए. पेश हैं इस सत्र की कुछ खास झलकियां...

1. सत्र की शुरुआत में कवि कुमार विश्वास ने गर्मजोशी के साथ सवालों के जवाब दिए. एक सवाल के जवाब में कुमार विश्वास ने प्रधानमंत्री के हिंदी वाचन की सराहना की.

2. कुमार विश्वास ने एक कवि सम्मेलन के बारे में बताया कि उनके निमंत्रण में कुछ शर्तें थीं. उन्होंने कहा कि मैंने उन्हें पत्र लिखकर कहा कि यदि आप इतनी शर्तों के साथ कवि को बुलाना चाहते हैं, तो कृपया मुझे न बुलाकर किसी बांसुरीवादक को बुलाएं, ताकि कोई स्वर कठोर न निकले.

3. अन्नू कपूर ने अपने अंदाज में सवाल उठाया कि आज भी देश में हिंदी वाले अगर सही बात कर रहा है, तो उसे गलत कहा जाता है और अंग्रेजी वाला अगर गलत बात भी करता है, तो उसकी तारीफ होती है. अजीब हालात हैं.

4. कुमार विश्वास मंच से प्रधानमंत्री की तारीफ करते नजर आऐंगे, हालांकि बीच-बीच में उन्होंने नीलेश मिसरा की प्रशंसा भी की.

5. अन्नू कपूर ने भगवान कृष्ण का एक संस्मरण सुनाते हुए अपने जोश का प्रदर्शन किया और कहा कि हिंदी का विस्तार करो और आगे बढ़ो. दर्शकों की तालियों ने उनका समर्थन जताया.

6. निलेश मिसरा ने भाषा के मुद्दे को आगे बढ़ाते हुए साफ किया कि हमें हीन भावना से नहीं, बल्कि गर्व से आगे बढ़ने की जरूरत है. उन्होंने ग्रामीण परिवेश पर शुरू किए गए एक समाचार पत्र का भी जिक्र किया.

7. कुमार विश्वास ने कहा कि अब तो हिंदी बड़ी भाषा है, लाखों के चेक देती है. उन्होंने कई लेखकों, पत्रकारों और साहित्यकारों पर निशाना साधते हुए कह दिया कि सरकारों से चेक लेने वाले हिंदी के पक्ष की बातें कैसे कर सकते हैं?

8. अन्नू कपूर ने एक गांव के युवक की शहर की युवती के प्रति रुझान को बड़े नाटकीय अंदाज़ में जाहिर किया. अन्नू ने उन हिंदीभाषियों को भी आड़े हाथों लिया, जो भारतीय होकर भी अपनी ही भाषा के शब्दों को ठीक से नहीं बोलते. मिसाल के तौर पर योग को योगा, राम को रामा आदि.

9. अन्नू कपूर ने पश्चिमी गायिका शकीरा को पसंद करने के बारे में कहा कि जो उन्हें पंसद नहीं करते, वो दो ही तरह के लोग हो सकते हैं. एक तो साधु-महात्मा, दूसरे वो, जिनका लाइसेंस कैंसिल है. अन्नू के इस जुमले पर दर्शक खूब खिलखिलाए.

10. इस सत्र का अंत कुमार विश्वास की कविता 'हम हैं देसी' और अन्नू कपूर के गीत 'कहनी है एक बात हमें' और नीलेश मिसरा ने अपने गीत 'अपना गांव कनेक्शन है' से किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay