एडवांस्ड सर्च

एजेंडा आजतक में बोले खुर्शीद- कहां गए दागे गए गोले, क्या टूट गया पाकिस्तान का मुंह?

एजेंडा आजतक के तीसरे सेशन 'धूम मची है' में कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद और बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर देश और दुनिया के रुझानों पर चर्चा की. दोनों नेताओं के बीच प्रधानमंत्री को लेकर देश दुनिया में मची धूम पर जमकर नोंक झोंक हुई.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
सौरभ द्विवेदी [Edited by: नंदलाल शर्मा]नई दिल्ली, 13 December 2014
एजेंडा आजतक में बोले खुर्शीद- कहां गए दागे गए गोले, क्या टूट गया पाकिस्तान का मुंह? Shahnawaz Hussain and Salman Khursheed

एजेंडा आजतक के तीसरे सेशन 'धूम मची है' में कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद और बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर देश और दुनिया के रुझानों पर चर्चा की. दोनों नेताओं के बीच प्रधानमंत्री को लेकर देश दुनिया में मची धूम पर जमकर नोंक झोंक हुई.

सवालः क्या मोदी की धूम है?
सलमान खुर्शीदः राजनीतिक परिणाम आने के बाद मोदी की धूम से इनकार करना समझदारी नहीं होगी. लेकिन मुझे खेद है कि उनकी जीत में किसी और के योगदान को नकारा जा सकता है. मीडिया ने भी उनके नाम को आगे बढ़ाया. ये बात और है कि आज सरकार के लोग छोटी सी आलोचना पर भी मीडिया पर हमला कर रहे हैं.

सवालः क्या मीडिया राहुल गांधी को भी पीएम बना सकती है?
खुर्शीदः डेमोक्रेसी में मीडिया का बड़ा रोल है. अमेरिका में मीडिया घरानों ने रोनाल्ड रीगन को प्रेसिडेंट बनाकर ही छोड़ा.
शाहनवाजः ये यह यकीन करने को तैयार नहीं हैं कि मोदी जी को जनता ने पीएम बनाया. बनाने की बात तो ऐसी है कि सोनिया गांधी ने मनमोहन सिंह को पीएम बनाया था. कांग्रेस इनकार की मुद्रा में है. रही मीडिया की बात. तो सब तय कर लें कि राहुल गांधी को पीएम बनाना है. फिर भी कामयाबी नहीं मिलेगी. वैसे भी मीडिया ने मोदी का विरोध ही ज्यादा किया है.

सवालः विदेशों में नरेंद्र मोदी की धूम है. मगर कांग्रेस इसमें भी नुक्ताचीनी करती है. कहती है भाड़े की भीड़ है?
खुर्शीदः हम कहते हैं कि पूरे विश्व में भारत के लोग जाकर बसे. उन्हें वहां का हिस्सा बनना चाहिए. मगर ये पीएम जाकर फिर से दीवार खड़ी कर रहे हैं. कि ये भारतीय हैं और ये भारतीय नहीं हैं. और रही विदेश में मोदी के शो के दौरान भाड़े की भीड़ के इल्जाम की बात. तो मैं आज भी अपनी बात पर कायम हूं. और मोदी के शो में भाड़े की भीड़ के सबूत मुझे बीजेपी वालों से ही मिले हैं. ये बात और है कि मैं उन्हें यहां लेकर नहीं आया.
शाहनवाजः सलमान साहब एक और डिबेट रख लें. सारे डॉक्युमेंट लेकर आएं और अपनी बात साबित करें. मोदी आपके राजनीतिक विरोधी हैं. मगर आपके देश के पीएम भी हैं. जब वह विदेश जाते हैं तो पीएम के तौर पर जाते हैं. अगर लोग उन्हें सुनने जाते हैं, तो आपको फख्र होना चाहिए.
खुर्शीदः हां, हमें फख्र है पीएम पर. हम कोई ऐसी बात नहीं करते, जिससे देश की गरिमा को आंच न आए. मगर पीएम के विदेश दौरों की बीजेपी को अब चिंता हुई. मनमोहन सिंह के समय नहीं हुई.
शाहनवाजः हमने भी ध्यान रखा. मगर आपको मोदी जी से हर जगह दिक्कत है. वह राज्यों में चुनाव प्रचार करते हैं, तो आपको दिक्कत है. सार्क या ग्रुप 8 मीटिंग में जाएं तो दिक्कत है.
खुर्शीदः हमें दिक्कत विदेश में भारतीयों के बीच मोदी के संदेश से है. वहां इमिग्रेशन को लेकर डिबेट चल रहा है. हमें इस डिबेट की दिशा से नुकसान हो सकता है. वहां जाकर आप लोगों को याद दिलाएं कि आप भारतीय हैं. यहां भले ही रह रहे हैं. इससे अप्रवासियों को नुकसान होगा.

सवालः मगर अप्रवासी भारतीय तो देश के लिए एक प्रेशर लॉबी की तरह काम कर सकते हैं?
खुर्शीदः हां. हमें भी 123 एग्रीमेंट में ऐसी लॉबी की मदद मिली. मगर अब जो हो रहा है, वह अलग है.
शाहनवाजः आपके वक्त तो विदेश में भारतीयों की जो स्थिति हुई. खडगे मामला भूल गए. आप ही तो विदेश मंत्री थे.

सवालः ओबामा को रिपब्लिक डे में गेस्ट बुलाना, क्या ये मोदी की सफलता नहीं?
खुर्शीदः ओबामा की अमेरिका में क्या स्थिति है. चुनाव में हार रहे हैं. तो इसे मास्टर स्ट्रोक क्यों माना जाए. नवाज शरीफ आए थे, तब भी ऐसा ही शोर मचा था.
शाहनवाजः मालदीव के प्रेजिडेंट को बुलाते, तब कांग्रेस खुश होती क्या. ओबामा के आने में क्या बुराई है.
खुर्शीदः आप बात न बदलें ओबामा आ रहे हैं. अच्छी बात है. मगर कोई पहली बार तो भारत नहीं आ रहे हैं.

सवालः चीन, जापान या अमेरिका के राष्ट्राध्यक्षों से मिलना कोई पहली बार तो नहीं हो रहा. फिर बीजेपी में उत्साह क्यों?
शाहनवाजः पहले, सिर्फ डिप्लोमैसी थी. मोदी सरकार में विदेश नीति नजर आती है. यूपीए के दौरान तो जाते थे विदेश, खा पीकर आ जाते थे.

खुर्शीदः अरे आप हमारी नहीं, अटल जी की तो तारीफ कर दीजिए.
शाहनवाजः उनकी तारीफ तो पूरी पार्टी और वजीर ए आजम मोदी भी करते हैं. इसके लिए हमें कांग्रेस की सलाह नहीं चाहिए.

सवालः अब पाकिस्तान को सरकार मुंह तोड़ जवाब दे रही है. ऐसा लोगों का मानना है.
खुर्शीदः क्या वाकई पाकिस्तान का मुंह टूट गया. कहां गए यहां से दागे गए गोले.
शाहनवाजः क्या हमने फूल बरसाए. कम से कम पाकिस्तान के मसले पर तो हमें आमने सामने नहीं खड़ा हो जाना चाहिए. हमने तो उन्हें बुलाकर बिरयानी नहीं खिलाई.
खुर्शीदः तो क्या आपने शरीफ को भूखा भेज दिया था. क्या मुशर्रफ को खाना नहीं खिलाया. आप तो ये बताइए कि उनके एक गोले के बदले जो दस गोले दागे, वे कहां गए.
शाहनवाजः पाकिस्तान के पास बहुत बीमारियां हैं. कुछ लाइलाज हैं. मोदी उनके हर मर्ज का इलाज और जवाब रखते हैं. रही नुकसान की बात, तो आप पाकिस्तान से पूछिए, कैसे हमने इस बार उनके होश ठिकाने लगाए.
खुर्शीदः बातों से कुछ नहीं होगा. बताइए, क्या किया. हमने पाकिस्तान के मसले पर साफ कर दिया था कि कश्मीर का मसला द्विपक्षीय है. अब यूएन वाले हमें सलाह दे रहे हैं. क्योंकि मोदी सरकार ने दूरदृष्टि नहीं रखी. कभी बातचीत की बात करते हैं, कभी स्थगित कर देते हैं.
शाहनवाजः पाकिस्तान अपनी मुश्किलों से घिरा है. हम उससे अपनी शर्तों पर ही बात करेंगे.

सवालः एक राय यह है कि पाकिस्तान को किनारे कर बाकी मुल्कों से बेहतर संबंध बनाने चाहिए?
खुर्शीदः ये चुनी सरकार है. कोई भी नीति अपनाएं. जिससे देश को नुकसान न हो. जब सही समझें साल दो साल में. देश को भी अपनी नीति बताएं. लेकिन सच सच बात बताएं. दस गोले और मुंहतोड़ पर न अटकें.
शाहनवाजः आपको दस गोलों से तकलीफ क्यों है. अगली बार बीस मार देंगे.

सवालः इनवेस्टर सेंटिमेंट की बात करते हैं. बाजार में बहुत उत्साह है मोदी सरकार को लेकर?
खुर्शीदः आप देखिए, असल में क्या कहीं बेहतरी हो रही है. सेंटिमेंट तो सिर्फ हवा में दिख रहा है.
शाहनवाजः कल आपको एजेंडा आज तक में जेटली जी ने विस्तार से बताया. अब हमारा पहला प्रॉपर बजट आने वाला है. उम्मीद बनाए रखिए. सेंटिमेंट बदला है. हालात भी बदलेंगे.
खुर्शीदः एक बुनियादी सवाल है, जो आरबीआई ने उठाया. मेक इन इंडिया की बात हो रही है. मगर दुनिया में बाजार नहीं उठ रहे हैं. क्या यहां सोशल पीस होगा. क्या इनवेस्टर यहां होंगे.
शाहनवाजः आप लोग आ ही गए उस मुद्दे पर. सोशल पीस की चिंता क्या सिर्फ आपको है. आप संसद के इसी सत्र की बात करें. कांग्रेस ने नीतियों पर कितनी बात की. सिर्फ हंगामा करते रहे. कभी हमको कहते थे जय श्री राम न बोलो. अब गांधी मूर्ति के नीचे बैठकर हे राम करते हैं. हमें खुशी है कि सेकुलरिज्म के साथ इनके मुंह पर राम का नाम तो आया.
खुर्शीदः आप भूल गए. हे राम और राम राज्य कांग्रेस के साथ पुराना जुड़ा है. आप राम पर कहां बचे हैं. आप तो हे मोदी और हाय मोदी पर आ गए हैं.
शाहनवाजः नरेंद्र मोदी लोगों के दिल में बसते हैं. वह हमारे नेता हैं. आप भी हे राहुल हे राहुल करिए. किसने रोका है. हमारे पास मोदी हैं. आपके पास कौन हैं.

सवालः 'हे मोदी' पर वोट मिल रहे हैं बीजेपी को, हे राहुल कहने पर तो कांग्रेस के बचे खुचे वोट भी जा सकते हैं.?
खुर्शीदः इनको ये धोखा है कि जैसे ये भारत का आखिरी चुनाव था और इन्होंने जीत लिया.
शाहनवाजः एक चुनाव हुआ, राष्ट्र जीता. महाराष्ट्र जीता. नंबर वन हरियाणा कहते थे. आपको नंबर तीन पर पहुंचा दिया. अब बाकी राज्यों की बारी है.

सवालः एनडीए में मंत्री रहे अरुण शौरी का कहना है कि सिर्फ प्लेटों की आवाज आ रही है. खाना कहीं नजर नहीं आ रहा.?
शाहनवाजः लोगों को आवाज सुनाई दे रही है. कांग्रेस को नहीं सुनाई दे रही. नतीजे मिलते रहेंगे.
खुर्शीदः लखनऊ में ये तहजीब है. चौके से ज्यादा आवाज आती है, तो लोगों को पता चल जाता है कि खाना कम है, रोककर खाओ.
शाहनवाजः दस साल में आप लोगों ने राशन ही नहीं छोड़ा. अब हम आए हैं, खेती करेंगे. फिर से अन्न भंडार भरेंगे. पिछले मकान मालिक ने विरासत में सिर्फ कंगाली ही दी है देश की जनता के लिए.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay