एडवांस्ड सर्च

निजीकरण हर समस्या का समाधान नहीं, बुलेट ट्रेन के लिए चीन-जापान साथ: सुरेश प्रभु

एजेंडा आजतक के 'प्रभु भरोसे रेल' सेशन में रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे की दशा दिशा बदलने को लेकर कई मुद्दों पर अपनी बात रखी. पढ़िए रेलमंत्री से बातचीत के प्रमुख अंश..

Advertisement
aajtak.in
बबिता पंत [Edited by: नंदलाल शर्मा]नई दिल्ली, 16 December 2014
निजीकरण हर समस्या का समाधान नहीं, बुलेट ट्रेन के लिए चीन-जापान साथ: सुरेश प्रभु Suresh Prabhu

सवाल: आप कभी किसी ट्रेन के जनरल अपार्टमेंट में चढ़े क्‍या?
जवाब: मैं नीचे से ही ऊपर आया हूं. इसलिए स्थिति जानता हूं. मेरा मानना है कि रेलवे को ठीक करने के लिए निवेश बहुत जरूरी है. समाजवादियों की लड़ने की आदत है, 22 से हल्ला बोलेंगेः लालू

सवाल: क्‍या रेल मंत्री के तौर पर आपके लिए दिल्‍ली स्‍टेशन पर वाईफाई लगाना ज्‍यादा जरूरी है या मानवरहित क्रॉसिंग की सुरक्षा बढ़ाना?
जवाब: सारे काम पैरलेल होने चाहिए. वाईफाई और हाईफाई में फर्क है. आज 90 करोड़ मोबाइल यूजर हैं और इसमें से ज्‍यादातर लोग वाईफाई चाहते हैं. इसका ये मतलब नहीं कि हम मानवरहित क्रॉसिंग की अवहेला करेंगे.

सवाल: आपके पास आउट ऑफ द बॉक्‍स क्‍या है?
जवाब: हम मोबाइल पर टिकट बुक करने की व्‍यवस्‍था शुरू करने पर काम कर रहे हैं. रेलवे में खाने और लॉन्‍ड्री भी बड़ी चुनौती है. हम मैकेनाइज्‍़ड किचन बनाने पर विचार कर रहे हैं ताकि लोगों को स्‍वच्‍छ खाना मिल सके. इसी के साथ बेस्‍ट लीनन की लॉन्‍ड्री भी मिल सके. हम आईटी के इस्‍तेमाल से कस्‍टमर सर्विस में सुधार लाएंगे. इसके लिए निवेश चाहिए और निवेश के लिए पैसे. किराया भी बढ़ेगा और सुविधाएं भी. बड़े पैमाने पर निवेश कर सर्विस को बेहतर बनाएंगे. फिर लोग खुद मदद के लिए आगे आएंगे.

सवाल: भारत में बुलेट ट्रेन की रफ्तार क्‍या होगी?
जवाब: हमारा टारगेट जापान और चीन की बुलेट ट्रेन जितना ही है. अब देखना होगा कि भारतीय परिस्थितियों में ये कितना मुमकिन हो पाएगा? धर्मांतरण कराने वाले इसके खिलाफ कानून की मांग कर रहे हैंः येचुरी

सवाल: आप निवेश कैसे बढ़ाएंगे?
जवाब: मैंने जिस दिन रेल मंत्री का कार्यभार संभाला उसी दिन मैंने कह दिया था कि एक भी टेंडर मेरे पास नहीं आना चाहिए. फैसला लेने का अधिकार जीएम के पास होना चाहिए. वो सिर्फ रेल मंत्रालय तक सीमित नहीं रहना चाहिए. अगर यह साफ हो कि हमारा काम करने का मकसद क्‍या है तो काम काफी अच्‍छा होगा. रेलवे सुधार के लिए सबसे अहम चीज है नतीजे की चाह. इसके लिए जो भी जरूरत पड़ेगी सरकारी करेगी और लोग हमारा साथ जरूर देंगे.

सवाल: हम हमेशा भारतीय रेलवे के भरोसे यात्रा करते हैं. क्‍या कभी ऐसा होगा कि हम किसी प्राइवेट कंपनी की ट्रेन में बैठेंगे?
जवाब: मैं इस आइडियोलॉजिकल डिबेट में नहीं जाना चाहता कि हर चीज़ का हल प्राइवेटजाइशन है. एजेंडा आज तक 2014 : हां, मैं भी शादी कर रहा हूं: सुखविंदर सिंह

सवाल: इसका मतलब आप निजीकरण नहीं करेंगे?
जवाब: भरातीय रेलवे में निजीकरण कहां हो और कैसा हो इसके लिए पॉलिसी बन रही है.

सवाल: रेलवे में भर्ती को लेकर बड़ी धांधली होती है. क्‍या रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड में सुधार होगा?
जवाब: हम ऑनलाइन रेलवे रिक्रूटमेंट की व्‍यवस्‍था पर काम कर रहे हैं. शायद इससे रिक्रूटमेंट में जो धांधलियां होती हैं वो न हों.

सवालः क्या अब रेलवे की योजनाएं महाराष्ट्र केंद्रित होगी.
जवाब: मैं देश का रेल मंत्री हूं. हां कहीं न कहीं से आता हूं तो राज्‍य का नाम जुड़ जाता हूं. लेकिन मैं सब राज्‍यों के लिए काम करूंगा. चाहे वो बंगाल हो, बिहार हो या फिर महाराष्‍ट्र.

सवाल: आपकी वेश भूषा की बड़ी चर्चा होती है. इससे फायदा होता है क्‍या?
जवाब: मेरी वेश-भूषा कॉलेज टाइम से ही ऐसी ही है. जब मैं कॉलेज गया, तो लोगों ने कहा कि सिगरेट पीनी चाहिए. इस पर मैंने कहा कि कॉलेज में आ गए हैं इसलिए सिगरेट पीना क्‍या बात हुई. तो राजनीति में आने पर वेश-भूषा बदलने की जरूरत नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay